Diploma after 10th: क्यों, कॅरियर विकल्प और काउंसेलिंग की जरूरत

614
Diploma after 10th
PLAYING x OF y
Track Name
00:00

00:00


after 10thDiploma after 10th क्यों जरूरी है; इसके बाद कौन-कौन से कॅरियर विकल्प मौजूद हैं और कॅरियर काउंसलिंग का इसमें क्या महत्व है, इन सबके बारे में आप इस लेख में पढ़ेंगे।

सभी स्टूडेंट्स के जीवन में 10वीं सबसे पहला महत्वपूर्ण पड़ाव होता है, जिसे पार करने के बाद ही वे यह निर्णय ले पाते हैं कि अब उन्हें अपने कॅरियर को किस दिशा में आगे बढ़ाना है। ज्यादातर स्टूडेंट्स की यह चाहत होती है कि जल्द-से-जल्द वे आत्मनिर्भर हो जाएं यानी कि अपने पैरों पर खड़े हो जाएं। यदि आपकी भी चाहत कुछ ऐसी ही है और आप भी बहुत जल्द कोई नौकरी पाने की ख्वाहिश रखते हैं, तो ऐसे में दसवीं के बाद डिप्लोमा कोर्स का चयन करके आप अपने इस सपने को पूरा कर सकते हैं। दसवीं के बाद डिप्लोमा कर लेने के बाद न केवल आपको प्राइवेट सेक्टर में अच्छी नौकरियां मिल सकती हैं, बल्कि सरकारी क्षेत्रों में भी आपके लिए रोजगार के विकल्प खुल जाते हैं। तो चलिए इसके बारे में हम जानते हैं और विस्तार से।

Diploma से अभिप्राय

  • Career counselling for students जब कहीं पर भी आयोजित होते हैं, तो इस दौरान आपने देखा होगा कि काउंसेलर्स डिप्लोमा कोर्स के भी बारे में बताते हैं। यदि डिप्लोमा कोर्स को लेकर आप अभी भी असमंजस की स्थिति में हैं तो आपको बता दें कि डिप्लोमा दरअसल एक सर्टिफिकेट होता है, जो कि किसी कॉलेज या यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करने के बाद स्टूडेंट्स को मिलता है और इससे यह मालूम होता है कि किसी खास विषय में स्टूडेंट्स ने डिप्लोमा हासिल किया हुआ है।
  • जहां तक डिप्लोमा कोर्स की बात है, तो डिप्लोमा कोर्स को आप 3 से 6 महीने में भी पूरा कर सकते हैं और विषयों के आधार पर डिप्लोमा कोर्स की अवधि कई बार 2 से 3 साल तक भी चली जाती है। पूरी तरीके से डिप्लोमा कोर्स की अवधि उसके क्षेत्र पर निर्भर करती है।
  • यदि आप आईटीआई जैसे संस्थानों से डिप्लोमा कोर्स करते हैं, तो ऐसे में आपको बहुत ही अच्छी नौकरी मिलने की संभावना प्रबल हो जाती है। निश्चित रूप से वर्तमान समय में डिप्लोमा कोर्स की मांग न केवल अपने देश में, बल्कि दुनिया के अन्य देशों में भी तेजी से बढ़ी है और इसी वजह से यह बहुत ही लोकप्रिय होता जा रहा है।

Diploma after 10th: क्यों?

  • Diploma after 10th आखिर क्यों करना चाहिए, इस सवाल के जवाब कई हैं। दसवीं के बाद यदि आप डिप्लोमा करते हैं, तो इसका एक बहुत बड़ा लाभ यह मिलता है कि आपको एक बहुत ही अच्छी नौकरी बेहद कम वक्त में मिल सकती है। यह नौकरी आपकी प्राइवेट सेक्टर में भी हो सकती है और सरकारी क्षेत्र में भी। यह पूरी तरीके से इस बात पर निर्भर करता है कि आपके पास कितना ज्ञान है।
  • डिप्लोमा करने के बाद आपके लिए एक सुनहरे कॅरियर का दरवाजा खुल जाता है। डिप्लोमा करने के दौरान यदि आप प्रैक्टिकल पर ज्यादा ध्यान केंद्रित करते हैं और आपके हाथ में कुशलता आ जाती है, तो ऐसे में हर कंपनी आपको लेना चाहती है।
  • 10वीं के बाद डिप्लोमा करके जब आप काम करना शुरू करते हैं और जैसे-जैसे आपका अनुभव बढ़ता जाता है, वैसे-वैसे आपकी सैलरी में भी इजाफा होता चला जाता है। इस तरह से बेहद कम वक्त में आप काफी पैसे कमा सकते हैं।
  • इसमें कोई संदेह नहीं कि दसवीं के बाद डिप्लोमा कर लेने के बाद आपके पास बहुत से कॅरियर विकल्प खुले होते हैं, क्योंकि ऐसे अभ्यर्थियों के लिए सरकारी के साथ प्राइवेट सेक्टर में भी लगातार वैकेंसी आती रहती है। डिप्लोमा होल्डर्स वैकेंसी के लिए आवेदन करके अच्छी नौकरी आराम से हासिल कर सकते हैं।

ऐसे करें सही विकल्प का चयन

  • 10वीं के बाद सही विकल्प का चयन करना बहुत ही जरूरी होता है। यदि आप दसवीं की पढ़ाई कर लेने के बाद डिप्लोमा कोर्स करना चाह रहे हैं, तो सबसे पहले आपको किसी ऐसे कॉलेज या यूनिवर्सिटी के बारे में पता करने की जरूरत होती है, जहां से कि आप डिप्लोमा कोर्स को कर सकें।
  • यदि आईटीआई जैसे कॉलेज आपको मिल जाते हैं, तो यह आपके लिए काफी बेहतर होता है। यदि आपके पास निजी और सरकारी दोनों ही कॉलेजों के विकल्प मौजूद हैं, तो सबसे पहले आपको सरकारी कॉलेज का चयन करना चाहिए। यदि आपको वहां पर एडमिशन नहीं मिल पाता है या फिर आपको कोई अच्छा निजी कॉलेज डिप्लोमा कोर्स के लिए मिल रहा है, तो आप वहां से भी इसकी पढ़ाई कर सकते हैं।
  • बहुत से ऐसे निजी कॉलेज हैं, जहां पर कि आपको एडमिशन पाने के लिए किसी भी तरह की परीक्षा नहीं देनी पड़ती है। वहीं यदि आप सरकारी कॉलेजों में एडमिशन के लिए जाते हैं, तो यहां आपको प्रवेश परीक्षा में शामिल होना पड़ता है।
  • जब आपको डिप्लोमा कोर्स में एडमिशन मिल जाता है, तो इसके बाद आपको अपनी रुचि के मुताबिक क्षेत्र का चयन करना पड़ता है। जिस क्षेत्र में आप अपने आपको कुशल पाते हैं, आपको उसी क्षेत्र का चुनाव करना चाहिए और उसी विषय में डिप्लोमा करके अपने कॅरियर को आगे बढ़ाना चाहिए। ऐसा करने से आपको उस क्षेत्र में विशेषज्ञता हासिल हो जाएगी।

10वीं के बाद डिप्लोमा कोर्स

10वीं के बाद Career Options कई हैं, जिनके बारे में अब हम जान लेते हैं:

फाइन आर्ट्स में डिप्लोमा

फाइन आर्ट्स में यदि आप डिप्लोमा कर रहे हैं, तो यह 1 साल का होता है। इसके बाद आप ग्राफ़िक डिज़ाइनर, आर्ट लायसन ऑफिसर, फ्लैश एनिमेटर और आर्ट टीचर आदि के रूप में कॅरियर बना सकते हैं।

फैशन डिजाइनिंग में डिप्लोमा

दसवीं के बाद यदि आप फैशन डिजाइनिंग में डिप्लोमा कर लेते हैं, तो उसके बाद आप एक फैशन डिज़ाइनर, स्टाइलिश, टैक्सटाइल डिजाइनर या कॉस्ट्यूम डिजाइनर के रूप में अपने लिए एक बेहतर कॅरियर बना सकते हैं।

स्टेनोग्राफी में डिप्लोमा

दसवीं के बाद आप स्टेनोग्राफी में डिप्लोमा कर सकते हैं, जो कि आमतौर पर एक साल का होता है। इसमें कंप्यूटर और टाइपिंग से जुड़े कोर्स में शामिल होते हैं। इसे कर लेने के बाद सरकारी क्षेत्र में भी और निजी क्षेत्रों में भी आपकी नौकरी पाने की संभावना बढ़ जाती है।

इंजीनियरिंग में डिप्लोमा

सिविल, मैकेनिकल, ऑटोमोबाइल, कंप्यूटर और केमिकल जैसे कई डिप्लोमा कोर्सेज इंजीनियरिंग में हो सकते हैं, जिनकी अवधि न्यूनतम 3 साल की होती है। इसे करने के बाद सरकारी व निजी दोनों ही क्षेत्रों में आपको अच्छी नौकरी मिल सकती है।

आर्ट टीचिंग में डिप्लोम

यदि आप यह डिप्लोमा कोर्स कर लेते हैं, जो कि 6 महीने का होता है, तो इसे पूरा कर लेने के बाद आप आर्ट टीचर के रूप में अपने लिए एक सुनहरा कॅरियर बना सकते हैं।

डेंटल मैकेनिक्स में डिप्लोमा

इस 2 साल के डिप्लोमा कोर्स को पूरा कर लेने के बाद आप दांत के डॉक्टर की मदद कर सकते हैं। इसमें आपको किसी मरीज के दांत का स्ट्रक्चर तैयार करना होता है।

कम्प्यूटर हार्डवेयर और नेटवर्किंग में डिप्लोमा

इस डिप्लोमा कोर्स को करने में आपको 3 साल लग सकते हैं, लेकिन इसके बाद आपको बहुत अच्छी सैलरी वाली नौकरी मिलने की पूरी संभावना रहती है।

कॅरियर काउंसेलिंग का महत्व | Importance of career counselling

10वीं के बाद यदि आप डिप्लोमा कोर्स करना चाह रहे हैं, तो इसके लिए कॅरियर काउंसेलिंग आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण हो जाती है। कॅरियर काउंसेलिंग के दौरान आपको यह समझने में मदद मिलती है कि कौन-सा क्षेत्र आपके लिए सबसे उपयुक्त होगा। यदि आप अपनी रुचि के मुताबिक सही क्षेत्र का चुनाव करके उसमें डिप्लोमा कोर्स करने की दिशा में कदम बढ़ाते हैं, तो इससे आपको भविष्य में अच्छी नौकरी मिलने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए कॅरियर काउंसेलिंग का रास्ता आपको जरूर चुनना चाहिए।

चलते-चलते

Diploma after 10th का महत्व दोस्तों इस लेख को पढ़ने के बाद आप समझ गए होंगे। इसलिए यदि आपका भी सपना जल्द-से-जल्द एक अच्छी नौकरी पाने का है, तो 10वीं की पढ़ाई पूरी कर लेने के बाद आप इस क्षेत्र में अपने लिए सुनहरे कॅरियर की संभावनाएं तलाश सकते हैं। यदि यह जानकारी आपको पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करना न भूलें, क्योंकि ज्ञान बांटने से ही तो बढ़ता है।

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.