SVAMITVA Scheme क्या है, कौन कैसे उठा सकता है इसका लाभ?

521
SVAMITVA Scheme

स्वामित्व योजना को बीते अप्रैल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जारी किया था। डिजिटल इंडिया का जो सपना प्रधानमंत्री मोदी ने देखा है, उसके तहत एक के बाद एक योजनाएं उनके द्वारा शुरू की गई हैं, जिनके जरिए घर बैठे कई काम अब ऑनलाइन संभव हो गए हैं। इसी क्रम में प्रधानमंत्री मोदी की तरफ से ग्रामीण स्वामित्व योजना शुरू की गई है। इसके लिए एक नया ई ग्राम स्वराज पोर्टल भी शुरू किया गया है, जहां न केवल ग्रामसभा से जुड़ी हर तरह की समस्याओं के बारे में बताया जा सकेगा, बल्कि अपनी भूमि से जुड़ी चीजें भी किसान ऑनलाइन ही देख पाएंगे।

इस लेख में आपके लिए है:

  • स्वामित्व योजना क्या है?
  • स्वामित्व योजना की आवश्यकता क्यों?
  • SVAMITVA (Survey of villages and mapping with improvised technology in village areas) Scheme कैसे करेगी काम?
  • SVAMITVA Scheme के लिए ऐसे करें ऑनलाइन आवेदन
  • स्वामित्व योजना के लाभार्थियों पर एक नजर
  • स्वामित्व योजना से मिलने वाले फायदे

स्वामित्व योजना क्या है?

  • स्वामित्व योजना को बीते 24 अप्रैल को राष्ट्रीय पंचायत दिवस के अवसर पर केंद्र सरकार की ओर से जारी किया गया था। इस योजना को पंचायती राज मंत्रालय ही लागू करा रहा है। इसका मतलब इसका नोडल मंत्रालय यही है।
  • योजना के लिए सभी राज्यों में नोडल विभाग राजस्व/भूलेख विभाग को बनाया गया है। सर्वे ऑफ इंडिया को ड्रोन के माध्यम से प्रॉपर्टी के सर्वे के लिए नोडल एजेंसी बनाया गया है।
  • ड्रोन सर्वे तकनीकों के माध्यम से ग्रामीण इलाकों की भूमि का सीमांकन किया जा सके, यही इस योजना का उद्देश्य है। ग्रामीण इलाकों में जो घर मौजूद हैं, उन घरों के मालिकों के मालिकाना हक का रिकॉर्ड इससे बनाना आसान होगा।
  • इसके आधार पर वे बैंकों से न केवल कर्ज ले पाएंगे, बल्कि अन्य कई काम में भी इसे इस्तेमाल में ला पाएंगे। विशेषकर बैंकों से कर्ज लेने की प्रक्रिया उनके लिए पहले से और भी आसान हो जाएगी।

स्वामित्व योजना की आवश्यकता क्यों?

  • ग्रामीण इलाकों में ही अब भी भारत की 60 फ़ीसदी आबादी निवास करती है। अधिकांश ग्रामीण ऐसे हैं, जिनके पास अपने घरों के मालिकाना हक के कागजात ही मौजूद नहीं हैं। गांव की खेती योग्य भूमि का रिकॉर्ड अंग्रेजों के समय से रखा तो जा रहा था, लेकिन घरों पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया गया था।
  • संपत्ति के सत्यापन के हिसाब से कई राज्यों में गांव में पड़ने वाले रिहायशी इलाकों का सर्वे या फिर मैपिंग नहीं हो पाया था। इसका परिणाम यह हुआ कि बहुत से घर ऐसे हैं, जहां संपत्ति के कागजात ही उपलब्ध नहीं हैं। इसी कमी को दूर करने और घरों के मालिकों को उनके मालिकाना हक के कागजात उपलब्ध कराने के लिए स्वामित्व योजना को लाया गया है।

SVAMITVA Scheme कैसे करेगी काम?

  • SVAMITVA Scheme को Hindi में पढ़ते वक्त आपको यह भी जानना चाहिए कि देश के ग्रामीण इलाकों में जितनी भी आवासीय भूमि मौजूद है, इन सभी की पैमाइश स्वामित्व योजना के अंतर्गत ड्रोन के माध्यम से की जाएगी। गांव की सीमा के अंदर जितनी भी प्रॉपर्टी मौजूद है, ड्रोन के जरिए सभी प्रॉपर्टी का एक डिजिटल नक्शा तैयार किया जाएगा। यही नहीं हर रिवेन्यू ब्लॉक की सीमा भी निर्धारित कर दी जाएगी।
  • इसका मतलब यह हुआ कि ड्रोन तकनीक से पूरी सटीकता के साथ यह मापा जा सकेगा कि कौन-सा घर कितने क्षेत्र में बना हुआ है। राज्य सरकारों की ओर से गांवों में स्थित सभी घरों के प्रॉपर्टी कार्ड भी बनवाए जाएंगे।
  • स्वामित्व योजना पोर्टल भी इसके लिए तैयार किया गया है। इस पोर्टल का नाम www.egramswaraj.gov.in है। इसी पोर्टल से जमीन के मालिकों को उनके मालिकाना हक के बारे में सर्टिफिकेट मिल पाएगा।
  • स्वामित्व योजना ऐप भी डाउनलोड करके इसके माध्यम से इस योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है।
  • इस योजना की शुरुआत हो जाने के बाद अब लगभग एक लाख संपत्ति मालिक अपने मोबाइल फोन पर आए एसएमएस लिंक के जरिए अपनी संपत्ति से जुड़े कार्ड को डाउनलोड कर पाएंगे।
  • जमीन के विवाद में अब तक खुद ही मालिकाना हक को साबित करना पड़ता है। रजिस्ट्री केवल कागजात के आधार पर ही होती है। सरकार फिलहाल यह गारंटी नहीं लेती है कि खरीद-बिक्री के वक्त दोनों पक्षों के बीच कौन-सी शर्तें तय हुई हैं।

SVAMITVA Scheme के लिए ऐसे करें ऑनलाइन आवेदन

  • स्वामित्व योजना के लिए आवेदन करने के लिए आपको सबसे पहले प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना की सरकारी वेबसाइट www.egramswaraj.gov.in पर जाना होगा।
  • होम पेज खुलने के बाद आपको इस वेबसाइट पर New Registration के विकल्प पर क्लिक करना पड़ेगा।
  • जब आप इस पर क्लिक करेंगे तो इसके बाद एक फॉर्म आपके सामने खुल जाएगा।
  • जो भी विवरण यहां मांगा गया है, उसे बहुत ही ध्यान से आपको भर देना है।
  • जब आप फॉर्म अच्छी तरीके से भर लेंगे तो इसके बाद आपको Submit पर क्लिक करना पड़ेगा। इस तरह से आपका फॉर्म भरा जाएगा।
  • रजिस्ट्रेशन से संबंधित किसी भी तरह की जानकारी एसएमएस के माध्यम से आपके मोबाइल नंबर पर और आपके ई-मेल आईडी पर पहुंचेगी।

स्वामित्व योजना के लाभार्थियों पर एक नजर

  • स्वामित्व योजना के लाभार्थी 763 गांवों से हैं, जो कि छः राज्यों में फैले हुए हैं। सबसे ज्यादा लाभार्थी उत्तर प्रदेश के हैं, जहां के 346 गांव के लोगों को स्वामित्व योजना का कार्ड मिला है।
  • वहीं, हरियाणा के 221 गांवों के लाभार्थियों को यह कार्ड मिला है।
  • इनके अलावा महाराष्ट्र के 100, मध्य प्रदेश के 44 और उत्तराखंड के 50 एवं कर्नाटक के दो गांवों के भी लाभार्थियों को स्वामित्व योजना का कार्ड प्राप्त हुआ है।

स्वामित्व योजना से मिलने वाले फायदे

  • मालिकाना हक संपत्ति मालिक को अपनी संपत्ति का अब आसानी से मिलेगा।
  • संपत्ति का हिसाब लग जाएगा तो उसका मूल्य भी आसानी से तय हो पाएगा।
  • स्वरोजगार के लिए या किसी और काम के लिए ऋण आसानी से मिलेगा।
  • पंचायत राज स्तर पर कर प्रणाली में भी सुधार हो पाएगा।
  • संपत्ति से जुड़े विवादों और कानूनी मामलों की संख्या अब कम होगी।
  • अवैध कब्जे से जमीन मालिक अब खुद को सुरक्षित महसूस करेंगे।

निष्कर्ष

SVAMITVA Scheme इसलिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह भूमि सुधार की दिशा में उठाया गया सरकार की ओर से एक बहुत बड़ा कदम है, जिसके दूरगामी परिणाम आने वाले समय में देखने के लिए मिलने वाले हैं। जरूरत बस इसके ठीक तरीके से कार्यान्वयन की है।

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.