स्टूडेंट्स के लिए आखिर क्यों है जरूरी Career Counselling?

785
Career counseling importance

अपने करियर को लेकर चिंतित आखिर कौन नहीं होता? इस चिंता का समाधान है Career Counseling। जी हां, आज के दौर में करियर काउंसेलिंग का महत्व इसलिए भी बढ़ गया है, क्योंकि कोर्सेज का अंबार लग चुका है। ऐसे में आपका पशोपेश में पड़ना लाजमी है कि आखिर इनमें से चुनें तो किसे? यही वो सवाल है, जहां से करियर काउंसेलिंग की जरूरत महसूस होनी शुरू होती है।

क्या है Career Counseling?

हाई स्कूल या फिर इंटर की परीक्षा पास कर लेने के बाद आप जैसे अधिकतर स्टूडेंट्स इस चीज को लेकर परेशान रहते हैं कि आगे ऐसी कौन-सी पढ़ाई की जाए, जिससे कि भविष्य सुरक्षित हो सके। कई स्टूडेंट्स जहां यह नहीं समझ पाते कि उनकी रुचि किस क्षेत्र में अधिक है, वहीं कई को यह नहीं समझ आता कि कौन से कोर्स का भविष्य क्या है। उसी तरह से कई स्टूडेंट्स को पढ़ाई के बाद समझ नहीं आता कि नौकरी के लिए कैसे प्रयास किया जाए। ऐसे में अपने करियर की शुरुआत में ही वे किसी विशेषज्ञ से सलाह लेते हैं कि उन्हें क्या करना चाहिए। ये जो career guidance वे प्राप्त करते हैं, उसी को दरअसल करियर काउंसेलिंग कहा जाता है।

Career Counseling से मिलने वाले लाभ

अपने करियर का चुनाव करते वक्त बेहद सतर्क रहने की जरूरत होती है। यहां हम आपको बता रहे हैं कि करियर काउंसेलिंग से आपको क्या-क्या लाभ मिलते हैं।

दूर होती है शंका

आप जब खुद से यह नहीं समझ पाते कि आपको आगे क्या करना चाहिए, तो आप इसके बारे में हर किसी से पूछते हैं। हर कोई अपने हिसाब से अलग-अलग चीजें आपको बताता है। इससे आप और ज्यादा असमंजस में पड़ते चले जाते हैं। इसलिए बेहतर यही होता है कि करियर को लेकर सलाह किसी करियर काउंसेलर से ले ली जाए, क्योंकि वे इस चीज के विशेषज्ञ होते हैं और आपका उचित मागदर्शन भी करते हैं।

सही कोर्स का कर पाते हैं चुनाव

करियर काउंसेलर आपकी रुचि को समझकर आपको बताते हैं कि आपके लिए कौन-सा कोर्स करना ठीक रहेगा। उदाहरण के लिए वे बताते हैं कि दसवीं के बाद आपको साइंस, आट्र्स या फिर काॅमर्स में से किसे चुनना चाहिए। बारहवीं पास होने के बाद कौन-से प्रोफेशनल कोर्स में दाखिला लेना चाहिए। ग्रेजुएशन कर लिया है तो पोस्ट ग्रेजुएशन किस विषय में करना चाहिए।

तैयारी को मिलता है सही आकार

करियर काउंसेलिंग से दरअसल आपको education guidance एक विशेषज्ञ से मिल पाता है। ऐसे में आपकी तैयारी सही दिशा में आगे बढ़ पाती है। आपको पता होता है कि आपको तैयारी किसी चीज की करनी है। इससे पूरी तरह से ध्यान केंद्रित करके आप तैयारी करते हैं और अपने लक्ष्य को हासिल कर पाते हैं। वहीं, यदि आप अपनी योग्यता को नहीं समझ पाते और ऐसी चीज की तैयारी करने लगते हैं, जिसमें कि न तो आपकी रुचि है और न ही योग्यता, तो केवल समय और पैसों की ही बर्बादी होती है।

आसान हो जाता है प्रतिस्पर्धा को झेल पाना

एक तो नौकरियों की भारी कमी है देश में। ऊपर से इनके लिए आवेदन करने वालों की तादाद हजारों और लाखों में होती है। प्रतिस्पर्धा इससे बहुत बढ़ जाती है। इसलिए यदि आप सरकारी नौकरी पाना चाहते हैं या फिर प्राइवेट सेक्टर में ही बड़ी कंपनियों में नौकरी हासिल करना चाहते हैं तो इसके लिए Career Counseling के जरिये सही कोर्स करना आपके लिए बहुत जरूरी हो जाता है। इससे आप उस क्षेत्र में पारंगत होते हैं और प्रतिस्पर्धा में जीत आपकी ही होती है।

भटकने से बच जाता है करियर

आपको लगता है कि आपकी रुचि कई क्षेत्रों में है। काफी सोच-विचार करने और लोगों की सुनने के बाद आप किसी क्षेत्र को अपना करियर बनाने के लिए चुन लेते हैं, लेकिन बाद में आपको महसूस होता है कि आप गलत दिशा में बढ़ गये हैं। ऐसे में आपको पछतावा होने लगता है। तब तक आप काफी पिछड़ चुके होते हैं। इसलिए किसी विशेषज्ञ से करियर काउंसेलिंग कराना जरूरी हो जाता है, ताकि आपका करियर भटक न जाए।

मनोवैज्ञानिक तौर पर बनते हैं मजबूत

जब आप career guidance एजुकेशन काउंसेलर से प्राप्त करते हैं तो इस दौरान वे आपमें इतनी सकारात्मक ऊर्जा भर देते हैं कि आपका खुद पर यकीन और बढ़ जाता है। जीवन में जब आपके सकारात्मकता होती है तो मनोवैज्ञानिक तौर पर आप और मजबूत हो जाते हैं। इससे अपने लक्ष्य को हासिल करना आपके लिए और भी आसान हो जाता है।

पता चलता है कमियों और मजबूती का

Education guidance से आप यह समझ पाते हैं कि आपमें कमियां हैं और आपकी मजबूती क्या है। इससे अपनी कमियों को दूर करके और अपनी मजबूती को और धार देकर अपने लक्ष्य को आप आसानी से हासिल कर पाते हैं।

कब पड़ती है आपको Career Counseling की जरूरत?

  • जब आप सोच-सोचकर थक चुके हैं कि आपके लिए कौन-सा कोर्स करना सही होगा।
  • जब पढ़ाई पूरी करने के बाद आप सैकड़ों जगह आवेदन करके उकता गये हैं, लेकिन अब तक आपको इंटरव्यू के लिए बुलावा नहीं आया है।
  • जब आपको लग रहा है कि अब करियर में बदलाव की जरूरत आ पड़ी है।
  • जब आपने पुरानी नौकरी काफी पहले छोड़ दी है और एक बार फिर से नई नौकरी करना चाह रहे हैं।

Career Counseling का एक महत्वपूर्ण विकल्प

अपने करियर को लेकर यदि आप कन्फ्यूज हो रहे हैं और चाहते हैं कि आपको अपनी मंजिल का सही रास्ता मिले तो Opennaukri के Counselling Experts से आप बात कर सकते हैं। इस प्लेटफाॅर्म पर न केवल आपकी अपनी रुचि के प्रति जागरुकता बढ़ती है, बल्कि आपको यह भी पता चलता है कि आपके लिए सबसे अच्छा करियर विकल्प कौन-सा है। आपके करियर को सही राह दिखाने के लिए Opennaukri हमेशा तैयार है।

चलते-चलते

Career Counseling के महत्व को तो अब आप समझ ही गये होंगे। इसलिए यदि आप भी उनमें से एक हैं, जिन्हें समझ नहीं आ रहा कि किस चीज की पढ़ाई करें या फिर पढ़ाई पूरी कर लेने के बाद अब कौन-सी नौकरी करें, तो आपको तुरंत career guidance के लिए एजुकेशन काउंसेलर की मदद ले लेनी चाहिए। प्रतिस्पर्धा के इस दौर में केवल करियर काउंसेलिंग की मदद से ही अपने करियर को आप सही दिशा दे सकते हैं।

Have Questions? Ask Opennaukri Experts - Get Answers to Your Questions!

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.