साप्ताहिक करेंट अफेयर्स- 9 से 15 दिसंबर, 2019

1620
current affairs in Hindi

दुनिया की 34वीं सबसे ताकतवर महिला बनीं निर्मला सीतारमण

  • फोर्ब्स पत्रिका की ओर से हाल ही में जारी दुनिया की 100 सबसे शक्तिशाली महिलाओं की सूची में भारत की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को 34वां स्थान प्राप्त हुआ है। सूची में लगातार नौवें वर्ष जर्मनी की चांसलर एंजेला मार्केल शीर्ष पर बनी हुई हैं। दूसरे स्थान पर यूरोपियन सेंट्रल बैंक की अध्यक्ष क्रिस्टीन लेगार्ड और तीसरे स्थान पर US House of Representatives की स्पीकर नैन्सी पेलोसी हैं। वहीं, बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना 29वें स्थान पर हैं।
  • भारत सें HCL की CEO व कार्यकारी निदेशक रोशनी नादर मल्होत्रा 54वें स्थान पर, जबकि बायोकॉन की CEO व MD किरण मजूमदार शॉ 65वें स्थान पर हैं। वर्ष 1917 में शुरू हुई फोर्ब्स पत्रिका के वर्तमान में संपादक रेंडेल लेन फोर्ब्स और प्रधान संपादक स्टीव फोर्ब्स हैं।

केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय विधेयक, 2019 लोकसभा से हुआ पारित

  • लोकसभा ने केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय विधेयक, 2019 को पारित कर दिया है, जिसके तहत तीन संस्कृत विश्वविद्यालय केंद्रीय विश्वविद्यालय में तब्दील किये जा रहे हैं। भोपाल स्थित राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान, नई दिल्ली के श्री लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय संस्कृत विद्यापीठ एवं आंध्र प्रदेश के तिरुपति में स्थापित राष्ट्रीय संस्कृत विद्यापीठ को इस विधेयक के जरिये केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाने की प्रक्रिया अब शुरू कर दी जायेगी।
  • दुनियाभर में करीब 100 देशों के 250 से भी अधिक विश्वविद्यालयों में वर्तमान में संस्कृत की पढ़ाई हो रही है और जर्मनी में अकेले संस्कृत पढ़ाने वाले 14 विश्वविद्यालय मौजूद हैं।

बोरिस जॉनसन की कंजर्वेटिव पार्टी को ब्रिटेन के आम चुनाव में मिला बहुमत

  • कंजर्वेटिव पार्टी ने ब्रिटेन के आम चुनावों में बोरिस जॉनसन की अगुवाई में बहुमत हासिल कर लिया है। कंजर्वेटिव पार्टी को हाउस ऑफ कॉमन्स में 650 में से 365 सीटों पर जीत हासिल हुई, जबकि लेबर पार्टी केवल 203 सीटें ही अपने नाम कर पाने में कामयाब हो सकी है। अपने चुनाव प्रचार के दौरान बोरिस जॉनसन ने ब्रेक्सिट मुद्दें पर जारी गतिरोध को समाप्त करने को लेकर बड़े दावे किये थे।
  • वर्ष 2008 से 2016 तक लंदन के मेयर और 2016 से 2018 तक विदेश सचिव भी रहने वाले बोरिस जॉनसन का जन्म वर्ष 1964 में 9 जून को हुआ था। वर्ष 2016 में 23 जून को यूनाइटेड किंगडम में ब्रेक्सिट पर हुए जनमत संग्रह में यहां के निवासियों के यूरोपीय संघ से बाहर निकलने के पक्ष में वोट करने के बाद इसके अगले दिन 24 जून को ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरून को इस्तीफा देना पड़ा था और फिर 13 जुलाई, 2016 को थेरेसा मे मार्गरेट थैचर के बाद यूके की दूसरी महिला प्रधानमंत्री बनी थीं, जिनके इस्तीफे के बाद बोरिस जॉनसन यहां के प्रधानमंत्री बन गये थे।

आंध्र प्रदेश विधानसभा ने पारित किया दिशा विधेयक

  • महिलाओं के खिलाफ अपराध से जुड़े मामलों के 21 दिनों के अंदर निपटाने के नियम वाले आंध्र प्रदेश दिशा अधिनियम आपराधिक कानून (आंध्र प्रदेश संशोधन) अधिनियम, 2019 को आंध्र प्रदेश विधानसभा ने पारित कर दिया है। दोषी पाये जाने पर इसमें फांसी की भी सजा का प्रावधान है। नये कानून के अंतर्गत अब सात दिनों के अंदर यौन अपराधों के मामलों की जांच पूरी करनी होगी और साथ ही चार्जशीट दाखिल किये जाने से 14 कार्यदिवसों के अंदर मुकदमे की प्रक्रिया भी पूरी की जायेगी।
  • विधानसभा से पारित नया कानून कानून सजा के खिलाफ अपील को छह महीने में निपटाने की बात करता है। इसके तहत IPC में तीन नए खंड 354E, 354F और 354G जोड़े जाने वाले हैं, जो क्रमश: महिलाओं के उत्पीड़न, बच्चों के यौन उत्पीड़न और बच्चों के खिलाफ बढ़ रहे यौन हमले से संबंधित हैं।

भारत में ‘ला लीगा’ के ब्रांड एम्बेसडर बनाये गये रोहित शर्मा

  • स्पेनिश फुटबॉल लीग ‘ला लीगा’ का भारत में ब्रांड एम्बेसडर भारत के धाकड़ बल्लेबाज रोहित शर्मा को बनाया गया है। दुनिया की सबसे लोकप्रिय फुटबॉल लीग्स में से एक ला लीगा ने पहली बार किसी गैर-फुटबॉलर को ब्रांड एम्बेसडर बनाया है। ला लीगा के फुटबॉल क्लबों रियाल मेड्रिड और एफ.सी. बार्सिलोना भारत में काफी लोकप्रियता हासिल है।
  • स्पेन में खेली जाने वाली ला लीगा की शुरुआत वर्ष 1929 में हुई थी और इसमें सर्वाधिक 33 बार खिताब जीतने वाला क्लब रियाल मेड्रिड है, जबकि इसमें सर्वाधिक गोल करने का रिकॉर्ड लिओनेल मेसी (417 गोल) के नाम है।

नागरिकता संशोधन विधेयक को राष्ट्रपति से मिली मंजूरी

  • भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा भी संसद से पारित नागरिकता (संशोधन) विधेयक, 2019 पर हस्ताक्षर किये जाने के बाद इस विधेयक के जरिये नागरिकता अधिनियम, 1955 में संशोधन का रास्ता साफ हो गया है। भारत के उत्तर-पूर्वी राज्यों में इसे लेकर व्यापक विरोध-प्रदर्शन भी चल रहा है।
  • विधेयक में पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में प्रताड़ित हिंदू, जैन, सिख, इसाई, बौद्ध एवं पारसी नागरिकों को भारत की नागरिकता प्रदान करने का तो प्रावधान है ही, साथ में देश के किसी भी राज्य में इसके लाभार्थियों को निवास की सुविधा प्रदान की जाएगी। इसके अलावा नागरिकता अधिनियम, 1955 में अवैध रूप से रह रहे अप्रवासियों को या तो जेल भेजने या फिर उन्हें उनके देश वापस भेजने का भी प्रावधान किया गया है।

कनाडा में पूरी तरह से बिजली से चलने वाले दुनिया के पहले विमान ने भरी उड़ान

  • कनाडा के वैंकुवर से पूरी तरह से बिजली से संचालित दुनिया के पहले वाणिज्यिक विमान ने उड़ान भरकर इतिहास रच दिया। प्रशांत महासागर के किनारे ऊंची-ऊंची पर्वत चोटियों वाले क्षेत्र में इस विमान ने उड़ान भरी। नई तकनीक के इस्तेमाल से एयरलाइनों का काफी खर्च बचने के साथ कार्बन उत्सर्जन भी शून्य होगा।
  • सियेटल की इंजीनियरिंग कंपनी मैग्निक्स ने हार्बर एयर के साथ साझेदारी में काम करते हुए विमान के मोटर का डिजाइन तैयार किया है। हार्बर एयर की ओर से वैंकुवर, विस्लर स्की रिजॉर्ट और नजदीक के द्वीपों व तटीय इलाकों में रहने वाले करीब पांच लाख लोगों को हर वर्ष यात्रा की सुविधा मुहैया कराई जाती हे।

ग्रेटा थनबर्ग चुनी गईं टाइम पर्सन ऑफ द ईयर 2019

  • जलवायु संरक्षण के लिए स्कूल स्ट्राइक की संस्थापिका 16-वर्षीया ग्रेटा थनबर्ग को टाइम पत्रिका ने टाइम पर्सन ऑफ द ईयर 2019 चुना है। इस तरह से थनबर्ग इस सम्मान को प्राप्त करने वाली सबसे कम उम्र की व्यक्ति बन गई हैं। ग्रेटा थनबर्ग से पहले वर्ष 1927 में 25-वर्षीय चार्ल्स लिंडबर्ग को पर्सन ऑफ द ईयर चुना गया था।
  • स्वीडन के स्टॉकहोम में 03 जनवरी 2003 को जन्मीं थनबर्ग पर्यावरण व जलवायु परिवर्तन को लेकर दिए गए अपने भाषणों की वजह से दुनियाभर में पहचानी गई हैं। कार्बन उत्सर्जन को कम करने की मांग को लेकर थनबर्ग स्वीडन की संसद के सामने प्रदर्शन भी कर चुकी हैं।

नया देश बनने की ओर बोगनविले

  • पापुआ न्यू गिनी से स्वतंत्र होने के लिए दक्षिण प्रशांत क्षेत्र में स्थित बोगनविले ने जनमत संग्रह में इसके पक्ष में वोट किया है। इस जनमत संग्रह में अलग देश के पक्ष में 98 फीसदी लोगों ने, जबकि विरोध में केवल 2 फीसदी लोगों ने ही मतदान किया।
  • वैसे तो जनमत संग्रह का परिणाम बाध्यकारी नहीं है, मगर यदि बोगनविले और पापुआ न्यू गिनी के नेताओं के बीच समझौता हो जाता है, तो संभव है कि बहुत जल्द विश्व के मानचित्र पर बोगनविले नामक एक और देश देखने को मिल जाए। आजादी के संघर्ष में बोगनविले में अब तक 20 हजार से भी अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.