वो 5 बातें, जो किसी भी शिक्षक और छात्र के रिश्ते को बनती हैं मज़बूत

916
student teacher relation

‘गुरु ही ब्रह्मा, गुरु ही विष्णु, गुरु ही शंकर’, शास्त्रों में भी गुरु को भगवान से भी उपर का दर्जा दिया गया है। ऐसा इसलिए है क्योंकि एक सच्चा गुरु ही अपने शिष्य को व्यावहारिक जीवन से रुबरु कराता है। एक शिक्षक और छात्र का रिश्ता उन रिश्तों में से एक होता है, जिसे हम जिंदगी भर भूल नहीं पाते हैं। बचपन से बड़े होने तक टीचर हमें कई बातों का अनुभव कराते हैं, हमें जीवन में आगे बढ़ने और सफलता पाने का रास्ता भी दिखाते हैं। हमारी सक्सेसफुल जिंदगी में हमारे टीचर्स का बहुत बड़ा योगदान होता है। लगभग हर किसी की जिंदगी में कोई एक या दो शिक्षक ऐसे होते हैं, जिनसे हम बहुत ज्यादा प्रेरित होते हैं। उन्हें और उनके द्वारा दिए गए सीख को हम कभी नहीं भूल पाते। एक टीचर और छात्र के बीच के इस रिश्ते को खास बनाने में बहुत सारी बातें महत्वपूर्ण होती है। तो आइए आज हम उन्हीं बातों के बारे में जानते हैं जो एक शिक्षक और छात्र के रिश्ते को खास बनाती है

एक- दूसरे पर विश्वास होना

किसी भी रिश्ते की सबसे बड़ी नींव होती है विश्वास। गहरे विश्वास के साथ ही कोई रिश्ता आगे बढ़ता है और कायम रहता है। ऐसा ही है शिक्षक और छात्र के रिश्ते के बीच भी। अधिकतर छात्र अपने शिक्षक को ही अपना रोल मॉडल मानते हैं। ऐसे में टीचर की भी पूरी जिम्मेदारी होती है कि वो अपने छात्र के उस विश्वास को कायम रखे।

खुला संवाद होना

छात्र के मन में छिपे डर को दूर करने की जिम्मेदारी शिक्षकों की भी होती है। इसके लिए दोनों के बीच खुला संवाद होना जरूरी है। टीचर को अपने छात्रों के साथ खुले माहौल में बातचीत करनी चाहिए। पढ़ाई के साथ-साथ उनसे घुलने- मिलने पर भी वक्त देना चाहिए।

छात्र से बड़ी अपेक्षाएं रखना

किसी को भी प्रेरित करने के लिए सबसे अच्छा रास्ता होता है उससे अपेक्षाएं रखना। एक शिक्षक को हमेशा इस चीज का एहसास दिलाना चाहिए कि उन्हें उससे बहुत अपेक्षाएं हैं। ऐसे में छात्र को प्रेरणा भी मिलती है और शिक्षक- छात्र के बीच रिश्ता भी गहरा होता है।

छात्र का शिक्षक के प्रति कृतज्ञ होना

एक अच्छा शिक्षक हमेशा अपने छात्रों को किताबी ज्ञान के साथ- साथ संसारिक ज्ञान भी देता है। ऐसे में छात्र को हमेशा अपने उस शिक्षक के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करनी चाहिए। उस शिक्षक का आभार करना चाहिए कि उन्होंने आपको जीवन में सफलता की सीढ़ियों पर चढ़ने के लिए प्रशस्त किया।

छात्र की क्षमताओं को पहचानना

अच्छे शिक्षक मे ये गुण विद्यमान होते हैं कि वो छात्रों की क्षमताओं को पहचानते हैं। छात्रों के स्वभाव,   मिजाज और एक्टिविटी को देखकर वो अंदाजा लगा सकते हैं कि किस छात्र के लिए कौन सा विषय या कौन सा करियर बेहतर है। एक अच्छे छात्र के नाते आपको चाहिए कि आप अपने टीचर से बेहतर करियर और बेहतर जिंदगी के बारे में जरूरी टिप्स लें।

निष्कर्ष

भारतीय समाज में शिक्षक का दर्जा हमेशा पूजनीय रहा है। शिक्षक को ही समाज की आधारशिक्षा माना गया। वहीं एक शिक्षक को समाज में सफल शिक्षक का दर्जा उसके छात्र की सफलता के जरिए ही मिलता है। टीचर और छात्र से के अनमोल रिश्ते से जुड़ा हमारा ये लेख आपको कैसा लगा, नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताएं।   

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.