काम कर रहे लोगों के लिए Career Counselling के लाभ

832
Career Counselling

Career Counselling ज्यादातर उन स्टूडेंट्स को ही दिया जाता है, जो कि स्कूल या कॉलेज में पढ़ रहे हैं या फिर जो स्नातक या स्नातकोत्तर की पढ़ाई कर रहे हैं। एक सफल करियर बनाने में और अपने सपनों की नौकरी पाने में यह कारगर साबित होता है। वहीं, काम कर रहे लोगों के लिए यदि करियर काउंसलिंग की बात करें, तो नौकरी बदलने में या फिर अलग तरह के वातावरण में काम करने में उन्हें career counselling से काफी लाभ होता है। इस लेख में हम आपको बता रहे हैं कि काम कर रहे लोगों को करियर काउंसलिंग से किस-किस तरह के लाभ मिल सकते हैं।

इस लेख में आप पढ़ेंगे:

  • नौकरी बदलने के लिए
  • उच्चतर शिक्षा हासिल करने के लिए
  • बेहतर भूमिका को अपनाना
  • अपना प्रोफाइल सुधारने के लिए

मौजूद विकल्पों की तलाश

करियर गाइडेंस की ज़रूरत (need of Career Guidance) तब पड़ती है, जब आप कहीं पर काम कर रहे हैं और आपके आसपास और भी कई तरह के विकल्प मौजूद हैं, लेकिन आप उन विकल्पों को पहचान नहीं पा रहे हैं। कई बार काम करने के दौरान आपके आसपास उपलब्ध विकल्पों पर आपकी नजरें तो जाती हैं और आप उन विकल्पों को पकड़ भी लेते हैं, लेकिन इसमें आपको नाकामयाबी हासिल होती है। ऐसे में आपका आत्मविश्वास डगमगाने लगता है।

इसलिए भले ही आप उपलब्ध विकल्पों को लेकर कितने भी आत्मविश्वास से भरे हुए क्यों न हों, आपको किसी करियर काउंसलर की मदद ले लेनी चाहिए। वह इसलिए कि करियर काउंसलर को उपलब्ध विकल्पों की अच्छी तरह से समझ होती है और वे आपके काम के मुताबिक आपके लिए मौजूद उचित विकल्प को चुनने की सलाह देते हैं। इससे आपको किसी तरह की परेशानी का सामना भविष्य में नहीं करना पड़ता है।

नौकरी बदलने के लिए

कई बार आप किसी कंपनी में काम करना शुरू कर देते हैं। आपकी रूचि उस काम में नहीं है, लेकिन किसी मजबूरी की वजह से आपको यहां काम करना पड़ रहा है। हो सकता है कि आप एक गरीब परिवार से आते हैं। आपको नौकरी की जरूरत थी। बिना रुचि के आपने कंपनी में काम करना शुरू कर दिया। आप यहां काम तो करते हैं, लेकिन आप पर हमेशा एक दबाव बना हुआ रहता है। आप चाहते हैं कि आप नौकरी बदल लें, लेकिन आपको यह समझ नहीं होती कि आप कौन-सी नौकरी करें या फिर कौन सा काम करें, जिससे कि आप पर कोई दबाव न रहे।

ऐसे में आपकी मदद एक करियर काउंसलर कर सकता है। करियर से जुड़े विकल्पों की उसे अच्छी तरह से समझ होती है और वह आपको बता बता सकता है कि आपकी रूचि के अनुसार आपके लिए किस तरह की नौकरी करना सही होगा। साथ ही वह आपको इसका तरीका भी बताता है।

उच्चतर शिक्षा हासिल करने के लिए

जी हां, कई लोग किसी कंपनी में काम करने के दौरान उच्चतर शिक्षा भी हासिल करना चाहते हैं। वे चाहते हैं कि उनके पास अतिरिक्त डिग्रियां भी हों, ताकि वे और आगे जा सकें। हो सकता है कि वे शोध करना चाहते हों या कुछ और भी करना चाहते हों। आप जिस कंपनी में काम कर रहे हैं, उसी से संबंधित कोर्स यदि आप करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको करियर काउंसलिंग की जरूरत ज्यादा नहीं पड़ती है।

Career Counselling की जरूरत तब आपको बहुत होती है, जब आप एक ऐसी पढ़ाई करना चाह रहे हैं, जो कि आपके काम से बिलकुल अलग है। ऐसे में एक करियर काउंसलर ही आपका सही तरीके से मार्गदर्शन करके यह बता सकता है कि आपके लिए कौन से कोर्स की पढ़ाई करना अच्छा होगा, जिससे कि आप किसी दूसरे क्षेत्र में भी अपने लिए एक सुनहरा करियर बना पाएंगे।

बेहतर भूमिका को अपनाना

हो सकता है कि काम करने के दौरान अब आप और बेहतर विकल्प को पकड़कर अपने करियर में आगे बढ़ना चाहते हैं। एक नई भूमिका में अब आप खुद को ढालना चाहते हैं। आप इस नई भूमिका को अपनाना तो चाहते हैं, लेकिन इसके बारे में आपके पास ज्यादा जानकारी नहीं है। आप ऑनलाइन इसके बारे में लोगों से सलाह तो ले सकते हैं, लेकिन इसमें वक्त लग जाता है।

Career Guidance ऐसी परिस्थिति में जरूरी हो जाता है। करियर काउंसलर इस मामले में आपके लिए बड़ा ही मददगार साबित हो सकता है। वह आपको नई भूमिका में ढालने के लिए इस तरह से तैयार कर देता है कि आपको न केवल नई भूमिका में उत्तरोत्तर कामयाबी मिलती चली जाती है, बल्कि आर्थिक रूप से भी आप फायदे में रहते हैं।

मिलती है उचित सलाह

काम करने के दौरान आप अब कुछ अलग तो कहना चाहते हैं, लेकिन इसके बारे में आपको ज्यादा जानकारी नहीं है। ऐसे में जब आप करियर काउंसलर के पास जाते हैं, तो वह आपकी पृष्ठभूमि को देखकर यानी कि आपके काम करने की क्षमता कितनी है, आपकी रूचि क्या है, इसके आधार पर आपको सलाह देता है। काउंसलर की सलाह से आपके लिए उस काम को करना आसान हो जाता है।

निबट पाते हैं दबाव से

कई बार काम करने के दौरान दिमाग पर दबाव बहुत बढ़ जाता है। ऐसे में समझ नहीं आता कि अपने काम को किस तरह से दबाव कम करते हुए जारी रखा जाए। इस मामले में एक करियर काउंसलर आपके लिए मददगार साबित हो सकता है। वह आपको दबाव से निपटने के तरीकों के बारे में बताता है। साथ ही वह आपको यह भी बताता है कि अलग-अलग तरह की परिस्थितियों में किस तरह से काम किया जाए कि आप पर नकारात्मक दबाव न बने।

अपना प्रोफाइल सुधारने के लिए

करियर काउंसलिंग के दौरान एक करियर काउंसलर आपको उन तरीकों के बारे में बताता है, जिनसे कि काम करने के दौरान आप अपने प्रोफाइल को सुधार सकते हैं। आपका प्रोफाइल जितना अच्छा होता है, काम में आपको उतनी ही तरक्की मिलती है और आपकी कामयाबी के द्वार खुलते चले जाते हैं।

चलते-चलते

Career Counselling इस तरह से काम कर रहे लोगों के लिए भी बहुत ही महत्वपूर्ण हो जाती है। कुल मिलाकर यह कहना गलत नहीं होगा कि करियर काउंसलिंग का विकल्प यदि काम कर रहे लोग चुनते हैं, तो न केवल काम करने के दौरान उन्हें अपने काम में इससे मदद मिलती है, बल्कि अपने काम के अलावा भी दूसरे क्षेत्र में करियर बनाने में उन्हें मदद मिल जाती है।

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.