टीवी का आविष्कार किसने किया? | Who Invented Television?

2411
tv ka avishkar kisne kiya
PLAYING x OF y
Track Name
00:00

00:00


दोस्तों अगर मैं आपसे एक सवाल करू? हमारे मनोरंजन का सबसे अच्छा साधन क्या है?, तो बिना देर किये एक ही उत्तर मिलेगा, टेलीविजन या टीवी। क्या आपको पता है। 27 जनवरी 1926 को John Logie Baird ने पहली बार टेलीविजन के अविष्कार का सार्वजनिक प्रदर्शन लंदन में किया था। आज टेलीविज़न लोगों के स्टेटस का एक सिंबल बन गया है, जो जितना अमीर इंसान है उसके पास उतना बड़ा या महंगा टेलीविजन देखने को मिलता है। ऐसा बिलकुल भी नहीं है कि, टेलीविजन आज के दौर में ही स्टेटस सिंबल बना है, यह अपने अविष्कार के बाद से ही लोगों के बीच काफी पसंद किया जाने लगा था और लोग इसे अपने रुतबे से जोड़कर देखने लगे थे। आज का टेलीविजन कैसे लोगों की जीविका के महत्वपूर्ण साधनों में से एक बन गया और क्यों लोग इसे एक मनोरंजन के साधन से बढ़कर मानने लगे? कैसा था टेलीविजन की दुनिया का सफर ?और टीवी का आविष्कार किसने किया, इन सभी प्रश्नो के उत्तर आपको हमारे आज के लेख में मिलने वाले हैं, तो चलिए शुरू करते हैं आज का लेख टीवी का आविष्कार किसने किया (who discovered television)?

भूमिका

आवश्यकता अविष्कार की जननी होती है’, यह बात हम सब जानते ही हैं , यही बात टेलीविज़न के साथ भी लागू होती है। प्रारंभ में लोग मनोरंजन के लिए खेल, जादू -तमाशा, नाच-गाना, पशु-पक्षियों की लड़ाई, कुश्ती आदि का सहारा लेते थे। इसके बाद दुनिया को रेडियो की सौगात मिली और दुनिया दूर बैठे लोगों से जुड़कर मनोरंजन का लुफ्त उठाने लगी, चूँकि रेडियो की एक सीमा थी ये केवल दूर बैठे व्यक्ति की आवाज को हम तक पहुंचा सकता था, वहां के लाइव दृश्य को यह दिखाने में असमर्थ था। इसी जिज्ञासा ने रेडियो के बाद टेलीविज़न के अविष्कार को दिशा प्रदान की और रेडियो के बाद टेलीविज़न का अविष्कार सम्भव हो सका था। हालाँकि टेलीविज़न मनोरजन का मुख्य साधन है , लेकिन आज के दौर में टेलीविज़न की भूमिका केवल मनोरंजन तक सिमट कर नहीं रह गयी है अपितु  एजुकेशन, संचार तथा सूचना में भी इसका उपयोग किया जा रहा है।

टेलीविजन का आविष्कार किसने किया? | Who invented television?

  • यदि में कहूं आज के दौर में भी टेलीविजन का अविष्कार जारी है, तो आपको ये मजाक लगेगा किन्तु यह सच है। आधुनिक दौर में रोज नयी नयी टेलीविजन टेक्नोलॉजी के आगमन ने इसे विकाशील मॉडल की श्रेणी में डाल दिया है। टेलीविजन और स्मार्ट फ़ोन आधुनिक दौर की सबसे प्रगतिशील वस्तु हैं।
  • चलिए बात करते हैं, सबसे पहले आधारभूत टेलीविजन मॉडल की जो अभी तक इसके विकास का आधार बना हुआ है। जॉन लोगी बेयर्ड ने दुनिया को सबसे पहले टेलीविजन की सौगात दी थी। उन्होंने 1925 में पहला मकैनिकल सिस्टम आधारित ब्लैक & वाइट टेलीविजन बनाया था, जिसके कारण उन्हें टेलीविजन का अविष्कारक और फादर ऑफ़ टेलीविजन कहा जाता है।
  • सन 1925 में जॉन द्वारा मैकेनिकल टेलीविज़न बनाने के बाद सन 1927 में पहला इलेक्ट्रॉनिक टेलीविज़न बना। इस आविष्कार को अंजाम फिलो फार्न्सवर्थ (Philo Farnsworth) ने दिया। फिलो ने इलेक्ट्रॉनिक टीवी बनाने के बाद इसका सार्वजनिक प्रदर्शन September 3, 1928 को किया था।
  • भारत में पहला टेलीविजन प्रसारण 15 सितम्बर 1959 को किया गया था। तब तत्कालिक राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद जी ने इसका उद्घाटन आकाशवाणी भवन नई दिल्ली में किया था।

रंगीन टीवी का आविष्कार कब हुआ? | When Was Color TV invented?

टेलीविजन के अविष्कार के बाद इसके विकास का क्रम प्रारम्भ हो गया। सबसे पहले मैकेनिकल सिस्टम आधारित टेलीविजन सेट बना , उसके बाद इसका इलेक्ट्रॉनिक वर्जन आया इसका फुल इलेक्ट्रॉनिक वर्जन 1940 में आया था।  इसके बाद इसे रंगीन बनाने के क्षेत्र में कार्य किया जाने लगा। दुनिया के लिए पहला रंगीन टेलीविजन 1946 में प्रस्तुत किया गया था। इसे  John Baird की कंपनी ने 1940 में तैयार किया था। एक अनुमान के अनुसार 1948 में अमेरिका में लाखो कलर टीवी बेचे गए थे। भारत में रंगीन टेलीविजन की शुरुआत साल 1982 एशियाई खेलों के सजीव प्रसारण के साथ हुई थी।

भारत में टेलीविजन का सफर | Journey of Television in India

  • भारत में टेलीविजन का आगमन 1950 में हो गया था। तब इसे मद्रास में एक प्रदर्शनी के दौरान रखा गया था। भारत में टेलीविजन का पहला उपयोग कलकत्ता के नेओगी परिवार द्वारा किया गया था।
  • भारत में दूरदर्शन की शुरुआत और स्थापना 15 सितम्बर 1959 को प्रथम बार देश में टेलीविज़न के प्रसारण के साथ हुई थी।
  • भारत में टेलीविजन का प्रसारण 1959 में किया गया था। उस समय सप्ताह में 2 दिन 1-1 घंटे के लिए टेलीविजन का प्रसारण किया जाता था।
  • प्रारम्भ में टेलीविजन पर कार्यक्रम का प्रसारण आल इंडिया रेडियो के माध्यम से किया जाता था। इसमें मुख्य रूप से कृषि कार्यक्रम और स्कूली बच्चों के लिए शैक्षणिक कार्यक्रम प्रसारित किये जाते थे।
  • साल 1976 में आल इंडिया रेडियो से दूरदर्शन को अलग करके एक नए विभाग का निर्माण किया गया। इसके बाद देश के अन्य हिस्सों में भी दूरदर्शन केंद्र खुलने लगे थे।
  • साल 1976 से साइट प्रोजेक्ट के माध्यम से दूरदर्शन द्वारा कार्यक्रमों का निर्माण किया जाने लगा। इसमें कृषि, स्वास्थ्य, परिवार नियोजन आदि विषयों को शामिल किया जाता था।
  • साल 1982 में भारत के उपग्रह इनसेट -1ए के माध्यम से दूरदर्शन पर कार्यक्रमों का प्रसारण होने लगा। इसका प्रारम्भ एशियाई खेलों के आयोजन के साथ हुआ था।
  • अस्सी के दशक में देश भर में टेलीविजन ट्रांसमीटरों का जाल बुनने लगा था। देश की 75% आबादी के पास अब दूरदर्शन पहुँचने लगा था।
  • खेलों के सजीव प्रसारण में दूरदर्शन की अभूतपूर्व भूमिका रही थी। अब लोग रामायण, महाभारत, हमलोग और बुनियाद जैसे धारावाहिकों का आनंद भी दूरदर्शन के माध्यम से लेने लगे थे।
  • साल 1997 में प्रसार भारती की स्थापना के साथ ‘दूरदर्शन’ और ‘आल इंडिया रेडियो’ का निगमीकरण कर दिया गया। इसके बाद दूरदर्शन अपने 30 राष्ट्रीय और क्षेत्रीय चैनलों के साथ भारत के सबसे बड़ा प्रसारक के रूप में सामने आया था।
  • साल 1995 में सर्वोच्च न्यायालय का आदेश आया कि “वायु तरंगों पर भारत सरकार का एकाधिकार नहीं हो सकता है।” इसके बाद भारत में निजी और क्षेत्रीय चैनलों का विकास शुरू हो गया था।
  • इसके बाद भारत में STAR नेटवर्क (सैटेलाइट टेलेविज़न एशियन रीजन) का आगमन हुआ, स्टार ने भारत के ज़ी नेटवर्क के साथ मिलकर चैनल की शुरुआत की।
  • इसके बाद के दशकों में देश में निजी चैनलों की बाढ़ सी आ गयी वर्तमान में देश में 1000 से ज्यादा सरकारी, निजी और क्षेत्रीय चैनल मौजूद हैं।
  • भारत का दूरदर्शन के बाद सबसे पुराना चैनल NDTV (New Delhi Television Ltd) है , इसकी स्थापना साल 1984 में की गयी थी।

टेलीविज़न से जुड़े रोचक तथ्य | Interesting Facts About Television

  • 21 नवंबर 1996 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने पहले विश्व टेलीविजन फोरम की स्थापना की थी तथा इस दिवस को वर्ल्ड टेलीविजन डे (World Television Day) के रूप में मनाये जाने की घोषणा की थी।
  • साल 1936 में बीबीसी (ब्रिटिश ब्राडकास्टिंग कॉउंसिल) ने विश्व की पहली टेलीविजन सेवा प्रारम्भ की थी।
  • अमेरिका में पहली बार टेलीविज़न का प्रसारण 1939 में किया गया था। अमेरिका में पहला रंगीन प्रसारण 1953 में CBS द्वारा किया गया था।
  • CBS एक color टेलीविजन set बनाने वाली पहली कंपनी थी। इसकी कार्यप्रणाली John Baird’s की मूल प्रणाली पर आधारित थी।
  • पहला टीवी सैटेलाइट ‘टेलस्टार’ NASA द्वारा July 10, 1962 को लांच किया गया था। इसके माध्यम से पहली बार कार्यक्रमों का सजीव प्रसारण देखा जा सका था।
  • वर्ष 1969 में 600 मिलियन लोगों ने चंद्रमा पर पहले मानव लैंडिंग का लाइव प्रसारण देखा।
  • सोनी कंपनी ने पहली बार 1967 में होम वीडियो सिस्टम पेश किया।
  • 1981 में पहली बार जापानी टीवी कंपनी एनएचके ने एचडी (हाई डिफिनिशन) टेलीविजन (1125 लाइन ऑफ हॉरिजेंटल रिजॉल्यूशन) पेश किया।
  • टेलीविजन के रिमोट कंट्रोल का आविष्कार यूजीन पोली ने किया था। आपको जानकर हैरानी होगी , बेयर्ड ने पहले टीवी का निर्माण वर्ष 1924 में बक्से, बिस्कुट के टिन, सिलाई की सूई, कार्ड और बिजली के पंखे की मोटर का इस्तेमाल कर किया था।
  • भारत का अपना पहला निजी चैनल ज़ी नेटवर्क है। ज़ी पहली बार साल 1999 में स्टार नेटवर्क के साथ किये गए समझौते से अलग होकर अस्तित्व में आया था।
  • भारत के पहले प्रारंभिक क्षेत्रीय चैनलों में सनटीवी(तमिल), एशियानेट(मलयालम) आदि थे।

हमारे जीवन में टेलीविजन की भूमिका

टीवी ने हमे जागरूक किया है, उन चीजों के प्रति जिनके बारे में हम अनभिज्ञ थे या केवल किताबों में पढ़ते थे। टीवी ने हमारी सोच का दायरा बड़ा कर दिया है, इसने हमारा जीवन आसान बना दिया है। टीवी का सबसे बड़ा प्रभाव हमे ऐसे क्षेत्रों में देखने को मिलता है, जो दुर्गम परिस्थितियों के कारण आज भी समाज की मुख्य धारा से कटे हुए हैं। टीवी ने अलग अलग स्थानों के लोगों को एक दूसरे के करीब लाने का कार्य किया है। शिक्षा, स्वास्थ्य, सूचना-संचार में टीवी की भूमिका अभूतपूर्व रही है। वर्तमान युग डिजीटल युग है, ऐसे समय में स्मार्ट टीवी की भूमिका ने मानव के जीवन को पूरी तरह से बदल कर रख दिया है।

टीवी मानव जाति के लिए विज्ञान का एक चमत्कारी वरदान है। चूँकि यह मानव निर्मित संसाधन है अतैव इसके प्रभाव लाभदायक और हानिकारक दोनों ही हैं। एक अनुमान के अनुसार, एक आदमी अपने पुरे जीवन काल में औसतन 10 साल तक टीवी देखता है। टीवी देखने को लेकर कोई नियम तथा समय -सीमा नहीं है। हम अपनी इच्छा के अनुसार टीवी चैनल का चयन करते हैं और मनोरंजन करते हैं। टीवी की हमारे जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका है, टीवी हमारे भविष्य और वर्तमान को बहुत प्रभावित करता है। टीवी पर सभी प्रकार के कार्यक्रम पेश होते हैं, जैसे शिक्षा, समाचार, खेल,मनोरंजन  से जुड़े कार्यक्रम आदि। शिक्षा, खेल और समाचार कार्यक्रम का अपना एक दायरा है, ये केवल हमारे ऊपर सकारात्मक प्रभाव ही डालते हैं, किन्तु मनोरंजन कार्यक्रमों का कोई दायरा नहीं है, इसके अंदर फिल्मे, रियलिटी शोज, नाटक, हॉरर शो, कॉमेडी शो, एडल्ट शोज, एडवेंचर्स शोज, साइंस शोज जैसे अनेक विषयों पर मनोरंजक कार्यक्रम पेश किये जाते हैं, जिनका उद्देश्य हमारा मनोरंजन करना रहता है। अब ऐसे कार्यक्रमों का हमारे और बच्चों के जीवन पर लाभदायक और हानिकारक दोनों प्रकार का प्रभाव रहता है। यह हम पर निर्भर करता है है कि हम किन बातों को ग्रहण करते हैं और किन बातों का त्याग करते हैं।

निष्कर्ष

CTR यानि कैथोड टूयूब रे से LCD,  LCD से LED और अब QLED के सफर में टीवी ने मकेनिकल से स्मार्ट टीवी तक खुद को अपग्रेड किया है, आगे आने वाले समय में इसमें रिसर्च कार्य जारी है। विश्वभर के वैज्ञानिक टीवी में चित्र और आवाज के साथ गंध लाने की तकनीक का  विकास कर रहे हैं। आने वाले समय में हम टीवी पर दिखाये जाने वाले प्रोग्राम की खुशबू को महसूस कर सकेंगे। दोस्तों हम उम्मीद करते हैं , आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। इसी उम्मीद के साथ कि इसे आप अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करेंगे हम आज का यह लेख यहीं समाप्त करते हैं। धन्यवाद !

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.