JEE MAIN 2019 का पूरा शेड्यूल, जानिए इस बार की परीक्षा में हुए हैं क्या- क्या बड़े बदलाव

1103
JEE MAIN 2019 FORM

देशभर के आईआईटी और दूसरे इंजीनियरिंग कॉलेजों में दाखिले के लिए आयोजित होने वाली राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा JEE MAIN 2019 का नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया है। इसके लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया 1 सितंबर से ही शुरू हो चुकी है। इस बार ये एग्जाम नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) की ओर से आयोजित किया जाएगा, जबकि इससे पहले इसे सीबीएसई द्वारा किया जाता था। इस बार जेईई मेन २०१९  की परीक्षा में कई बदलाव भी किए गए हैं। साल २०१९  में संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) दो बार आयोजित की जाएगी। एक बार जनवरी में और दूसरी बार अप्रैल में। दोनों परीक्षाएं कंप्यूटर-आधारित मोड में आयोजित की जाएंगी। पिछले साल उम्मीदवार के पास पेन और पेपर मोड या कंप्यूटर-आधारित मोड में परीक्षा देने का विकल्प मौजूद था।  चलिए सबसे पहले जानते हैं इससे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियां।

महत्वपूर्ण तारीखें

जेईई मेन जनवरी २०१९  की परीक्षा के लिए

आवेदन की आखिरी तारीख- ३० सितंबर २०१८

फीस भरने की आखिरी तारीख- १ अक्टूबर २०१८

आवेदन पत्र में सुधार की अंतिम तारीख- ०८-१४ अक्टूबर २०१८

प्रवेश पत्र लेने की तारीख- १७ दिसंबर २०१८

परीक्षा की तारीख- ०६-२०  जनवरी २०१९

नतीजे घोषित करने की तारीख- ३१ जनवरी २०१९

 

जेईई मेन अप्रैल २०१९  की परीक्षा के लिए

आवेदन शुरू होने की तारीख- ०८ फरवरी २०१९

आवेदन करने की अंतिम तारीख- ०७ मार्च २०१९

प्रवेश पत्र लेने की तारीख- मार्च २०१९

परीक्षा की तारीख- ०६-२०  अप्रैल २०१९

नतीजे घोषित करने की तारीख- ३० अप्रैल २०१९

 

आधिकारिक वेबसाइटwww.jeemain.nic.in

ऑनलाइन आवेदन करने के लिए एक लिंक एनटीए के साइट पर भी दी गई है- www.nta.ac.in

योग्यताएं

  • उम्मीदवार को १२वीं की परीक्षा में कम से कम ७५ प्रतिशत अंक मिले हो।
  • आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों के लिए इसे ६५ प्रतिशत रखा गया है।
  • उम्मीदवार ने १२वीं की पढ़ाई साइंस स्ट्रीम से की हो।
  • उम्मीदवार के जन्म की तारीख १ अक्टूबर १९९३ या उससे पहले होनी चाहिए ।

 

सिलेब्स और परीक्षा पैटर्न

पेपर (बीई/बीटेक)

  • पेपर १ में केमिस्ट्री, फिजिक्स और मैथ्स इन तीन विषयों से प्रश्न पूछे जाएंगे।
  • तीनों ही विषयों से १२० अंकों के ३०३० सवाल पूछे जाएंगे।

 

पेपर २ (बी.आर्क/बी.प्लान)

  • पेपर २ में मैथ्स, ऐप्टिट्यूड टेस्ट और ड्रॉइंग टेस्ट से सवाल पूछे जाएंगे।
  • मैथ्स से १२० अंकों के ३० सवाल पूछे जाएंगे।
  • ऐप्टिट्यूड टेस्ट की परीक्षा २०० अंकों अंकों की ली जाएगी। जिसमें ५० सवाल होंगे।
  • ड्रॉइंग टेस्ट से ७० अंकों के २ सवाल पूछे जाएंगे।

आपको बता दें कि इन परीक्षओं में हर सही उत्तर के लिए ४ अंक दिए जाएंगे। साथ ही हर एक गलत उत्तर के लिए १ अंक काटा भी जाएगा।

इस बार जेईई मेन २०१९ की परीक्षा में किए गए बड़े बदलावों के बारे में।

  • जनवरी में होने वाली परीक्षा को फर्स्ट एटेम्पट कहा जाएगा और अप्रैल में होने वाली परीक्षा को सेकेंड एटेम्पट माना जाएगा।
  • स्टूडेंट्स एक साल में होने वाली दोनों ही परीक्षाओं में बैठ सकते हैं।
  • एक साल में दो बार दी गई परीक्षाओं में जिस परीक्षा का रिजल्ट बेहतर होगा, उम्मीदवार को उसके आधार पर ही जेईई एडवांस के लिए मौका दिया जाएगा।
  • अब १२वीं क्लास के रोल नंबर को वेरिफाई कराने की जरुरत नहीं होगी।
  • परीक्षार्थी ऑनलाइन एग्जाम के लिए अपना स्लॉट बुक करा सकते हैं।
  • अब जेईई मेन क्वॉलिफाई करने वाले टॉप २२४०००  छात्र जेईई अडवांस्ड में बैठेंगे।
  • एनटीए ने जेईई मेन एग्जामिनेशन के लिए २६९७ अभ्यास केंद्र बनाए हैं जिसकी जानकारी एनटीए के ऑफिशल वेबसाइट पर उपलब्ध है।
  • सीबीएसई ने २५८ परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा के आयोजन का निर्णय लिया है जिनमें से २४८ केंद्र देश के अंदर होंगे और १० केंद्र विदेश में होंगे।
  • नए नियमों के अनुसार डायबीटीज पीड़ित परीक्षा केंद्र पर शुगर टेबल, फल और पानी की पारदर्शी बोतल ले जा सकते हैं।
  • प्रैक्टिस सेंटर शनिवार और रविवार को खुलेंगे जहां छात्रों को मुफ्त में करीब एक घंटे अभ्यास का मौका मिलेगा।
  • अगले साल से एनटीए जेईई अभ्यर्थियों के लिए अपना टीचिंग सेंटर्स शुरू करेगा। उनलोगों से कोचिंग का कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा।

 

जेईई मेन २०१९ में सफल होने के कुछ महत्वपूर्ण टिप्स

  • स्कूल के बाद से ज्यादातक उम्मीदवार कागज पर सवालों को हल करने की कोशिश करते हैं, अब इससे बचना चाहिए। अब जटिल प्रश्नों को हल करने के लिए कंप्यूटर का उपयोग करें।
  • अपने १२वीं के सिलेब्स पर पूरी तरह से फोकस करें। क्योंकि जेईई मेन में यहीं से सवाल पूछे जाते हैं। जितना ज्यादा से ज्यादा हो सके उसकी प्रैक्टिस करें।
  • जेईई जनवरी सत्र में होने वाली परीक्षा के लिए आवेदन जरूर करें। इससे आप नए कंप्यूटर आधारित प्रारूप के बारे जानकारी हासिल कर पाएंगे।
  • जेईई मेन्स परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए परीक्षा अभ्यास केंद्रों पर जरूर जाएं। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी देश भर में ३००० से अधिक अभ्यास केंद्र स्थापित कर रही है।

 

निष्कर्ष

जेईई मेन २०१९ की परीक्षा के लिए पाठ्यक्रम, प्रश्न प्रारूप, भाषा और फीस में किसी तरह बदलाव नहीं किया गया है। आपको हमारा ये आर्टिकल कैसा लगा, हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट कर के जरूर बताएं।

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.