फ्लोरल डिजाइनर बनकर संवारें करियर, विपुल हैं अवसर

1906
Career in floral Designing


फूलों की खूबसूरती और इसकी सुगंध भला किस का मन नहीं मोह लेती है। हमारी जिंदगी में फूल बहुत मायने रखते हैं। फुल केवल सुंदरता के ही प्रतीक नहीं होते, बल्कि कई तरह की दवाइयों और कई तरह के खाद्य पदार्थों के निर्माण में भी फूलों का इस्तेमाल होता है। यही नहीं, सजावट में भी फूल बड़े काम आते हैं। तभी तो फ्लोरल डेकोरेशन और फ्लोरल डिजाइनिंग का कारोबार भी आज देश में खूब फल-फूल रहा है। यही कारण है कि career counselling के दौरान आजकल विशेषज्ञ इस क्षेत्र में भी करियर बनाने का सुझाव आपकी रुचि के अनुसार जरूर देते हैं।

इस लेख में आप पढ़ेंगे:

  • फ्लोरल डिजाइनिंग में करियर
  • फ्लोरल डिजाइनर बनने के लिए योग्यता और कौशल
  • फ्लोरल डिजाइनिंग वाले कोर्सेज
  • फ्लोरल डिजाइनिंग कोर्सेज उपलब्ध कराने वाले कॉलेज

फ्लोरल डिजाइनिंग में करियर

Career in Floral Designing के लिए वर्तमान समय में बहुत ही संभावनाएं मौजूद हैं, क्योंकि देश में फ्लोरल इंडस्ट्री का कारोबार आज की तारीख में 100 करोड़ रुपए को भी पार कर चुका है। डिजाइनिंग की कला तो देश और दुनिया में न जाने कब से प्रचलित है। वह इसलिए कि हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में सांस्कृतिक उत्सवों से लेकर सामाजिक व धार्मिक उत्सवों एवं शैक्षणिक, राजनीतिक एवं कारोबार संबंधी और विभिन्न प्रकार की सभाओं व सम्मेलनों में भी फूलों से हो रही सजावट को हम देखते रहते हैं। इन सभी चीजों को देखते हुए फ्लोरल डिजाइनिंग में आज प्रोफेशनल्स की मांग तेजी से बढ़ती जा रही है। इस क्षेत्र में करियर की असीम संभावनाएं मौजूद हैं।

  • फ्लोरल डिजाइनिंग की पढ़ाई करने के बाद कई तरह के काम किए जा सकते हैं। इंटीरियर डेकोरेटर्स और फ्लोरल अरेंजर्स से लेकर लैंडस्केप डिजाइनर- फ्लॉवर्स, इंटीरियर डेकोरेटर्स, इवेंट ऑर्गेनाइजर, फ्लोरिस्ट, होलसेलर आदि के तौर पर अपना करियर बना सकते हैं।
  • फ्लोरल डिज़ाइनर के तौर पर आप जिन जगहों पर काम कर सकते हैं, उनमें से कुछ प्रमुख जगहों में ईडन पार्क एग्रो प्रोडक्ट्स लिमिटेड, पुणे, नेशनल बोटैनिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट, इंडस फ्लोरीटेक लिमिटेड, हैदराबाद, टर्बो इंडस्ट्रीज, पंजाब, डिफेंस इंस्टीट्यूट ऑफ बायो एनर्जी रिसर्च, इंडियन काउंसिल फॉर एग्रीकल्चरल रिसर्च और बिरला फ्लोरीकल्चर, पुणे आदि शामिल हैं।
  • Floral designer career के रूप में अपनाने वालों के लिए नर्सरी में, जेनेटिक कंपनीज में, फार्म कंपनीज में, एग्रीकल्चर कॉलेज एवं यूनिवर्सिटी आदि में भी काम करने के अवसर मौजूद हैं।
  • फ्लोरल डिजाइनिंग से जुड़ा कोई कोर्स कर लेने के बाद जब आप फूलों का अपना कारोबार करते हैं, तो इसके जम जाने के बाद महीने की आपकी कमाई तीन से पांच लाख रुपये या फिर इससे भी ज्यादा की होने लगती है। यही नहीं, जब आप किसी कार्यक्रम में फ्लोरल डेकोरेशन करते हैं, तो इससे भी एक से दो लाख रुपये की आमदनी आपको आराम से हो जाती है।
  • इसके अलावा एक फ्लोरल डिजाइनर के रूप में भी यदि आप किसी एजेंसी में काम करते हैं, तो शुरुआत में आपको 15 से 20 हजार रुपये की मासिक सैलरी मिल सकती है, जो बाद में बढ़ती चली जाती है।
  • फ्लोरल डिजाइनर्स की यह जिम्मेदारी होती है कि वे अलग-अलग आकार और डिजाइन में क्लाइंट की मांग के अनुसार फूलों का अरेंजमेंट करते हैं। फूलों के साथ बहुत से डिजाइनर मोमबत्तियां, गुब्बारे, चॉकलेट और गिफ्ट बास्केट को कंबाइन करके नए डिजाइन भी तैयार कर देते हैं। ये अलग-अलग तरह की फूल-पत्तियों, सजाने वाली सामग्री और कंटेनर आदि को चुनकर उनसे डिजाइनर डिस्प्ले और बुके आदि आराम से तैयार कर लेते हैं।
  • आजकल थीम आधारित डिस्प्ले की मांग किसी भी तरह के समारोह में बहुत बढ़ गई है। यह काम फ्लोरल डिजाइनर्स बहुत ही खूबसूरती से अंजाम देते हैं। यही कारण है कि फ्लोरल डिजाइनिंग के क्षेत्र में एक क्रिएटिव कैरियर बनाने की अपार संभावनाएं इस वक्त मौजूद हैं।

फ्लोरल डिजाइनर बनने के लिए योग्यता और कौशल

Floral designer career के लिए यदि योग्यता की बात की जाए तो यह कुछ विशेष नहीं होती है। डिजाइनर का पेशा वैसे तो अपना कोई भी सकता है, लेकिन फिर भी यदि फ्लोरल डिजाइनिंग से संबंधित कुछ कोर्स करके विशेष जानकारी हासिल कर ली जाए, तो इस क्षेत्र में करियर बनाना और आसान हो जाता है।

  • जहां तक फ्लोरल डिजाइनर के कोर्स करने के लिए योग्यता की बात है, तो इसके लिए किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं की परीक्षा उत्तीर्ण होना जरूरी होता है। इसके अलावा किसी संबंधित विषय में यदि ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल कर ली जाए तो यह एजुकेशनल क्वालीफिकेशन इस क्षेत्र में करियर बनाने की दिशा में मददगार साबित होती है।
  • फ्लोरल डिजाइनिंग के तौर पर यदि आप करियर बनाना चाहते हैं तो इसके लिए आपका क्रिएटिव यानी की कलात्मक होना बहुत ही जरूरी है। वास्तव में यह एक ऐसा क्षेत्र है, जहां क्रिएटिविटी ही बहुत काम आती है। आपकी सफलता इस क्षेत्र में बहुत हद तक इस बात पर निर्भर करती है कि आप कितने क्रिएटिव तरीके से फूलों से डिजाइन तैयार कर सकते हैं।
  • कलात्मक टच देना भी आपको यदि आता है तो यह आपके लिए सोने पर सुहागा साबित हो सकता है। आर्टिस्टिक टच देने से आप साधारण फूलों से भी बड़ी ही खूबसूरत डिजाइन तैयार कर सकते हैं।
  • Career in Floral Designing के लिए आपके पास फूल-पतियों और पेड़-पौधों की अच्छी जानकारी होनी बहुत ही जरूरी होती है। यही नहीं, फूलों से संबंधित सामग्री के साथ अत्याधुनिक उपकरणों एवं तकनीकों की जानकारी एवं इनके इस्तेमाल करने के तरीकों की भी जानकारी आपके पास होनी चाहिए।
  • साथ में टाइम मैनेजमेंट और कम्युनिकेशन स्किल भी बहुत ही महत्वपूर्ण होती है। वह इसलिए कि कार्यक्रम के हिसाब से आपको निर्धारित समयसीमा के अंदर अपनी डिजाइनिंग पूरी करनी पड़ती है। साथ ही क्लाइंट से डील करने के लिए आपकी कम्युनिकेशन स्किल का बढ़िया होना बहुत ही जरूरी है। आपको यह पता होना चाहिए कि फ्लोरल डेकोरेशन में इस वक्त कौन से लेटेस्ट ट्रेंड्स और पैटर्न्स चल रहे हैं। कस्टमर सर्विस प्रदान करने में भी आप पूरी तरीके से निपुण होने चाहिए।

फ्लोरल डिजाइनिंग वाले कोर्सेज

फ्लोरल डिजाइनर के तौर पर यदि आप करियर बनाना चाहते हैं, तो इसके लिए अलग-अलग संस्थानों में बीएससी और एमएससी से लेकर कई सर्टिफिकेट कोर्स भी मौजूद हैं। आप अपनी रूचि और योग्यता के अनुसार ये कोर्स करके डिग्री हासिल कर सकते हैं। इन कोर्सेज की जानकारी निम्नवत है:

  • बीएसएससी इन फ्लोरीकल्चर
  • बीएससी इन फ्लोरीकल्चर एंड लैंडस्केपिंग
  • एमएससी इन फ्लोरीकल्चर एंड लैंडस्केपिंग
  • एमएससी इन फ्लोरीकल्चर बिजनेस मैनेजमेंट
  • सर्टिफिकेट इन फ्लोरीकल्चर टेक्नोलॉजी
  • सर्टिफिकेट इन फ्लोरीकल्चर

फ्लोरल डिजाइनिंग कोर्सेज उपलब्ध कराने वाले कॉलेज

देशभर में कई ऐसे कॉलेज और शैक्षणिक संस्थान हैं, जो फ्लोरल डिजाइनिंग से जुड़े कई तरह के कोर्सेज करवाते हैं। इन संस्थानों में दाखिला लेकर आप अपनी रुचि के अनुसार फ्लोरल डिजाइनिंग से जुड़ा हुआ कोर्स कर सकते हैं और इस क्षेत्र में अपने लिए एक सुनहरा भविष्य तराश सकते हैं। इन संस्थानों की जानकारी निम्नवत है:

  • इंस्टीट्यूट ऑफ फ्लोरल डिजाइन, महाराष्ट्र
  • मुद्रा इंस्टीट्यूट ऑफ कम्युनिकेशंस, अहमदाबाद
  • मेधा फ्लावर बॉक्स, बेंगलुरु, कर्नाटक
  • एफएनपी फ्लोरल डिजाइन स्कूल, नई दिल्ली
  • एपीजे इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन, नई दिल्ली
  • स्काईलाइन बिजनेस स्कूल

चलते-चलते

Career in Floral Designing के बारे में इस लेख को पढ़ने के बाद आपको यह तो समझ आ गया होगा कि आपको इस क्षेत्र में करियर बनाने के लिए कौन-कौन से कोर्स करने चाहिए और इसके लिए आप में किस तरह की योग्यता और स्किल्स होनी चाहिए। फूलों में यदि आपकी रुचि है और आप क्रिएटिव भी हैं, तो आपको इस क्षेत्र में करियर बनाने की दिशा में जरूर आगे बढ़ना चाहिए, क्योंकि एक शानदार करियर की सभी संभावनाएं इस क्षेत्र में मौजूद हैं।

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.