जानिए कौन हैं जो बिडेन और कमला हैरिस?

536
Joe Biden and Kamala Harris

कौन हैं जो बिडेन? अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे सामने आने के बाद दुनियाभर में अधिकतर लोग इस सवाल का जवाब जानना चाह रहे हैं, क्योंकि जो बिडेन के अमेरिका का नया राष्ट्रपति चुने जाने के बाद उनके बारे में जानने की उत्सुकता हर किसी को है। इस लेख में हम आपको जो बिडेन, उनके राष्ट्रपति बनने के सफर, उनकी पत्नी जिला बिडेन और अमेरिका की उप-राष्ट्रपति चुनी गईं कमला हैरिस के बारे में विस्तार से जानकारी उपलब्ध करा रहे हैं।

इस लेख में आप जानेंगे:

  • कौन हैं जो बिडेन?
  • जो बिडेन का प्रारंभिक जीवन
  • राजनीतिक जीवन की शुरुआत
  • जो बिडेन से जब जिंदगी ने छीन लिया इन्हें
  • राष्ट्रपति बनने की कोशिश
  • यह तो अभी बाकी ही था
  • जो बिडेन से जुड़ीं कुछ और बातें
  • कौन हैं जो बिडेन की पत्नी जिल बिडेन?
  • कमला हैरिस बनीं उपराष्ट्रपति

कौन हैं जो बिडेन?

वर्ष 2020 के अमेरिकी राष्ट्रपति पद के चुनाव में वर्तमान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को हराकर जो बिडेन अमेरिका के नए राष्ट्रपति चुने गए हैं। एक साधारण मिडिल क्लास व्यक्ति का जीवन कभी बिताने वाले जो बिडेन ने न केवल अपनी जिंदगी में एकदम झकझोर कर रख देने वाले उतार-चढ़ाव झेले हैं, बल्कि पूरी मजबूती से इनका सामना करते हुए उन्होंने दुनिया का सबसे ताकतवर इंसान बनने तक का सफर भी सफलतापूर्वक तय कर लिया है।

जो बिडेन का प्रारंभिक जीवन

  • वह साल था 1942 और तारीख थी 20 नवंबर, जब एक आयरिश कैथोलिक परिवार में पेंसिलवेनिया के स्क्रैनटन में जो बिडेन ने जन्म लिया था। इनके पिता न्यू कैसल में एक कार सेल्समैन के तौर पर काम किया करते थे।
  • जब बिडेन 10 वर्ष के थे, तभी उनका परिवार न्यू कैसल ही आकर बस गया था। काफी तंगी में बिडेन के परिवार का जीवन-यापन हो रहा था। रहने के लिए उनके घर में केवल दो कमरे थे। जो बिडेन यहां अपने माता-पिता और 3 भाई-बहनों के साथ रहते थे। पढ़ाई-लिखाई अपनी बिडेन ने यहीं पूरी की।
  • इसके बाद University of Delaware से उन्होंने 1961 से 1965 तक इतिहास और पॉलिटिकल साइंस में ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल कर ली।

राजनीतिक जीवन की शुरुआत

  • जो बिडेन ने इसके बाद जूरिस डॉक्टर की डिग्री हासिल करने की ठान ली। अमेरिका में कानून की यह सबसे बड़ी डिग्री मानी जाती है। यह किसी को प्रोफेशनल पहचान भी दिला देती है।
  • यही वजह रही कि सिराकस यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ लॉ से बिडेन ने कानून की पढ़ाई की और 1968 में वे जूरिस डॉक्टर की डिग्री हासिल करने में कामयाब भी हो गए।
  • बिडेन ने इसके बाद Delaware Bar में शामिल होकर जब वकालत की प्रैक्टिस शुरू की थी, तो उसी दौरान उन्होंने राजनीति में भी प्रवेश करने की कोशिश शुरू कर दी थी।
  • जब बिडेन की उम्र केवल 29 वर्ष की थी, तभी सीनेट में उनका चयन हो गया था। ऐसा 1972 में हुआ था। इस तरीके से 2009 तक वे अमेरिकी सीनेट का हिस्सा रहे थे। बिडेन ने ऐसा करके इतिहास रच दिया था, क्योंकि Delaware का इतिहास पलट कर देखें तो सबसे लंबे अरसे तक बने रहने वाले अमेरिकी सीनेटर के तौर पर जो बिडेन का नाम इतिहास में दर्ज हो गया।
  • यही नहीं उन्होंने सीनेट की न्यायिक समिति के चेयरमैन के पद को भी संभाला था। इसके अलावा सीनेट के विदेश संबंध समिति के चेयरमैन की भी उन्होंने भूमिका निभाई थी।

जो बिडेन से जब जिंदगी ने छीन लिया इन्हें

यह बात जरूर थी कि जो बिडेन सफलता की सीढ़ियां चढ़ने लगे थे, लेकिन जिंदगी ने भी उसी दौरान इनकी परीक्षा लेनी शुरू कर दी। सीनेट में तो इनका चुनाव 1972 में हो ही गया था, लेकिन कुछ ही दिन बीते थे कि एक कार दुर्घटना में न केवल उनकी पहली पत्नी नीलिया की मौत हो गई, बल्कि बेटी नेयोमी ने भी दम तोड़ दिया।

उनके दो दुधमुंहे बच्चे अस्पताल में भर्ती थे। इस कार हादसे में किसी तरीके से उनकी जान बच गई थी। ऐसे में सीनेट के लिए जो बिडेन ने शपथ अस्पताल के कमरे में ही बैठ कर ली थी।

राष्ट्रपति बनने की कोशिश

  • जो बिडेन अमेरिका के राष्ट्रपति बनने का ख्वाब लंबे समय से देख रहे थे। यही वजह थी कि इसके लिए उन्होंने अभियान भी उन्हें 1987 में ही छेड़ दिया था। हालांकि, कुछ ही समय के बाद जो बिडेन पर यह आरोप लग गया था कि एक ब्रिटिश राजनेता का भाषण में उन्होंने चुराया था। इस वजह से ज्यादा दिनों तक उनका यह अभियान चल नहीं पाया।
  • एक ही साल बीता था कि एक गंभीर मानसिक बीमारी की चपेट में बिडेन 1988 में आ गए। किसी तरीके से बस उनकी जान जाने से बच गई। डॉक्टरों ने तो साफ चेता दिया था कि व्हाइट हाउस कैंपेन की वजह से वे अपनी जिंदगी से हाथ भी धो सकते हैं।
  • फिर उन्हें नॉमिनेशन के लिए 2008 में पार्टी ने चुना, मगर इन्हें ज्यादा समर्थन नहीं मिल पाया था, जिसकी वजह से इन्होंने अपनी इच्छा बदल दी। बराक ओबामा फिर अमेरिका के राष्ट्रपति चुने गए। उस दौरान बिडेन ओबामा का दाहिना हाथ बन गए थे।

यह तो अभी बाकी ही था

  • फिर जो बिडेन की जिंदगी में एक बड़ा हादसा हुआ, जिसने न केवल पूरी तरह से उन्हें हिलाकर रख दिया था, बल्कि कुछ समय के लिए राजनीतिक जीवन भी उनका ठहर सा गया था। जी हां, 2015 के मई में ब्रेन कैंसर की वजह से जो बिडेन ने अपने बड़े बेटे को खो दिया था।
  • इससे उबरने में उन्हें 5 साल लग गए। राजनीति में वापस आने के बाद इस बार राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव प्रचार के दौरान उन्होंने स्वास्थ्य सुविधाओं से लेकर जलवायु परिवर्तन तक के बारे में अपने भाषणों में अपने समर्थकों से कई सारे वादे किए।
  • उन्होंने अपने भाषण में यह भी कहा कि साल 2009 में ओबामा के राष्ट्रपति बनने के बाद हेल्थकेयर के क्षेत्र में जो काम शुरू हुए और जो 2017 तक जारी रहे, वे इन सभी को आगे बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

जो बिडेन से जुड़ीं कुछ और बातें

  • जो बिडेन को जानने वाले उन्हें ‘मिडिल क्लास जो’ भी कह कर पुकारते हैं, लेकिन वर्तमान में एक अनुमान के मुताबिक वे 9 बिलियन डॉलर की संपत्ति के मालिक हैं।
  • बराक ओबामा के राष्ट्रपति रहने के दौरान वे अमेरिका के उपराष्ट्रपति भी रहे। उन्होंने उपराष्ट्रपति के तौर पर अपना दूसरा कार्यकाल भी पूरा किया था।

कौन हैं जो बिडेन की पत्नी जिल बिडेन?

  • अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति के तौर पर शपथ लेने जा रहे जो बिडेन की पत्नी जिल बिडेन बहुत जल्द अमेरिका की पहली महिला बन जाएंगी।
  • जिल बिडेन के पास 4 डिग्रियां मौजूद हैं। इस वक्त उनकी उम्र 69 साल की है। वे एक शिक्षिका हैं।
  • भले ही जो बिडेन राष्ट्रपति चुन लिए गए हैं, मगर इसके बावजूद जिल बिडेन शिक्षिका के तौर पर अपना काम जारी रखेंगी। इस तरह से नॉर्दर्न वर्जिनिया कम्युनिटी कॉलेज में इंग्लिश की पूर्णकालिक प्रोफ़ेसर के रूप में काम करके वे अपना वेतन भी लेती रहेंगी।
  • राष्ट्रपति पद को लेकर जब चुनाव चल रहा था तो उसी दौरान जिल बिडेन ने अपना इरादा साफ करते हुए कहा था कि शिक्षकों का सम्मान होना और उनके योगदान के बारे में लोगों का जानना बहुत जरूरी है। इसलिए शिक्षिका के तौर पर सेवाएं देना मैं जारी रखूंगी।
  • जिल बिडेन यदि शिक्षिका के तौर पर नौकरी करना जारी रखती हैं तो अमेरिका के 231 वर्षों के इतिहास में यह पहला ऐसा मौका होगा, जब वहां की प्रथम महिला व्हाइट हाउस से नाता रखने के बावजूद अपने पेशे को जारी रखेंगी।
  • अमेरिका के इतिहास इतिहासकार कैथरीन जेलिसन ने भी कहा था कि डॉक्टरेट की डिग्री रखने वाली जिल बिडेन अमेरिका की पहली प्रथम महिला होंगी।

कमला हैरिस बनीं उपराष्ट्रपति

  • अमेरिका में उप-राष्ट्रपति चुनाव कमला हैरिस ने जीत लिया है। कमला हैरिस दरअसल भारतीय मूल की महिला हैं। उनके अमेरिका की उपराष्ट्रपति चुने जाने पर न केवल भारत, बल्कि एशिया में भी उत्साह का माहौल है।
  • अमेरिका में उपराष्ट्रपति का पद संभालने वालीं कमला हैरिस पहली भारतीय मूल की, पहली दक्षिण एशियाई अमेरिकी और पहली अफ्रीकी अमेरिकी महिला भी हैं।
  • चुनाव से पहले ही इस बात का अनुमान लगा लिया गया था कि उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ही बनेंगी। उन्हें बड़ी संख्या में अश्वेत अल्पसंख्यकों के मत विशेष तौर पर मिले हैं।
  • लंबे समय से कमला हैरिस एक एक्टिविस्ट के तौर पर भी काम कर रही थीं। उन्होंने अश्वेत आबादी के बीच अपनी पकड़ मजबूत बनाई। कॉलेजों एवं विश्वविद्यालयों के साथ उन्होंने बढ़िया तालमेल बैठाया। यही नहीं, महिलाओं के अल्फा कप्पा जैसे संगठनों से भी उन्होंने बेहतर रिश्ता कायम किया।
  • अमेरिका में एक असिस्टेंट प्रोफेसर शनाया ग्रे के हवाले से कई मीडिया रिपोर्ट्स ने यह कहा गया है कि कमला हैरिस के अमेरिका का उपराष्ट्रपति चुने जाने से अश्वेत और प्रवासी अमेरिकियों के बीच उत्साह का माहौल है। उनके मुताबिक एक अश्वेत और प्रवासी अमेरिकी महिला आज उपराष्ट्रपति के पद पर आसीन हो गई है, जो कि अमेरिका में आमतौर पर नहीं होता आया है। वे उनकी बच्चियों के लिए प्रेरणा का स्रोत बन गई हैं।

चलते-चलते

कौन हैं जो बिडेन? इस लेख को पढ़ने के बाद अच्छी तरीके से अब आपको यह मालूम पड़ गया है। जो बिडेन अमेरिका के राष्ट्रपति कोरोना वैश्विक महामारी के दौरान बने हैं। ऐसे में उनके सामने चुनौतियों का अंबार लगा है। हालांकि, जिस तरह से जो बिडेन ने अपनी जिंदगी में संघर्ष करके हर कठिनाई को हराया है, वैसे में उनसे उम्मीद की जा सकती है कि वे राष्ट्रपति के तौर पर भी हर तरह की चुनौती का सफलतापूर्वक मुकाबला कर लेंगे।

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.