Top 10 Film Making Courses: बढ़ती जा रही मांग

525
Film making course

Film making course युवाओं के बीच तेजी से लोकप्रिय होता जा रहा है। इसलिए इस क्षेत्र में कॅरियर बनाने से संबंधित बेहद उपयोगी जानकारी हम आपको यहां उपलब्ध करा रहे हैं।

फिल्मों की रंग-बिरंगी दुनिया वास्तव में बहुत ही निराली है। भारतीय सिनेमा ने भी अपने 100 वर्ष पूरे कर लिए हैं। आज के समय में फिल्म निर्माण के क्षेत्र में भी युवा कॅरियर बनाना चाह रहे हैं। इसकी सबसे बड़ी वजह यह है कि इस क्षेत्र में आज अवसरों की कोई कमी नहीं है। फिर भी फिल्म निर्माण के क्षेत्र में कॅरियर बनाना इतना भी आसान नहीं है, क्योंकि इस क्षेत्र में काफी चुनौतियां भी हैं।

वर्तमान समय में online filmmaking course भी उपलब्ध होने की वजह से अब इस क्षेत्र में युवाओं के लिए कॅरियर बनाना पहले से अधिक आसान हो गया है। ऐसे में इस लेख में हम शीर्ष 10 फिल्म मेकिंग कोर्सेज के बारे में आपको बता रहे हैं, जिनकी इन दिनों सबसे ज्यादा मांग है।

  1. M.Sc. (Cinema) + PG Diploma in Cinematography

  • सिनेमैटोग्राफी का यह कोर्स, जिसकी अवधि 2 साल की है, आजकल इसकी सबसे ज्यादा मांग देखी जा रही है।
  • जब आप इस कोर्स को कर रहे होते हैं, तो इस दौरान आप एक्टिंग से लेकर डायरेक्शन, साउंड, स्क्रीन राइटिंग, आर्ट डायरेक्शन सिनेमैटोग्राफी और एडिटिंग जैसी चीज़ों को सीखने का अवसर भी प्राप्त करते हैं।
  • इस कोर्स को पूरा कर लेने के बाद अपनी प्रतिभा के आधार पर आप बॉलीवुड और थिएटर की ग्लैमरस दुनिया का हिस्सा भी बन सकते हैं।
  • इस कोर्स को करने के दौरान आपको निर्देशन, शूटिंग, म्यूजिक वीडियो और डॉक्यूमेंट्री आदि बनाने के अलावा शार्ट फिल्मों को एडिट करने का भी मौका मिलता है।
  • इन सबके अलावा किसी फिल्म के लिए स्क्रीन राइटिंग किस तरह से की जाती है, यह भी आपको सीखने के लिए मिलता है।
  1. B.Sc. in Cinema and Diploma in Direction

  • Diploma in film making भी कई तरीके के आज उपलब्ध हैं। जिन फिल्म मेकिंग कोर्सेज की आज अधिक मांग है, उनमें डिप्लोमा इन डायरेक्शन और बीएससी इन सिनेमा भी प्रमुख रूप से शामिल हैं।
  • इस कोर्स को करने के दौरान फिल्म मेकिंग के बारे में आपको बहुत ही अच्छी तरीके से तकनीकी जानकारी हासिल होती है। इसके अलावा फिल्म मेकिंग की प्रक्रिया किस तरह से चलती है, इसे आप अच्छी तरह से समझ पाते हैं।
  • साथ ही डॉक्यूमेंट्री फिल्मों, शार्ट फिल्मों और ओटीटी प्लेटफॉर्म के लिए स्क्रिप्ट किस तरह से लिखी जाती है, इसका आपको काफी हद तक आईडिया हो जाता है।
  • इस कोर्स को करने के दौरान अपने काम को बेचने का हुनर भी आप सीखते हैं। इन सबके अलावा आपके अंदर यह आत्मविश्वास पैदा होता है कि आप खुद से किसी फिल्म के निर्माण की दिशा में कदम बढ़ा सकते हैं।
  1. B.Sc in Cinema and Post-Production (Video)

  • जिन Film making course की आज सबसे ज्यादा मांग है, उनमें से एक बीएससी इन सिनेमा एंड पोस्ट प्रोडक्शन भी है। इस कोर्स की यह खासियत है कि आपको इसमें पोस्ट प्रोडक्शन में स्पेशलाइजेशन हासिल हो जाता है।
  • इसके अलावा साउंड एडिटिंग, फिल्म और टीवी डायरेक्शन के भी विभिन्न पहलुओं को आप समझ लेते हैं।
  • थियेटर और ड्रामा के क्षेत्र में आपको काम करने का मौका मिलता है। कैमरा और लाइटिंग तकनीकों की समझ आपको होती है। साथ ही एक्टिव का हुनर भी आप सीख पाते हैं।
  1. B.Sc (Cinema) + Diploma in Acting

  • यह भी एक बहुत ही लोकप्रिय कोर्स है, जिसे कर लेने के बाद फिल्म निर्माण के क्षेत्र में आपको महारत हासिल हो सकती है।
  • इसमें एक तो आपको 3 साल की डिग्री मिल जाती है। इसके अलावा सिनेमैटिक आर्ट्स में आपको प्रोफेशनल ग्रेजुएट लेवल डिप्लोमा भी हासिल हो जाता है।
  • इस कोर्स को करने के दौरान आप बेहद गहराई में जाकर फिल्म निर्माण से जुड़ी चीजों को समझ पाते हैं। फिल्म निर्माण से जुड़ी एडवांस तकनीकों को सीखने का अवसर भी आपको मिल पाता है।
  1. Diploma in Visual Communication

  • इस कोर्स में एडमिशन लेने का फायदा यह है कि प्रोफेशनल तरीके से आप स्क्रीन प्रेजेंटेशन से जुड़े हुनर को सीख पाते हैं। इस कोर्स को करने के दौरान प्रोडक्शन और डायरेक्शन से जुड़े कौशल को सीखने का अवसर आपको मिलता है।
  • साथ ही अलग-अलग तरीके के कैमरा किस तरीके से काम करते हैं और किसी शूटिंग को अंजाम देने के दौरान लाइटिंग किस तरीके से सजाई जाती है, इन चीजों को आप सीख पाते हैं।
  • इन सबके अलावा साउंड रिकॉर्डिंग तकनीक आप सीखते हैं। साथ ही वीडियो एडिटिंग को भी सीखने का मौका आपको मिलता है।
  • वॉइस ओवर करना, रिकॉर्ड करना, म्यूजिक मिक्स करना और विजुअल कंसेप्ट को डेवलप करने के भी बारे में आपको इस कोर्स में जानकारी दी जाती है।
  1. PG Diploma in Film and TV Production Direction

  • Diploma in film making का चुनाव यदि आप अपने फिल्म मेकिंग कॅरियर के लिए कर रहे हैं तो निश्चित रूप से यह कोर्स आपके लिए बड़ा ही फायदेमंद साबित हो सकता है।
  • इस कोर्स की लोकप्रियता इसलिए बढ़ती जा रही है, क्योंकि इसे फिल्म और टीवी प्रोडक्शन के लिहाज से ही डिजाइन किया गया है। इस कोर्स को यदि आप किसी अच्छे संस्थान से पूरा करते हैं, तो पेशेवर एवं अनुभवी लोगों द्वारा आपको फिल्म और टीवी प्रोडक्शन से जुड़ी छोटी से छोटी चीजों को सीखने का अवसर मिल पाता है।
  • इस फिल्म मेकिंग कोर्स की यह खासियत है कि प्रोडक्शन के पहले की तैयारी से लेकर आप प्रोडक्शन के दौरान की एवं प्रोडक्शन पूरा हो जाने के बाद की चीजों को भी बहुत ही अच्छी तरह से समझ पाते हैं। इसके अलावा सिनेमैटोग्राफी के नियमों को भी जानने का मौका आपको मिलता है।
  1. Video Editing and Sound Recording

  • वीडियो एडिटिंग और साउंड रिकॉर्डिंग में आपको सर्टिफिकेट कोर्स करने का मौका मिलता है, जिनकी अवधि 3 से 6 महीने की होती है।
  • इसमें फिल्मों के निर्माण के बाद उनकी एडिटिंग से जुड़ी स्किल्स को आप सीख पाते हैं।
  • इसके अलावा साउंड रिकॉर्डिंग के भी अलग-अलग पहलुओं को सीखने का अवसर आपको मिल पाता है।
  • साथ ही कैमरा मूवमेंट की जानकारी भी इसमें आपको होती है।
  1. Diploma in Camera & Lighting Techniques

  • Online filmmaking course, जो आज के समय में लोकप्रिय होते जा रहे हैं, यह कोर्स उनमें से एक है।
  • इसमें आपको कैमरा के मूवमेंट्स से लेकर कैमरे की रिकॉर्डिंग और अलग-अलग प्रकार के कैमरों के बारे में जानने का पूरा अवसर मिलता है।
  • डीएसएलआर और वीडियो कैमरा चलाना आप सीखते हैं। साथ ही एक्स्पोज़र को कंट्रोल करना भी सीख पाते हैं।
  • साथ ही विभिन्न प्रकार की लाइटिंग और शूटिंग के दौरान इन लाइट्स को व्यवस्थित करने की तकनीक भी आप गहराई में जाकर सीख पाते हैं।
  1. M.Sc. (Cinema) + PG Diploma in Post Production

  • जिस तरह से फिल्मों की शूटिंग महत्वपूर्ण होती है, उसी तरीके से इसके बाद की एडिटिंग भी बेहद अहम हो जाती है।
  • इस कोर्स को करने के दौरान पोस्ट प्रोडक्शन से जुड़ी सभी तकनीकों को सीखने का अवसर आपको मिलता है।
  • साथ ही आप अलग-अलग तरह की स्क्रिप्ट लिखना और फिल्म की शूटिंग करना भी अच्छी तरह से सीख पाते हैं।
  1. M.Sc in Cinema and PG Diploma in Sound Editing

  • यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण कोर्स है, जिसमें आपको सिनेमा प्रोग्राम में दो साल की एमएससी की डिग्री तो हासिल होती ही है, साथ में साउंड एडिटिंग में आपको प्रोफेशनल डिप्लोमा भी मिल जाता है।
  • इस कोर्स को पूरा कर लेने के बाद आर्ट डायरेक्शन, स्क्रीन्राइटिंग एडिटिंग और एक्टिंग जैसे क्षेत्रों में आप बॉलीवुड एवं थिएटर में अपने लिए एक शानदार कॅरियर बना सकते हैं।

और अंत में

जिन शीर्ष 10 Film making course के बारे में यहां हमने आपको बताया है, इन सभी की मांग दिनोंदिन बढ़ती ही जा रही है। इसकी सबसे बड़ी वजह यही है कि आज फिल्म मेकिंग के क्षेत्र में दुनियाभर में प्रगति देखने के लिए मिल रही है। साथ ही इस क्षेत्र में संभावनाएं भी अपार हैं। तो मित्रों, यह जानकारी यदि आपको पसंद आई हो तो अपने दोस्तों के साथ भी इसे शेयर करना न भूलें।

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.