CoWIN 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड क्या है?

486
CoWIN 4


केंद्र सरकार ने कोविन पोर्टल (CoWIN Portal) में एक नया फीचर जोड़ा है, इस नये फीचर के तहत अब CoWIN पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन के समय 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड जारी किया जायेगा। यह 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड ही आपकी वेक्सिनेशन की सारी प्रक्रिया की चाबी है। इसे संभाल कर रखने की जरुरत है। आज के इस अंक में हम CoWIN Portal के 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड से जुडी महत्वपूर्ण जानकारी को आपके साथ साझा करेंगे।

इस अंक में आपके लिए है।

  • क्या है CoWIN 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड?
  • केंद्र सरकार को क्यों पड़ी CoWIN 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड की आवश्यकता?
  • कैसे काम करेगा CoWIN 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड?
  • Co -WIN 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड के फायदे?
  • भारत में Covid वेक्सिनेशन कार्यक्रम

क्या है Co -WIN 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड?

• CoWIN पोर्टल का यह नया फीचर उन लोगों के लिए है, जिन्होंने वैक्सीनेशन के लिए ऑनलाइन आवेदन कर रहें हैं।

• Co -WIN 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड एक 4 डिजिट का नंबर है ,जोकि Covid वेक्सिनेशन के रजिस्ट्रेशन के समय जेनेरेट होगा तथा आपके वेक्सिनेशन के लिए पंजीकृत फ़ोन नंबर पर भेजा जायेगा।

• आपकी वेक्सिनेशन अपॉइंटमेंट Acknowledgement स्लिप पर 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड लिखा हुआ रहेगा। वैक्सीन लगाने वाले स्वास्थ्य कर्मी को यह नहीं पता होगा।

• वेक्सिनेशन अपॉइंटमेंट Acknowledgement slip की प्रिंट हार्ड कॉपी या मोबाइल फ़ोन में सुरक्षित सॉफ्ट कॉपी को दिखाकर वेक्सिनेशन सेंटर पर वैक्सीन लगायी जा सकती है।

• आपको अपनी वेक्सिनेशन प्रक्रिया के दौरान वैक्सीन लगाने वाले स्वास्थ्य कर्मी को 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड बताना होगा।

• जब आपकी वेक्सिनेशन प्रक्रिया पूर्ण होगी उसके पश्चात् आप 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड स्वास्थ्य कर्मी के साथ शेयर करेंगे। इसके बाद आपको पंजीकृत नंबर पर वेक्सिनेशन प्रक्रिया पूर्ण होने का सन्देश प्राप्त होगा।

• CoWIN पोर्टल 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड सुविधा 8 मई 2021 से लागू हो गयी है।

केंद्र सरकार को क्यों पड़ी 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड की आवश्यकता?

• वेक्सिनेशन रजिस्ट्रेशन में आने वाली बहुत सी खामियों को रिपोर्ट करने के पश्चात् 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड सुविधा प्रारम्भ की गयी है।

• लोगो को बिना वेक्सिनेशन के बावजूद वेक्सिनेशन पूर्ण होने के सन्देश प्राप्त हो रहे थे। ऐसा उन लोगो के साथ हो रहा था, जो रजिस्ट्रेशन करने के बाद किसी कारण से वैक्सीन लगाने नहीं गये थे।

• कोरोना वैक्सीनेशन ऐप CoWin में डेटा एंट्री से जुड़ी तकनीकी खामियों को दूर करने और नागरिकों की सुविधा के लिए 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड सेवा को प्रारम्भ किया जा रहा है।

• वेक्सिनेशन रजिस्ट्रेशन के दौरान कुछ लोगों को ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) मिल रहे थे, तो कुछ को नहीं मिल रहे थे।

कैसे काम करेगा CoWIN 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड?

• CoWIN 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड आपकी वेक्सिनेशन की प्रक्रिया को पूर्ण करेगा , बिना इसके बताये स्वास्थ्य कर्मी आपको वैक्सीन लगाने में असमर्थ रहेंगे।

• CoWIN 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड में आपकी सभी जरुरी जानकारी , नाम , पता , आधार नंबर , वेक्सिनेशन सेंटर का नाम, आपको लगायी गयी वैक्सीन का नाम, वैक्सीन लगाने वाले स्वास्थ्य कर्मी का नाम जैसी जरुरी जानकारी को डिजिटल रूप में सुरक्षित रखेगा।

• CoWIN 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड की सहायता से आप वेक्सिनेशन सम्बन्धी सभी जानकारियों को ऑनलाइन कभी भी प्राप्त कर सकते हैं।

• CoWIN 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड डिजिटल रूप में वेक्सिनेशन प्रमाण पत्र जेनेरेट करने में जरुरी डॉक्यूमेंट के रूप में आवश्यक है।

CoWIN 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड के फायदे?

• केंद्र सरकार का उद्देश्य है कि इस नए फीचर से यह भी सुनिश्चित होगा कि नागरिक द्वारा कराए गए वैक्‍सीनेशन के स्‍टेटस के बारे में सही डेटा एंट्री हो रही है।

• CoWIN 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड के माध्यम से आपकी सभी जानकारी डिजिटल रूप में सुक्षित रहेगी।

• वैक्सीन से सम्बंधित हर महत्वपूर्ण जानकारी CoWIN 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड के माध्यम से प्राप्त की जा सकती है।

• वेक्सिनेशन सर्टिफिकेट जेनेरेट करने के लिए CoWIN 4 -डिजिट सिक्योरिटी कोड पता होना आवश्यक है।

भारत में Covid वेक्सिनेशन कार्यक्रम

• भारत में Covid वेक्सिनेशन कार्यक्रम की शुरुवात 16 जनवरी 2021 को गयी थी।

• Covid वेक्सिनेशन कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री ने “दवाई भी, कड़ाई भी” मंत्र दिया।

• Covid वेक्सिनेशन कार्यक्रम के प्रथम चरण के दौरान स्वास्थ्य कर्मियों को यह टीका लगाया गया।

• Covid वेक्सिनेशन कार्यक्रम के पहले दिन 1,91,181 लोगो को वैक्सीन का टीका लगाया गया था।

• Covid वेक्सिनेशन कार्यक्रम के दूसरे चरण की शुरुवात 2 फ़रवरी 2021 से की गयी थी।

• Covid वेक्सिनेशन कार्यक्रम के दूसरे चरण में फ्रंट लाइन वर्कर्स और सफाई कर्मचारियों को यह टीका लगाया गया।

• Covid वेक्सिनेशन कार्यक्रम के तीसरा चरण की शुरुवात 1 मार्च 2021 से की गयी।

• Covid वेक्सिनेशन कार्यक्रम के तीसरे चरण में 60 साल से अधिक उम्र के लोगों एवं 45-59 साल के उन लोगों को लगाए गये , जो गंभीर बीमारियों से ग्रस्त थे, को टीका लगाया गया था। । केंद्र सरकार द्वारा 20 गंभीर बीमारियों की लिस्ट भी जारी की गयी थी।

• Covid वेक्सिनेशन कार्यक्रम के चौथे चरण की शुरुवात 1 मई 2021 से सम्पूर्ण देश में एक साथ की गयी है। किन्तु कई राज्यों में वैक्सीन की कमी की वजह से इसकी शुरुवात नहीं हो पायी है।

• Covid वेक्सिनेशन कार्यक्रम के चौथे चरण में 18-44 आयु वर्ग के सभी व्यक्तियों को टीका लगाया जाना है।

• Covid वेक्सिनेशन कार्यक्रम के तहत अभी तक 17 करोड़ लोगो को वैक्सीन लग चुकी है।

• Covid वेक्सिनेशन कार्यक्रम के तहत 3.58 करोड़ लोगो को दोनों डोज़ दी जा चुकी है।

• देश में Covid वेक्सिनेशन कार्यक्रम के दौरान सीरम इंस्टिट्यूट इंडिया, की कोवीशील्ड तथा भारत बायोटेक, की कोवैक्स वैक्सीन लगायी जा रही है।

चलते चलते

दोस्तों , देश में बढ़ते कोरोना के संक्रमण के चलते वेक्सिनेशन कार्यक्रम में तेजी लाने की आवश्यकता है। रूस की वैक्सीन स्पुतनिक -V को भी भारत सरकार ने आयात किया है , यह वैक्सीन जल्द ही वैक्सीन सेंटर में उपलब्ध हो जाएगी। साथ ही देश की बहुत सी अन्य वैक्सीन भी अपने ट्रायल के चौथे चरण में पहुंच गयी है , निकट भविष्य में ये भी वेक्सिनेशन के लिए उपलब्ध हो जाएँगी। हमारा देश जनसँख्या की दृष्टि से काफी बड़ा है यहां पर वेक्सिनेशन ड्राइव में तेज़ी लाने की ज़रूरत है। केवल 1-2 कंपनियों के भरोसे 135 करोड़ की जनसँख्या को वेक्सिनेशन करने में सालो लग जायेंगे, इस गंभीरता को देखते हुए केंद्र सर्कार को अभी तक कोई ठोस कदम उठा लेना चाहिए था। जिस गति से वेक्सिनेशन हो रहा अगर ऐसा हे चलता रहा तो कोरोना देश में तांडव मचा देगा। वेक्सिनेशन के साथ-साथ हमारी केंद्र सरकार को देश में ऑक्सीजन की सप्लाई और मेडिकल फैसिलिटी को भी तीव्र गति से बेहतर करना होगा। देश में जो हालत हैं उसको देखते हुए फ़ाइज़र और मॉडेर्ना जैसी Covid वैक्सीन को भारत में जल्द ही अनुमति मिल जानी चाहिए।

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.