नियो बैंक क्या है और ये कैसे काम करता है?

220
what is Niyo bank

PLAYING x OF y
Track Name
00:00

00:00


नियो बैंक सुनने में भले ही नया लग रहा हो, लेकिन धीरे-धीरे देश में इनकी संख्या बढ़ती जा रही है और आने वाले समय में ये परंपरागत बैंकों को कड़ी टक्कर दे सकते हैं।

जब हम किसी बैंक के बारे में बात करते हैं, तो हमारे जेहन में उस जगह की तस्वीर उभरती है, जहां हम पैसे जमा करने और पैसे निकालने के लिए जाते हैं। पैसो के लेन-देन के अलावा और भी कई तरह के काम निपटाने के लिए हम बैंकों का रुख करते हैं, लेकिन अब नियो बैंक के रूप में अपने देश में एक खास प्रकार के बैंकों की संख्या तेजी से बढ़ रही है, जो वास्तव में कहीं भी मौजूद नहीं हैं, पर ये ऑनलाइन डिजिटल तरीके से काम कर रहे हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि बिना किसी शाखा के भी नियो बैंक पूरी तरह से परंपरागत बैंकों वाली सभी सुविधाएं दे रहे हैं। वह भी बेहद तीव्र गति से और अत्यंत कम समय में।

नियो बैंक क्या है, नियो बैंक के फायदे क्या हैं और नियो बैंक किस तरह से काम करता है, इन सभी के बारे में इस लेख में हम आपको विस्तार से बताने जा रहे हैं।

नियो बैंक क्या है?

  • नियो बैंक को आप यूं समझ सकते हैं कि यह एक ऐसा बैंक है, जो पूरी तरह से डिजिटल तरीके से काम करता है। बैंक संबंधी हमारी सभी तरह की जरूरतों को यह बैंक पूरा तो करता है, मगर इसकी कोई भी शाखा नहीं होती है। नियो बैंक में सभी तरह के लेन-देन केवल ऑनलाइन ही होते हैं।
  • नियो बैंक परंपरागत बैंकों से थोड़े अलग तरीके से काम करते हैं। नियो बैंक ऐसे ग्राहकों को ढूंढते हैं, जो कि तकनीकों के अच्छे जानकार होते हैं और बैंक संबंधी कार्यों को तकनीकों का इस्तेमाल करके अच्छी तरीके से निपटा सकते हैं। साथ ही नियो बैंक ऐसे ग्राहकों की ओर अपना रुख करते हैं या फिर ऐसे ग्राहकों को अपनी ओर आकर्षित करने की कोशिश करते हैं, जो कि बैंक में जाकर अपना काम कराने की बजाय ऑनलाइन ही कंप्यूटर या मोबाइल फोन के जरिए इन कामों को निपटाना चाहते हैं।

नियो बैंक कैसे काम करता है?

  • नियो बैंक के काम को आप इस तरीके से समझ सकते हैं कि ये मुख्य रूप से आउटसोर्सिंग वाले काम ज्यादा करते हैं। इन बैंकों को वास्तव में किसी तरह का निवेश करने की जरूरत ही नहीं पड़ती है। इसके बावजूद ये बहुत ही आसानी से बिल्कुल बड़े-बड़े परंपरागत बैंकों की तरह ही आपको सेवाएं मुहैया कराते हैं।
  • नियो बैंक में डिजिटल तरीके से मिलने वाली सुविधाएं बेहद आसान होती हैं, जिनके लिए आपको न तो ज्यादा समय देना पड़ता है और न ही ज्यादा कोशिश करनी पड़ती है।
  • यह बात जरूर है कि वर्तमान में सिर्फ ऑनलाइन पोर्टल पर ही काम कर रहे नियो बैंकों को भारतीय रिजर्व बैंक यानी कि आरबीआई की तरफ से लाइसेंस नहीं प्रदान किया गया है, मगर जिस तरीके से नियो बैंक भारत में अपने पांव पसार रहे हैं और जिस तरह से इनकी सुविधाओं का इस्तेमाल करने वाले ग्राहकों की तादाद मै इजाफा हो रहा है, ऐसे में इस बात की प्रबल संभावना है कि आने वाले समय में आरबीआई की ओर से इन्हें लाइसेंस प्रदान किया जा सकता है।
  • नियो बैंक की सुविधाओं का इस्तेमाल करने के लिए स्मार्टफोन सबसे जरूरी चीज है, क्योंकि इन बैंकों की सभी सुविधाएं ऑनलाइन ऐप के जरिए ही ग्राहकों तक पहुंचती हैं।

नियो बैंक की भारत और दुनियाभर में मौजूदगी

  • दुनियाभर में नियो बैंक का कारोबार तेजी से बढ़ता ही जा रहा है। सिय्योन मार्केट रिसर्च की 2018 की रिपोर्ट में यह बात सामने आई थी कि दुनियाभर में नियो बैंक सेक्टर की कीमत तब 18.6 बिलियन डॉलर तक पहुंच गई थी। अनुमान लगाया गया था कि वर्ष 2026 तक इसकी कीमत करीब 400 बिलियन डॉलर तक भी पहुंच सकती है।
  • भले ही हम में से बहुत से लोगों के लिए नियो बैंक अभी भी कोई नई चीज हो, पर भारत में तो लगभग 16 साल पहले वर्ष 2006 में ही नियो बैंक की शुरुआत हो गई थी।
  • तब फिनो पेमेंट्स बैंक खुला था, जो कि एक नियो बैंक था और ऋषि गुप्ता इसके प्रमुख थे। तब से अब तक नियो बैंकों की संख्या भारत में तेजी से बढ़ती गई है और वर्तमान में इस वक्त देश में कुल 27 नियो बैंक काम कर रहे हैं।
  • आपको यह जानकर भी ताज्जुब हो सकता है कि रोजाना लगभग 5 करोड़ से ज्यादा ग्राहकों तक इन नियो बैंकों की सेवाएं पहुंच रही हैं। साथ ही इनके ग्राहकों की संख्या में भी तेजी से बढ़ोतरी देखी जा रही है।
  • नियो बैंक का इस्तेमाल ज्यादातर तकनीकों के जानकार लोग ही करते हैं। यही वजह है कि नियो बैंक के ग्राहकों में लगभग 70 फीसदी ग्राहकों की उम्र 35 साल से भी कम की है।
  • भारत के कुछ प्रमुख नियो बैंक की बात करें तो इनमें एसबीआई योनो, रेजरपे, आईपीपीबी, एयरटेल पेमेंट्स बैंक, जियो पेमेंट्स बैंक, डिजी बैंक, ओपन, जुपिटर, फिनिन और कोटक 811 आदि शामिल हैं।

नियो बैंक के फायदे

नियो बैंक के फायदे तो बहुत हैं, मगर यहां हम आपको इसके कुछ सबसे महत्वपूर्ण फायदों के बारे में बता रहे हैं:-

  1. बैंक संबंधी किसी भी काम के लिए आपको किसी शाखा में जाने की जरूरत नहीं पड़ती है और आप घर बैठे सिर्फ अपने मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हुए डिजिटल तरीके से बैंक संबंधी काम को पूरा कर लेते हैं।
  2. नियो बैंकिंग के दौरान आपको अपने खाते में न्यूनतम बैलेंस रखने की भी आवश्यकता नहीं होती।
  3. यदि आप नियो बैंक का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो आपको अपने पास नकदी रखने की भी जरूरत नहीं है।
  4. आपके जितने भी बैंक खाते हैं, नियो बैंकिंग का इस्तेमाल करने से सिर्फ एक ऐप के जरिए आप इन सभी को जोड़कर इनका प्रयोग कर सकते हैं।
  5. नियो बैंक के ग्राहक होने का एक बड़ा लाभ आपको यह भी मिलता है कि यदि आपको इसमें अपना खाता खुलवाना है, तो इसके लिए आपको किसी बैंक में जाने की जरूरत नहीं है और न ही किसी तरह के दस्तावेज पर अपने हस्ताक्षर करने हैं। आपका यह सारा काम मोबाइल फोन के जरिए ऑनलाइन ही हो जाता है।
  6. नियो बैंक के ग्राहक के रूप में आप इंटरनेशनल पेमेंट भी आसानी से अपने मोबाइल फोन से ही घर बैठे कर सकते हैं। साथ ही किसी तरह का चार्ज देने की भी आवश्यकता आपको नहीं होती, जबकि इसके विपरीत यदि आप किसी बैंक के जरिए ऐसा करना चाहते हैं, तो ऐसे में आपको बैंक में आवेदन तो करना ही पड़ता है, साथ में बैंक में आपको कस्टमर चार्ज का भी भुगतान करना पड़ता है।
  7. नियो बैंकिंग का इस्तेमाल करते हुए आप अपने फोन के बिल और बिजली बिल आदि को भी ऑटो मोड पर रख सकते हैं, जिससे कि इनका भुगतान समय-समय पर स्वतः होता रहता है. साथ ही कई ऐप में आपको इसके बदले कुछ अतिरिक्त लाभ भी दिए जाते हैं।

और अंत में

नियो बैंक निश्चित रूप से देश में बैंकिंग सेक्टर का भविष्य हैं। विशेषकर नई पीढ़ी के ग्राहकों को अपनी ओर तेजी से आकर्षित करने की वजह से नियो बैंक का भविष्य बेहद उज्जवल नजर आ रहा है। संभव है कि आने वाले समय में परंपरागत बैंकों की बजाय ज्यादातर ग्राहक नियो बैंक का ही रुक कर लें।

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.