यूपीएससी की तैयारी के लिए किसी उपहार से कम नहीं अर्थशास्त्र की ये किताबें

484
Economics Books for UPSC

यूपीएससी परीक्षा की तैयारी करना किसी के लिए आसान नहीं होता। खासकर अर्थशास्त्र एक बड़ी चुनौती पेश करता है। परीक्षा में हमेशा ही मूलभूत प्रश्नों को प्राथमिकता दी जाती है। ऐसे में जरूरी है कि अवधारणाओं को अच्छी तरह से समझा जाए और साथ ही परिभाषाओं के साथ उद्देश्यों की अच्छी समझ हो। अर्थशास्त्र की तैयारी के लिए कुछ पुस्तकें बहुत ही उपयोगी हैं, जिनके बारे में यहां हम आपको बता रहे हैं।

अर्थशास्त्र की पुस्तकों का चुनाव करते वक्त ध्यान रखने योग्य बातें

  • देख लें कि सैद्धांतिक पाठ पुस्तक में है या नहीं? हर सेक्शन में विषयवार चीजें दी गई हों तो सिद्धांतों को समझना और उन्हें याद रखना आसान हो जाता है। इससे सोच भी विकसित होती है और निष्कर्ष तक पहुंचने में भी मदद मिलती है।
  • यह भी देखें कि विषयवार प्रश्न बैंक पुस्तक में शामिल है या नहीं? इससे प्रतियोगियों को संभावित प्रश्नों की जानकारी हो जाती है और उन्हें पहले ही हल करके वे अच्छी तैयारी कर सकते हैं।
  • पुस्तक में यदि सेक्शन के आधार पर या फिर समग्र माॅक टेस्ट हो तो और भी अच्छा है, क्योंकि तैयारी को अंतिम रूप देने में ये बेहद मददगार साबित होते हैं।

पुस्तकें जो अर्थशास्त्र की कराती हैं अच्छी तैयारी

यूपीएससी की तैयारी के लिए अर्थशास्त्र की निम्नलिखित पुस्तकें आपके बहुत काम आ सकती हैं:

माइक्रो इकोनॉमीएनसीईआरटी कक्षा 12

  • एनसीईआरटी की पुस्तकों के साथ शुरुआत करने से आपकी समझ विषय के प्रति अच्छी तरह से विकसित हो पाती है।
  • इस पुस्तक में अध्याय एक और पांच बड़े महत्वपूर्ण माने जाते हैं, जिनमें चार्ट भी हैं। चार्ट को आपको गहराई से पढ़ने की जरूरत नहीं है।
  • बजट सेट, तटस्थ वक्र, बजट लाइन के बारे में आपको इस किताब में उपयोगी जानकारी मिल जायेगी।
  • साथ ही मांग का लचीलापन, मांग वक्र की गतियां, आपूर्ति वक्र और आपूर्ति वक्र के साथ गतियां के बारे में भी आसान शब्दों में पढ़ने को मिल जायेगा।
  • कुल उत्पाद, सीमांत उत्पाद, सीमांत उत्पाद घटाने के नियम, औसत उत्पाद समीकरण एवं चर अनुपात के नियमों की भी जानकारी आपको इसमें मिल जायेगी।

मैक्रो इकोनॉमी एनसीईआरटी कक्षा 12

  • इस किताब में आपको कुछ भी नहीं छोड़ना है। धन और बैंकिंग के साथ धन की आपूर्ति एवं राष्ट्रीय आय लेखा की जानकारी आपको इसमें मिलेगी।
  • सरकार के कार्य के साथ वित्तीय संकल्पना, खुली अर्थव्यवस्था, आय निर्धारण की भी जानकारी साफ-साफ मिल जायेगी।
  • बीओपी, विनिमय दर जैसी महत्वपूर्ण अवधारणाओं के बारे में भी आसान शब्दों में पढ़ने को मिल जायेगा।

रमेश सिंह की इंडियन इकोनॉमी फॉर सिविल सर्विसेज

  • इस पुस्तक में भारतीय अर्थव्यवस्था पर एक विस्तृत पाठ है, जिसमें यूपीएससी प्रारंभिक और मुख्य पाठ्यक्रम के सभी विषयों की विस्तार सेजानकारी दी गई है।
  • इस विषय के विशेषज्ञ ने इस पुस्तक को लिखा है। उनके नाम पर अर्थशास्त्र और समकालीन निबंध आदि पर कई किताबें हैं।
  • इस पुस्तक की सिफारिश यूपीएससी की ओर से अपनी पठन सूची में की गई है।

मैगबुक इंडियन इकोनॉमी

  • भारतीय अर्थव्यवस्था के बारे में इस किताब में यूपीएससी के आधिकारिक पाठ्यक्रम के अनुसार आर्थिक और सामाजिक विकास, सतत विकास, गरीबी, जनसांख्यिकी, सामाजिक क्षेत्र के बारे में सभी विस्तृत एवं वैचारिक पहलुओं को शामिल किया गया है।
  • भारतीय अर्थव्यवस्था को पूरी गहराई से कवर करने वाली यह किताब 16 अध्यायों में विभाजित है।

जीएस स्कोर इंडियन इकोनॉमी

  • यूपीएससी के बदले हुए पैटर्न के अनुसार प्रतियोगियों की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए इस पुस्तक को तैयार किया गया है।
  • इसमें अर्थव्यवस्था के परीक्षा की दृष्टि से उपयोगी पहलुओं को अच्छी तरह से ध्यान में रखा गया है।

इंडियन इकोइकोनॉमी एंड इकोनॉमिक डेवलपमेंट पार्ट 1

  • इस ई-बुक से उम्मीदवारों को उस अवधारणा को सीखने और समझने में मिलेगी, जिसका उपयोग उन्हें सवालों का जवाब देने के लिए करना चाहिए।
  • इस ई-बुक में हर वह संभावित सवाल उम्मीदवारों को मिल जाते हैं, जो किसी खंड के भीतर किसी विशेष विषय से तैयार किये जा सकते हैं।
  • इस किताब में भारतीय अर्थव्यवस्था और विकास एवं योजना विकास जैसे विषयों पर विस्तार से जानकारी दी गई है।

इंडियन इकोनॉमी एंड इकोनॉमिक डेवलपमेंट पार्ट 2

  • सभी संभावित सवाल का अभ्यास इस किताब के जरिये किया जा सकता है।
  • इस किताब में राजकोषीय, मौद्रिक और ऋण नीति, अंतर्राष्ट्रीय संगठन और रेलवे व आर्थिक बजट जैसे विषयों की भी जानकारी उपलब्ध है।

इंडियन इकोनॉमी फॉर जनरल स्टडीज

  • विजार्ड की भारतीय अर्थव्यवस्था पर आधारित यह पुस्तक लगभग सबकुछ कवर करती है।
  • केवल यूपीएससी ही नहीं, बल्कि कई प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले प्रतियोगियों के बीच यह बहुत लोकप्रिय है।

शंकरगणेश के की इंडियन इकोनॉमी की कंसेप्ट्स

  • बड़े सरल शब्दों में इसे लिखा गया है।
  • बुनियादी अवधारणाओं को समझने के हिसाब से यह सबसे अच्छी किताबों में से एक है।
  • इस किताब के साथ रमेश सिंह और संजीव वर्मा की किताब भी ठीक से पढ़ने से लाभ मिलेगा।

संजीव वर्मा की द इंडियन इकोनॉमी

  • अर्थव्यवस्था से संबंधित अलग-अलग विषयों का इसमें अच्छा विश्लेषण है।
  • यूपीएससी की मुख्य परीक्षा के जीएस पेपर 3 के आर्थिक खंड की इसमें समयामयिक जानकारी उपलब्ध है। समझने में भी यह बेहद आसान है।

दत्ता एवं सुंदरम की इंडियन इकोनॉमी

  • पाठ्य सामग्री के लिहाज से यह किताब बड़े काम की है।
  • इसके लेटेस्ट संस्करण में यूपीएससी के पाठ्यक्रम के मुताबिक अध्यायों में संशोधन भी किये गये हैं।
  • अर्थव्यवस्था के सामने जो चुनौतियां और समस्याएं हैं, उनका गहराई से विश्लेषण इस किताब में मौजूद है।

उमा कापिला की इंडियन इकोनॉमी

  • इसकी पाठ्य सामग्री भी यूपीएससी के तहत अर्थशास्त्र की तैयारी करने वाले प्रतियोगियों के लिए बेहद उपयोगी है।
  • स्नातक के स्टूडेंट्स बड़े पैमाने पर पाठ्यपुस्तक की तरह इसे इस्तेमाल में भी लाते हैं।

निष्कर्ष

इन पुस्तकों को पढ़ने के साथ अपनी तैयारी को पूरी  धार देने के लिए आपको टेस्ट सीरीज की भी सदस्यता जरूर ले लेनी चाहिए। इससे जो अभ्यास होगा, वह आपके बड़ा काम आयेगा। बताएं, आप अब तक कितनी बार यूपीएससी की परीक्षा में शामिल हो चुके हैं?

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.