साप्ताहिक करेंट अफेयर्स- 16 से 22 दिसंबर 2019

1862
current affairs in Hindi

पुर्तगाल ने की गांधी नागरिकता शिक्षा पुरस्कार की घोषणा

  • इस वर्ष के साहित्य अकादमी पुरस्कार के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व लेखक शशि थरूर और नाटककार नंद किशोर आचार्य के साथ 23 लेखकों का चयन किया गया है। दिल्ली में आगामी 24 फरवरी को साहित्य अकादमी के मुताबिक सभी विजेताओं को पुरस्कार के तौर पर ताम्र पत्र और एक लाख रुपये नकद प्रदान किये जाएंगे।
  • हर वर्ष प्रदान किया जाने वाला साहित्य अकादमी पुरस्कार देश में दिया जाने वाला एक साहित्यिक सम्मान है, जो पहली बार वर्ष 1955 में प्रदान किया गया था। उस वक्त पुरस्कार की राशि केवल पांच हजार रुपए ही थी, लेकिन बदलते वक्त के साथ इस राशि में इजाफा होता चला गया।

ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का DRDO ने किया सफल परीक्षण

  • अंतरिक्ष अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) की ओर से चांदीपुर में मोबाइल ऑटोनॉमस लांचर के जरिये एकीकृत परीक्षण रेंज (ITR) स्थित लांच कॉम्प्लेक्स-3 से जमीन व हवाई प्लेटफार्मों से ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइलों का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया है। मिसाइल एयर फ्रेम और फ्यूल मैनेजमेंट सिस्टम को इस मिसाइल में डिजाइन करने का काम DRDO ने किया है।
  • भारत एवं रूस द्वारा विकसित ब्रह्मोस, जिसे कि DRDO की ओर से लगातार अपग्रेड भी किया जा रहा है, मारक क्षमता इसकी एकदम अचूक है और पहले भी इसके समुद्री एवं थल संस्करणों का परीक्षण सफलतापूर्वक किया जा चुका है।

भारत के अगले थल सेनाध्यक्ष होंगे लेफ्टिनेंट जनरल मनोज मुकुंद नरवाने

  • भारत के थल सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत, जो कि आगामी 31 दिसंबर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं, उनका स्थान लेफ्टिनेंट जनरल मनोज मुकुंद नरवाने संभालने वाले हैं। बीते सितंबर में ही नरवाने ने वाइस चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ का भी जिम्मा संभाला था। सेना की पूर्वी कमान की जिम्मेदारी भी इससे पहले नरवाने संभाल चुके हैं।
  • आतंकवाद के खिलाफ चलाये जाने वाले अभियानों में काम करने का लेफ्टिनेंट जनरल मनोज मुकुंद नरवाने के पास खासा अनुभव रहा है। अपनी 37 वर्षों की सेवा के दौरान श्रीलंका में शांति सेना में भी वे प्रतिभाग कर चुके हैं और तीन वर्षों तक म्यांमार में भी सेवा दे चुके हैं।

Global Gender Gap Index में भारत को मिला 112वां स्थान

  • हाल ही में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (WEF) की ओर से जारी की गई रिपोर्ट में लिंग असामनता के मामले में भारत को 112वां स्थान हासिल हुआ है। हालांकि, बीते वर्ष की तुलना में भारत इस बार चार पायदान और फिसल गया है। WEF की रिपोर्ट दुनियाभर में लिंगभेद के कम होने की ओर इशारा तो कर रही है, किंतु अब भी शिक्षा, स्वास्थ्य, राजनीति व कार्यालय आदि में महिलाओं व पुरुषों के बीच भेदभाव का उल्लेख भी इसमें किया गया है।
  • रिपोर्ट में 53 देशों को शामिल किया गया है। इस रिपोर्ट में भारत के पड़ोसी देशों चीन को 106ठा, श्रीलंका को 102रा, नेपाल को 101वां और बांग्लादेश को 50वां स्थान हासिल हुआ है। पहली बार जब वर्ष 2006 में WEF की ओर से यह रिपोर्ट जारी की गई थी, तो उस वक्त भारत को 98वां स्थान हासिल हुआ था।

फोर्ब्स की सूची में 100 सेलेब्रिटी में विराट कोहली टॉप पर

  • भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने कमाई एवं लोकप्रियता के मामले में देश के सभी सेलेब्रिटी को पीछे छोड़ते हुए फोर्ब्स की 100 सेलेब्रिटी की सूची में पहला स्थान हासिल किया है। बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार के नाम से मशहूर अक्षय कुमार इस सूची में दूसरे, जबकि बॉलीवुड के लोकप्रिय अभिनेता सलमान खान इस सूची में तीसरे स्थान पर हैं। टॉप-10 की सूची में आलिया भट्ट और दीपिका पादुकोण का भी नाम शामिल है।
  • मशहूर हस्तियों की अनुमानित कमाई एवं उनकी लोकप्रियता के आधार पर फोर्ब्स की ओर से रैंकिंग में 01 अक्टूबर, 2018 से 30 सितंबर, 2019 तक की समयावधि को शामिल किया है। किसी खिलाड़ी के फोर्ब्स सेलेब्रिटी की टॉप-100 की सूची में प्रथम स्थान हासिल करने का यह पहला मौका है।

DSC पुरस्कार 2019 से सम्मानित किये गये अमिताभ बागची

  • वर्ष 2019 के DSC पुरस्कार से प्रख्यात लेखक अमिताभ बागची को सम्मानित किया गया है। डीएससी पुरस्कार, जो कि दक्षिण एशियाई साहित्य के लिए प्रदान किया जाता है, बागची को यह पुरस्कार उनके उपन्यास ‘Half The Night Is Gone’ के लिए प्रदान किया गया है। तीन पीढ़ियों की कहानी और इंसानों रिश्तों के बारे में बागी ने अपने इस उपन्यास में लिखा है।
  • हर साल चक्रीय आधार पर विभिन्न दक्षिण एशियाई देश इस पुरस्कार की घोषणा करते हैं और पुरस्कार के इस नौवें साल में नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप गयावली द्वारा अमिताभ बागची को यह पुरस्कार दिया गया, जिसमें 25,000 डॉलर की राशि शामिल थी।

नहीं रहे अभिनेता और रंगकर्मी श्रीराम लागू

  • 20वीं सदी के सबसे अच्छे कलाकारों में गिने जाने वाले प्रख्यात अभिनेता श्रीराम लागू अब इस दुनिया में नहीं हैं। बीते 17 दिसंबर को उन्होंने 92 वर्ष की उम्र में पुणे में अंतिम सांस ली। मराठी थिएटर में अपनी अमिट छाप छोड़ने वाले श्रीराम लागू एक कलाकार होने के साथ-साथ एक अच्छे डॉक्टर भी थे। सामाजिक आंदोलनों में भी वे मुखर रहे थे। सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे के भ्रष्टाचार-विरोधी आंदोलन के दौरान उन्होंने भी उपवास किया था।
  • करीब 100 से भी अधिक हिंदी फिल्मों एवं 40 से भी अधिक मराठी फिल्मों में अभिनय करने वाले श्रीराम लागू के आहट, पिंजरा, एक अजीब कहानी, मेरे साथ चल, दौलत और सामना जैसी फिल्मों में उनके लाजवाब अभिनय के लिए कभी भुलाया नहीं जा सकेगा। गुजराती रंगमंच से भी उनका जुड़ाव रहा था और उन्हें 20 से भी अधिक मराठी नाटकों के निर्देशन का भी श्रेय जाता है।

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.