Self Improvement के 14 रहस्य, जिनसे सफल बनेगी जिंदगी आपकी

554
13 ways of self improvement

जीवन में निश्चित तथा अप्रत्याशित सफलता प्राप्त करने के लिए आवश्यक है कि हम जीवन को एक व्यवस्थित शैली में जीएं।जीवन की गुणवत्ता को जानें। जीवन-कला को समझें, क्योंकि जीवन जीने के तरीकों में सुधार करके जीवन के उन बड़े-बड़े लक्ष्यों को आसानी से प्राप्त किया जा सकता है, जिनकी कल्पना हम अक्सर सपने में करते है। आज हम इस लेख के द्वारा आपको Self -Improvement के उन रहस्यों को बताने जा रहे हैं, जिनको अमल में लाने से आपके जीवन स्तर में निश्चित तौर पर सुधार होगा। आप खुद को पहले से बेहतर पाएंगे तथा आप जीवन में सफल होते चले जायेंगे।

1- सुबह जल्दी उठें

किसी भी काम की शुरुआत के लिए सबसे उत्तम समय प्रातःकाल का माना जाता है, क्योंकि इस समय हम सबसे अधिक ऊर्जावान महसूस करते हैं। सुबह का अभ्यास किया हुआ अधिक समय तक याद भी रहता है। यदि दिन की शुरुआत जॉगिंग, रनिंग, एक्सरसाइज, योगाभ्यास तथा प्राणायाम के साथ की जाये तो इससे पूरे दिन शरीर में तंदुरस्ती बनी रहती है। साथ ही सुबह की हवा साफ़ एवं ताज़ी होती है, जिस वजह से हमारे फेफड़े में शुद्ध हवा का आवागमन बना रहता है और वो लंबे समय तक हम स्वस्थ रहते है।

2- अपना लक्ष्य निर्धारित करें

वर्तमान समय में हर कोई सफलता की चाह में बेहताशा दौड़ रहा है और अधिकतर लोगों का कोई निश्चित लक्ष्य नहीं है, पर सफल सभी को होना है। यहां पर हर किसी की सफलता की कोई निश्चित गारंटी नहीं है। तथापि हर किसी की सफलता निश्चित हो सकती है बशर्ते कि उनके पास एक लक्ष्य हो और उस लक्ष्य तक पहुंचने की पूरी योजना हो। जीवन में लक्ष्य का होना बहुत जरूरी है, क्योकि बिना लक्ष्य का जीवन एक पशु के समान होता है, जो कि केवल अपनी भोजन पूर्ति तक ही सीमित रहता है। यह एक निश्चित बात है कि यदि आप अपने लक्ष्य पर कार्य नहीं कर रहे हैं तो आप किसी अन्य के लक्ष्य प्राप्ति का साधन बन रहे हैं। सीधे शब्दों में कहा जाये तो मेहनत आप कर रहे हैं, मगर उसका लाभ कोई दूसरा उठा रहा है। सबसे पहले अपना लक्ष्य तय करे। उसकी प्राप्ति की योजना बनाएं। हमेशा लक्ष्य के बारे में ही विचार करें। कड़ी मेहनत करें। अपने लक्ष्य को हमेशा गुप्त रखें, क्योकि यदि आप अपना लक्ष्य किसी को बता देते हैं तो उसकी प्राप्ति के आसार कम हो जाते हैं।

3- खुद पर Invest करना प्रारम्भ करें

खुद पर इन्वेस्ट करने का मतलब है कि ऐसी स्किल्स को सीखा जाये जो आपके व्यक्तित्व तथा आर्थिक स्थिति दोनों के लिए लाभदायक सिद्ध हों। एक सफल बिज़नेसमैन अपने धन को ऐसे छोटे-बड़े काम में लगाता है, जो उसे छोटा-छोटा ही सही, पर लम्बे समय तक लाभ देने वाला होता है। उसी प्रकार हमें भी अपनी क्षमता, प्रतिभा और दिमाग पर छोटा-छोटा इन्वेस्ट हमेशा करते रहना चाहिए, क्योकि ये छोटे-छोटे इन्वेस्ट ही आगे चलकर हमारे लिए सफलता के मार्ग खोलते हैं। यदि हमारा लक्ष्य निश्चित है और उसे प्राप्त करने के लिए हमें किसी विशेष स्किल्स की जरुरत है तो हमें बिना देर किये उन स्किल्स पर इन्वेस्ट करना चाहिए। इसी प्रकार से बहुत सी ऐसी स्किल्स होती हैं, जिन पर हमें समय-समय पर इन्वेस्टमेंट करते रहना चाहिए।

4- अपने समाज तथा चारों ओर के वातावरण को Observe, Analyze तथा Adopt करें

अपने समाज एवं आसपास के लोगों को हमेशा observe करना सीखें, क्योकि ऐसा करने से हम उनके गुणों एवं उनकी विशेषताओं को analyze करते हैं और उनसे सीखते हैं। उनकी उपलब्धियों से प्रेरणा लेते हैं तथा उनकी गलतियों से सीखते है। उनकी प्रेरणा तथा गलतियों से मिली सीख को जीवन में उतारते हैं। हमे अपने समाज से ऐसी उन सभी बातों को अपनाना चाहिए, जो हमारी लक्ष्य प्राप्ति में सहायक हों या हमारे अनुभव में वृद्धि करें।

5- परवाह न करें

लोग क्या कहेंगे? क्या सोचेंगे? सबसे बड़ा रोग क्या कहेंगे लोग? आपने अक्सर ये जुमला पढ़ा या सुना होगा। हम जीवन में न जाने कितने अवसर यह सोचकर गंवा देते हैं कि लोग क्या कहेंगे। समाज क्या कहेगा। तो मैं आपको एक बात बता देना चाहता हूं कि समाज में दो प्रकार के लोग रहते हैं। पहले, जिनको रत्ती भर भी फर्क नहीं पड़ता है आपके होने या न होने से, क्योकि ये लोग अपने काम में इतने व्यस्त होते है कि उनके पास वक्त ही नहीं होता लोगो के बारे में सोचने का। वे निरंतर अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए प्रयासरत रहते हैं। दूसरे वे लोग होते हैं, जिनके पास कोई लक्ष्य नहीं होता है और बहुत समय होता है बर्बाद करने को, तो ऐसे लोग बोलेंगे ही बोलेंगे। चाहे आप सफल रहो या असफल, उनका काम केवल बोलना ही है। इस स्थिति में हमेशा दूसरे प्रकार के लोगों को हमेशा नजरअंदाज करना सीखें, क्योंकि इनके पास कोई लक्ष्य नहीं है। इनका जीवन पशुओं के समान है। ये केवल आपकी दया के पात्र हैं। यदि सचिन तेंदुलकर अपनी पहली टेस्ट पारी के दौरान चोटिल होने पर भी पाकिस्तानी टीम की घातक गेंदबाजी के साथ-साथ उनके भद्दे कमेंट्स पर विचार करते तो शायद ही वे द सचिन तेंदुलकर बन पाते या रजनीकांत ये सोचते कि मैं तो बस कंडक्टर हूं और सुन्दर भी नहीं हूं तो वो कभी भी सुपरस्टार नहीं बन पाते। जीवन में यदि आपको लगे कि आप सही हैं तथा किसी काम को करने से आपके जीवन में सफलता के अवसर बढ़ते हैं तो आपको वो काम जरूर करना चाहिए बिना ये विचार किये कि लोग क्या कहेंगे।

6- Ideas को materialize करना सीखे

आपने सुना होगा ‘मुंगेरीलाल के हसीन सपने’ ये सपने,अक्सर सपना बनकर ही रह जाता है यदि इस पर कार्य नहीं किया जाये। हमारा मष्तिस्क हमेशा सोचता रहता है इसमें बहुत से विचार आते-जाते रहते है, कई विचार अच्छे होते है उन पर कार्य किया जा सकता है तथा एक निश्चित सफलता प्राप्त की जा सकती है, हमे सदैव ऐसे विचारो का खुले दिल से स्वागत करना चाहिए तथा उन्हें अमल में लेकर उन पर योजना बनाकर कार्य करना चाहिए- धीरूभाई अम्बानी का पेट्रोल पंप में नौकरी से एक बिज़नेस साम्राज्य के मालिक तक का सफर एक विचार ही था बस फर्क इतना था की उन्होंने इस पर जी-तोड़ मेहनत की थी।

7- अच्छी आदतों का विकास करें

जिस प्रकार से आवश्यकता ही अविष्कार की जननी होती है, ठीक उसी प्रकार से ‘अच्छी आदतें एक सफलतम जीवन की कुंजी होती हैं। हमें अपने जीवन में सदैव अच्छी आदतों का समावेश करते रहना चाहिए। कोशिश करें कि सामाजिक अच्छी आदतों का समावेश अधिक-से-अधिक हो। लोगों के प्रति आभार व्यक्त करना सीखें। उन्हें धन्यवाद करें। दिन में कम-से-कम दो लोगों की खुल कर तारीफ करें। लोगों की अच्छाइयों की सबके सामने तारीफ करें तथा उनके अवगुणों को व्यक्तिगत रूप में उन्हें बताएं। अच्छी किताबे पढ़ें। महान व्यक्तियों के व्याख्यान सुनें। ऐसी बहुत-सी आदतें हैं, जिनका प्रयोग हम अपने दैनिक व्यवहार में करके अपना जीवन सफल बना सकते हैं।

8- टू डू लिस्ट तैयार करे

अपने आवश्यक और अनावश्यक कार्यों की एक लिस्ट हमेशा बना लेनी चाहिए। इससे वर्क मैनेजमेंट में सुविधा होती है। कोशिश करनी चाहिए कि महीने के पहले दिन 15-30 मिनट इन कार्यो की लिस्ट के लिए निकाल लें और उन कार्यो को करने लिए जो ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं हैं। महीने का कोई एक दिन निश्चित कर लें। ऐसा करने से आप अपने सारे काम बिना किसी चिंता के आराम से कर पाएंगे।

9- अपने कार्यो का Feedback लेने की आदत का विकास करें

फीडबैक वह प्रकिया है, जिसमें हम अपने द्वारा किये गए कार्यों की समीक्षा दूसरों के द्वारा दी गयी प्रतिकिया के आधार पर करते हैं। यह सकारात्मक भी हो सकती है और नकारात्मक भी। अब यह हम पर निर्भर करता है कि हम दूसरों द्वारा फेंके गए पत्थरों से इमारत का निर्माण करते हैं या अपना दुर्भाग्य समझकर मैदान छोड़कर भाग जाते हैं। यदि आपको जीवन में किसी से आगे बढ़ना या अपने जीवन में एक कामयाब इंसान बनाना है तो आपको feedback लेने की आदत डालनी ही होगी। जब आप कुछ नया करते हैं, भले ही वह किसी भी field में हो, तब अपने काम का Feedback ही आपको सफल बनाने के लिए जरूरी है। Feedback लेने से आप अपने आप को, अपने किसी product या फिर अपनी service को और बेहतर बना सकते हैं।

10- खुद पर भरोसा रखें और अपनी गलतियों को स्वीकार करना सीखें

यदि आप चाहते हैं कि आप एक अच्छे इंसान बन सकें तो इसके लिए आपको खुद पर भरोसा रखने की जरूरत है, क्योंकि इंसान के आत्मविश्वास से ही उसे आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती है। इसीलिए जीवन में किसी भी कार्य को करने के लिए सबसे पहले खुद पर विश्वास होना बहुत जरुरी है। मान लीजिये कि आपने ठान लिया कि आपको आगे चलकर आईएएस बनना है, तो इसके लिए आप अथक मेहनत भी करेंगे, लेकिन जरा सोचिये यदि आपके अंदर खुद पर ही विश्वास न हो तो क्या इसे कर पाएंगे। आज एक बेहतर इंसान वही है, जिसके अंदर आत्मविश्वास कूट-कूट कर भरा है।

यदि आप खुद को एक बेहतर इंसान बनाना चाहते हैं तो इसके लिए खुद की गलतियों को स्वीकार करना बेहद जरूरी है। हर कोई अपनी जिंदगी में कोई-न-कोई गलती जरूर करता है, लेकिन यदि आप चाहते हैं कि आप वो गलती दोबारा नहीं करें, इसके लिए आपको पहले अपनी गलती में सुधार करना होगा जो कि आपको एक अच्छा इंसान बनाने में आपकी मदद करेगी।

11- Urgent और important काम को पहचानें

आपने अक्सर आपने आसपास के लोगों को मेहनत करने के बावजूद परेशान होते हुए देखा होगा या बॉस की डांट खाते हुए सुना होगा। इसका कारण है उनके द्वारा आपने काम को मैनेज नहीं कर पाना। वे Urgent एवं Important काम में फर्क नहीं कर पाते हैं। कोई भी कार्य पहले Important होता है। उसके बाद Urgent होता है। किसी कार्य को Urgent होने से पहले ही कर लिया जाये या फिर जब वह Important हो, तभी कर लिया जाये तो इसके कारण होने वाली असुविधाओं से बचा जा सकता है।

12- खुद पर नकारात्मकता हावी न होने दें

हमारे शरीर के चारों ओर एक आभामंडल होता है, जिसका निर्माण हमारे शरीर से निकलने वाली ऊर्जा से होता है। यदि हमारे विचार सकारात्मक हैं तो ये ऊर्जा भी सकारात्मक होगी। यदि हमारे विचार नकारात्मक हैं तो ये ऊर्जा भी नकारात्मक होगी। इस ऊर्जा का अपना एक स्तर होता है और यह सदैव उच्च ऊर्जा स्तर से निम्न ऊर्जा स्तर की ओर स्थानांतरित होती है। महान व्यक्तियों का सकारात्मक ऊर्जा स्तर, बहुत उच्च स्तर पर होता है, जिससे उनके संपर्क में आये हुए व्यक्ति भी सकारात्मकता का अनुभव करते हैं। मंदिर, मठ, गिरजाघर, मस्जिद या महान व्यक्तियों के समाधि स्थल, सत्संग, बुद्धिमान लोगों के व्याख्यान आदि ये सभी सकारात्मक ऊर्जा के केंद्र होते हैं। ठीक इसी प्रकार से नकारात्मक ऊर्जा स्तर के साथ भी होता है। इसलिए हमेशा यह प्रयास करना चाहिए कि अपने विचारों को हमेशा सकारात्मक रखें तथा नकारात्मक विचारों एवं व्यक्ति से दूरी बनाकर रखी जाये। जीवन में आगे बढ़ने के लिए तथा सफलता प्राप्त करने के लिए सकारात्मक रहना बहुत जरूरी है।

13- रोजाना कुछ न कुछ पढ़ें एवं लिखें

यदि हम महान एवं सफलतम लोगों के जीवन के बारे में पढ़ें तो एक आदत सभी की समान है। ये सभी रोज कुछ-न-कुछ पढ़ते हैं और नया सीखते हैं। साथ ही अपने जीवन के अनुभवों को किसी डायरी में लिखते हैं। इससे यह लाभ होता है कि ये लोग जीवन में नया तो सीखते ही जाते हैं, साथ मे अपने जीवन के अनुभवों को लिखकर आने वाली पीढ़ियों के लिए एक मार्गदर्शन का रास्ता बनाते जाते हैं। इसीलिए हमारे लिए यह जरूरी है कि हम भी अपने क्षेत्र या रुचि के अनुरूप किसी भी विधा की किताब के कुछ पन्नों को रोज पढ़ें तथा नया सीखने की ललक बनाये रखें, जिससे व्यक्तिगत रूप से मानसिक विकास होता जायेगा और जीवन में आपके सफलता के सारे मार्ग खुल जाएंगे। अपने अनुभव को लिखने की आदत आपके अंदर खुद की गलतियां स्वीकार करने की तथा उसमें सुधार करने की शक्ति को बढ़ावा देगी। साथ ही आने वाले समय में अन्य लोगों के मार्गदर्शन का पथ प्रशस्त करेगी।

14- ध्यान लगाएं तथा मानसिक स्वास्थ्य का ख्याल रखें

जिस प्रकार शारीरिक थकान को नींद द्वारा मिटाया जाता है, उसी प्रकार से मानसिक थकान के लिए ध्यान या meditation बनाये गए हैं। मानसिक स्वास्थ्य को बनाये रखने के लिए मष्तिष्क को आराम देना आवश्यक है। इसके लिए दिन में हर 4-5 घंटे के पश्चात् 5 मिनट के लिए आंखें बंद कर मष्तिस्क को विचारविहीन करें और एकाग्रचित करें या रात को सोने से पूर्व इस क्रिया को कर सकते हैं। इससे दिनभर की थकान से मष्तिष्क को आराम मिलेगा तथा वह सुचारु रूप से कार्य करेगा। इससे आपकी स्मरण शक्ति दुरस्त रहेगी और आपको मानसिक लाभ मिलेगा। साथ ही मानसिक एवं शारीरिक स्वास्थ्य में संतुलन बना रहेगा।

चलते चलते

हम आशा करते है कि इस लेख के माध्यम से बताये गए Self Improvement टिप्स आपको तथा आपके जीवन को नई दिशा देने में सहायक सिद्ध होंगे। यदि हमारे द्वारा किया गया यह प्रयास आपको पसंद आया हो तो कृपया इसे अपने दोस्तों और परिवारजनों के साथ जरूर शेयर करें और कमेंट करके हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें, जिससे भविष्य में हम इस प्रकार के अन्य लेख आपके लिए लाते रहें। धन्यवाद।

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.