जानिए क्या है Internet of Things (IoT)?

1549
Internet of Things (IoT)

IoT या Internet of Things आपको सुनने में थोड़ा अटपटा जरूर लग सकता है, मगर आपको यह जानकर हैरानी होगी कि बहुत जल्द ये आपकी जिंदगी का अहम हिस्सा बनने जा रहा है। जी हां, यह आपके रोजाना के काम को Automatic Mode में बदलने वाला साबित होगा, जिसकी वजह से आपके काम करने का तरीका बेहद आसान हो जायेगा। यहां हम आपको Internet of Things के बारे में Information Hindi में उपलब्ध करा रहे हैं, जिसके बारे में जानने के बाद आगे कोई यदि आपसे यह सवाल करेगा कि What is Internet of Things, तो आप उसका जवाब उसे अच्छी तरह से समझाकर दे पाएंगे।

What is Internet of Things?

Internet of Things दरअसल एक ऐसा concept है, जिसमें हमारे दैनिक जीवन में इस्तेमाल में आने वाली सारी चीजों का Internet से connect हो जाना शामिल है। जी हां, ऐसी सभी चीजें जिनमें On और Off बटन हैं और जिनका इस्तेमाल हम अपने घर में करते हैं, इन्हें इंटरनेट से जोड़ देना ही Internet of Things है। इसमें इन सभी चीजों जैसे कि TV, Fridge, Cellphones, Washing Machine, Coffee Makers आदि का आपस में जुड़ना और एक-दूसरे से communicate करना भी शामिल है।

Internet of Things (IoT) के उदाहरण

इसे आप इस उदाहरण से समझें कि आप नींद में हैं। इतने में आपके हाथो में लगा एक censor अचानक vibrate करने लगता है और आप उठ जाते हैं। आप देखते हैं कि इस पर high blood pressure लिखा हुआ message display हो रहा है। आपको यह Aspirin लेने की भी सलाह दे रहा है। आपका फोन भी इससे जुड़ा है और यह आपके सारे signals को record करके doctor के पास भेज देता है। हाॅस्पीटल में doctor को आपका health record और address भी मिल जाता है और एंबुलेंस व मेडिकल टीम आपके घर भेज दी जाती है। आपका इलाज होता है। फिर doctor आपको बताते हैं कि आपको severe heart attack आया था। अब आप पहले से बेहतर हैं, क्योंकि समय पर इसे रोक लिया गया। यही है IoT या Internet of Things.

IoT नाम किसने रखा?

सबसे पहले इस concept से दुनिया को रु-ब-रु कराने वाले Kevin Asthon थे, जिन्होंने 1999 में इसे Internet of Things कहा था। सिर्फ यह term ही नया था, जबकि इसके function में प्रयोग में आ रही तकनीकें जैसे कि pervasive computing, ubicomp और ambient intelligence के बारे में लोग पहले से ही जानते थे। पहला Version जहां इंटरनेट का data creation Internet के लिए बना था, वहीं इसका अगला Version data created by things के लिए बना था।

IoT का हिस्सा बनने वाले Devices

जिन भी devices में On और Off बटन हैं, वे इससे जुड़ सकते हैं। अब तो connected devices के IP Address को Internet Protocol Version 6 (IPv6) की वजह से assign करना सरल हो गया है। साथ ही जितने चाहे उतने devices को इससे इसकी मदद से connect किया जा सकता है। Smart glasses, Smart watches और Fitness bands जैसे Wearable devices तो वहीं घर में connect रहने वाले devices भी internet से connect हो सकते हैं। Internet के साथ vehicles connect हो सकते हैं। Water, gas, electricity आदि के smart meter को इससे जोड़ा जा सकता है, जिससे पूरा शहर भी internet से connect हो सकता है। BAN (Body Area Network) में wearables, LAN (Local Area Network) में स्मार्ट होम, WAN (Wide Area Network) में connected car और VWAN (Very Wide Area Network) में smart city Internet of Things से connect हो सकते हैं।

Internet of Things की जरूरत क्यों?

  • इससे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए समय पर आपको उचित सलाह मिल जाती है।
  • परिस्थिति के अनुसार सभी संभावित उत्तम संसाधनों की उपलब्धता आपके लिए सुनिश्चित हो जाती है।
  • Mobility Patterns में आपको सर्वश्रेष्ठ निर्णय लेने का अवसर मिल जाता है।
  • जो Local Providers होते हैं, उन्हें Best Possible Connection इससे मिल पाता है।

Internet of Things से लाभ

Internet of Things में रोजाना के हमारे जीवन को बेहद आसान बना देने की क्षमता है। इससे मिलने वाले benefits निम्नवत् हैं:

  • IoT जो data और inghts प्रदान करता है उससे industry यह समझ पाते हैं कि आखिर उनके consumers किस तरह की devices चाह रहे हैं। वे यह भी जान पाते हैं कि उन्हें अपनी services को और बेहतर कैसे बनाना है और innovative new products वे किस तरह से अपने उपभोक्ताओं को उपलब्ध करा सकते हैं। इससे अपने प्रतिद्वंद्वियों की तुलना में उनके लिए बेहतर service या product उपलब्ध करा पाना आसान हो जाता है।
  • बड़े ही smart और intelligent तरीके से IoT networks काम करते हैं। Real Time Data उपलब्ध कराकर ये day to day efficiency और productivity को optimize कर देते हैं।
  • IoT devices की खासियत है कि इनके द्वारा उपलब्ध कराये जाने वाले आंकड़े बेहद सटीक तो होते ही हैं, साथ ही ये organizations को automated workflows प्रदान करके operating costs और त्रुटियों को एकदम कम कर देते हैं।
  • IoT में smart devices से कनेक्ट होने से organizations आसानी से system और process को enhance कर पाते हैं, जिससे time की अच्छी बचत हो पाती है।

IoT के सामने चुनौतियां

किसी चीज से यदि आप लाभ प्राप्त करते हैं तो वे बिना चुनौतियों के नहीं मिलतीं। Internet of Things भी ऐसा ही है। यहां चूंकि हर चीज internet से connected है, ऐसे में cyber crime को इनके जरिये अंजाम दिया जा सकता है। इसलिए IoT के इस्तेमाल के दौरान सुरक्षा भी एक अहम चीज होगी, ताकि लोगों का personal data कहीं भी leak न हो और इनका दुरुपयोग करके उन्हें नुकसान न पहुंचाया जा सके। IoT में शामिल चीजों को समय के साथ अपडेट करना भी जरूरी होगा, ताकि इन्हें hack नहीं किया जा सके।

निष्कर्ष

यहां आपको Internet of Things के बारे में जो information Hindi में मिली है है, उसके आधार पर यह कहा जा सकता है कि IoT हमारे जीवन में क्रांतिकारी बदलाव लाने वाली चीज है, जो रोजाना की जिंदगी को automatic कर देने वाली है। इसके इस्तेमाल के दौरान बस सतर्क रहने की जरूरत है, ताकि कोई आपको नुकसान न पहुंचा सके।

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.