प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना क्या है? | What is Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana (PMFBY)?

99
Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana
PLAYING x OF y
Track Name
00:00

00:00


भारत एक लोकतांत्रिक देश है जहाँ की सरकार लोगों द्वारा लोगों के लिए ही चुनी जाती है। ऐसे में सरकार की ज़िम्मेदारी भी बनती है और कर्तव्य भी कि वो देश की जनता का ध्यान रखे और ऐसे कदम उठाए जो उनकी बेहतरी के लिए हो। कृषि प्रधान देश होने के कारण यह हमारे देश का सबसे अहम पहलू है। किसानों को सर्वोपरि माना जाना चाहिए लेकिन कृषि जो है वो कई बार प्राकृतिक कारणों से खराब हो जाने के कारण किसानों को भारी नुकसान झेलना पड़ता है। इस वजह से भारत की अर्थव्यवस्था पर भी असर पड़ता है। इसी बात को ध्यान में रखते हुई हमारे देश में ‘प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना’ की शुरुआत हुई है। अगर आपको इस योजना के बरे में अधिक जानना है तो यह पूरा लेख आखिर तक ज़रूर पढ़िए।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना क्या है? | What is Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana (PMFBY)?

हमारे देश में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा 13 जनवरी 2016 को की शुरुआत की गई। यह योजना हमारे देश के किसान वर्ग के लिए है। इससे खराब मौसम और कीट जैसी परेशानियों से तो उनकी रक्षा होती ही है, साथ ही जो किसान खेती के लिए ऋण लेते हैं उनका बोझ भी हल्का हो जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि जो भी आपने लोन या ऋण लिया है उसकी प्रीमियम का कुछ हिस्सा भरने में सरकार आपकी मदद करेगी। कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय की देखरेख में चल रही इस योजना के तहत बीमा निपटान की जो प्रक्रिया है उसे आसान और तेज़ बनाने के लिए निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का उद्देश्य क्या है? | What is the objective of Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana (PMFBY)?

सबसे पहले तो यह जान लीजिये कि आखिर इस योजना को शुरू करने का उद्देश्य क्या है। जब प्रकृतिक आपदाओं, रोगों या कीटों के कारण फसल बर्बाद हो जाती है तो किसानों को बीमा कवरेज और वित्तीय सहायता प्रदान की जाए। कृषि की प्रक्रिया और और हमारे किसान भाइयों की आय स्थाई हो सके, इस वजह से भी फसल बीमा योजना की शुरुआत की गई। इस योजना के तहत किसानों को कृषि के नए तरीके और उसके लिए उपयोगी नई पद्धतियों और तकनीकियों को भी सिखाया जाता है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के मुख्य बिन्दु  | Important Features of Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana 

अब एक नज़र में इस योजना को कैसे समझा जा सकता ये आपको आगे पढ़कर समझ आएगा। इस फसल योजना के कुछ मुख्य आकर्षण इस प्रकार हैं –

  1. सभी खरीफ फसलों के लिए 2 प्रतिशत का और सभी रबी फसलों के लिए 1.5 प्रतिशत का एक समान प्रीमियम का भुगतान किसानों द्वारा किया जाना है। और वहीं बागवानी फसलों और और वार्षिक वाणिज्यिक फसलों के लिए ये प्रीमियम केवल 5 प्रतिशत का हो जाएगा।
  2. इस योजना में किसान को बीमा लागत की केवल 1.5-2% रकम ही चुकानी होती है बाकी की दर केंद्र और राज्य सरकार मिलकर चुकाती है।
  3. इस योजना की सबसे अच्छी बात यह है कि प्रीमियम की जो दर किसानों के लिए राखी गई है वो बहुत कम है और बाकी जो भुगतान की दर बचेगी वो सरकार द्वारा किया जाएगा। ऐसा इसलिए क्योंकि अगर किसी प्राकृतिक आपदा के कारण किसान की फसल नष्ट हो जाती है तो किसान को उसकी पूरी बीमित राशि प्राप्त हो सके।
  4. प्रद्योगिकी और तकनीकी का इस्तेमाल बढ़ाया गया है ताकि सारा डेटा आसानी से एकत्रित करके अपलोड किया जा सके और भुगतान में किसी भी प्रकार की देर न हो। स्मार्ट फोन, रिमोट सेन्सिंग ड्रोन्स और जीपीएस जैसी सुविधाओं के साथ अब किसानों का डेटा इकट्ठा करने का काम काफी आसान हो रहा है।
  5. किसानों को बिना किसी भी कटौती के पूरी की पूरी बीमा राशि का दावा मिल सके इस वजह से प्रीमियम दर पर जो पहले कैंपिंग का प्रावधान था अब उसे हटा दिया गया है।
  6. भारतीय कृषि बीमा कंपनी द्वारा इस योजना को नियंत्रित किया जाता है। और यहाँ तक कि इसे सेवा कर से भी छूट प्राप्त है।

कब मिलता है प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ? | When will you get the benefit of Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana?

अगर आप भी इस योजना का फायदा लेना चाहते हैं तो आपको यह ध्यान रखना होगा कि आपका फॉर्म बुआई के बाद दस दिन के अंदर ही भर जाए। इसके बाद फसल काटने और तैयार करने के 14 दिनों के बीच यदि किसान की फसल बर्बाद होती है तभी आप फसल बीमा योजना का लाभ लेने के हकदार होंगे। रही बात फॉर्म भरने की तो वो ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही माध्यमों से भरा जा सकता है। ऑफलाइन भरने के लिए आपको अपने नज़दीकि बैंक में जाकर प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का फॉर्म मांगना होगा और यदि आप सक्षम हैं कि ऑनलाइन फोरम भर सकें तो आप इस वैबसाइट पर जा सकते हैं – https://pmfby.gov.in/

इसके साथ ही महत्वपूर्ण बात यह भी है कि किसान को अपना एक फोटो, एक पहचान पत्र, पते का प्रमाण पत्र, खेत का खसरा नंबर और सरपंच या पटवारी से खेत में बुआई से संबन्धित एक पत्र भी चाहिए होता है। अगर किसी की फसल नष्ट होती है और वो फसल बीमा योजना का फॉर्म भर चुका है तो वो मुआवज़े के लिए दावा कर सकता है।

विशेष मोबाइल एप और वेब पोर्टल | Special Mobile App and Web Portal

जानकारी का उचित प्रचार और प्रसार हो सके, योजना में पारदर्शिता रह सके और प्रशासन का बेहतर समनव्य हो सके इसके लिए सरकार द्वारा अलग से एक बीमा पोर्टल शुरू किया गया है। एंडरोइड फोन्स के लिए ‘फसल बीमा एप’ भी शुरू हुआ है किसान कल्याण विभाग, कृषि सहयोग और फसल बीमा जैसी वेब साइट्स से आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं। अपनी फसल के बारे में जानकारी देने के लिए सरकार की तरफ से एक ईमेल आईड भी जारी की है और साथ ही कई हेल्पलाइन नंबर्स भी हैं। इसके साथ ही किसान को चाहिए कि वो बीमा कंपनी को तुरंत अपने नुकसान के बारे में सूचित करे।

उम्मीद है आपको इस जानकारी ने लाभ पहुंचाया होगा। यदि अभी भी आपके मन में कोई प्रश्न है या विचार है तो आप उसे कमेंट बॉक्स में लिखकर साझा कर सकते हैं।

धन्यवाद!

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.