राष्ट्रीय स्टार्टअप पुरस्कार 2021 | National Start-up Awards 2021: All to Know

535
National Start-up Awards 2021

PLAYING x OF y
Track Name
00:00

00:00


राष्ट्रीय स्टार्टअप दिवस यानि 16 जनवरी 2022 को उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (DPIIT) द्वारा नेशनल स्टार्टअप अवार्ड्स के दूसरे संस्करण की घोषणा की गयी है। कुछ समय पहले ही देश के प्रधानमंत्री जी ने 16 जनवरी को राष्ट्रीय स्टार्टअप दिवस के रूप में मनाये जाने की घोषणा की थी ।16 जनवरी 2016 को भारत सरकार ने स्टार्टअप इंडिया पहल की शुरुआत की थी, जिसके आधार पर ‘राष्ट्रीय स्टार्टअप दिवस’ और ‘राष्ट्रीय स्टार्टअप पुरस्कार 2021’ की घोषणा की गयी है। आज के इस अंक में हम नेशनल स्टार्टअप अवार्ड्स 2021 के विषय में सभी बातों की विस्तार से चर्चा करेंगे।  

नेशनल स्टार्टअप अवार्ड्स 2021

‘स्टार्टअप इंडिया’ एक प्रमुख पहल है जिसका उद्देश्य देश में नवाचार और स्टार्टअप को बढ़ावा देने के लिए एक मजबूत पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण करना है जो सतत आर्थिक विकास को बढ़ावा देगा और बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर पैदा करेगा। उद्यमिता ने देश के कोने-कोने में अपनी जड़ें जमा ली हैं। इसके परिणामस्वरुप मानव के प्रयासों को सभी क्षेत्रों की अर्थव्यवस्था में देखा जा सकता है। देश में स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र को और मजबूत करने के लिए राष्ट्रीय स्टार्टअप पुरस्कारों की शुरुआत की गई है।

नेशनल स्टार्टअप अवार्ड 2021 इनोवेशन और प्रतिस्पर्धा को प्रोत्साहित करके, आर्थिक गतिशीलता में योगदान करने वाले उत्कृष्ट स्टार्टअप और इकोसिस्टम एनेबलर्स को सम्मानित करना और रिवॉर्ड देना चाहते हैं. ऐसे स्टार्टअप जो इनोवेटिव प्रोडक्ट/सोल्यूशन, स्केलेबल एंटरप्राइजेज़, जिनमें रोजगार पैदा करने, आय को बढ़ाने या समाज पर एक सकारात्मक असर डालने की क्षमता है। सफलता का मापदंड केवल निवेशकों को होने वाले फाइनेंशियल लाभ नहीं होता बल्कि समाज के लिए किए गए अच्छे कामों के योगदान से भी होता है।

नेशनल स्टार्टअप अवार्ड 2021 का उद्देश्य भारत सरकार द्वारा शुरू की गई प्रमुख योजनाओं को संबंधित क्षेत्रों में नवाचारों के माध्यम से कवर करना है, पहले संस्करण के उत्तराधिकारी के रूप में, राष्ट्रीय स्टार्टअप पुरस्कार 2021 उत्कृष्ट स्टार्टअप, इनक्यूबेटर और एक्सेलेरेटर को पहचानकर उन्हें पुरस्कृत करेगा जिन्होंने न केवल वित्तीय लाभ के मामले में बल्कि समाज पर औसत दर्जे के प्रभाव के लिए भी असाधारण क्षमताओं का प्रदर्शन किया है।

  • स्टार्टअप श्रेणी में 15 क्षेत्रों के 49 उप-क्षेत्रों में स्टार्टअप्स से कुल 2177 आवेदन प्राप्त हुए थे।
  • 53 इन्क्यूबेटरों और 6 एक्सीलरेटर्स से इकोसिस्टम इनेबलर्स श्रेणियों के लिए आवेदन प्राप्त हुए।
  • इन आवेदकों में 863 महिलाओं के नेतृत्व वाले, कोविड-19 से निपटने के लिए 414 नवोन्मेषक और ग्रामीण क्षेत्रों में काम कर रहे 253 स्टार्टअप शामिल थे।
  • सभी आवेदकों का मूल्यांकन छह व्यापक मानकों अर्थात-नवाचार, मापनीयता, आर्थिक प्रभाव,सामाजिक प्रभाव, पर्यावरणीय प्रभाव एवं समावेशिता तथा विविधता के आधार पर किया गया था ।
  • भारत सरकार द्वारा इस वर्ष कुल 46 स्टार्टअप्स को 1 इनक्यूबेटर और 1 एक्सेलेरेटर के साथ राष्ट्रीय स्टार्टअप पुरस्कार 2021 का विजेता घोषित किया है।
  • राज्यवार क्रम में कर्नाटक को प्रथम स्थान प्राप्त हुआ है , वहां के 14 स्टार्टअप नेशनल स्टार्टअप अवार्ड्स 2021 पाने में कामयाब हुए हैं।

क्या होते हैं स्टार्टअप, इनक्यूबेटर और एक्सेलेटर्स? | What are Start-up, Incubators and Accelerators?

स्टार्टअप (Startup)

ऐसे छोटे बिज़नेस आईडिया जो अपने विकास की प्रारंभिक स्टेज में हों, जिनको प्रारम्भ हुए 10 वर्ष नहीं हुए हों तथा जिनका वार्षिक टर्नओवर 100 करोड़ से कम हो, स्टार्टअप कहलाते हैं।

इनक्यूबेटर (Business Incubator)

स्टार्टअप व्यवसाय को विकसित करने में मदद करने वाले संस्थानों को इन्क्यूबेशन कहा जाता है। ये संस्थान आम तौर पर स्टार्टअप्स को व्यापारिक एवं तकनिकी सुविधाएँ, प्रारंभिक विकास निधि  नेटवर्क और सम्बन्ध, सहकारी रिक्त स्थान , प्रयोगशाला की सुविधा, सलाह और सलाहकार समर्थनजैसी सुविधाएं प्रदान करती हैं। इन्क्यूबेशन  प्रारंभिक चरण में स्टार्टअप्स के लिए संजीवनी के समान होते हैं। भारत में लगभग 250 मान्यता प्राप्त इनक्यूबेटर जिसमे आईआईएम तथा आईआईटी समर्थित इनक्यूबेटर भी शामिल हैं। ये साधारणतया केंद्र या राज्य सरकार की अनुदान सहायता के माध्यम से स्टार्टअप को सहयोग करते हैं।

एक्सेलेटर्स (Business Accelerator)

साधारणतया विकसित हो चुके स्टार्टअप को बूस्ट देने के लिए एक्सेलेटर्स अपनी सेवाएं देते हैं। ये किसी स्टार्टअप को मैनेजमेंट स्कील्स, मेंटरशिप, इन्वेस्टमेंट, बिज़नेस स्किल्स, नेटवर्क आदि नियत फीस चार्ज या बिज़नेस इक्विटी की कुछ पर्सेंटेज के बदले देते है। इसके सहयोग से स्टार्टअप बिज़नेस जल्दी ही बढ़ने लगता है। इनकी बेहतर समझ के लिए हम आपको ‘शार्क टैंक इंडिया’ देखने की सलह देंगे, इस कार्यक्रम में भारत के स्टार्टअप बिज़नेस शार्क से एक्सेलेटर्स सेवाएं प्राप्त करते हैं। 

नेशनल स्टार्टअप अवार्ड्स 2021 के पात्रता मापदंड | Eligibility Criteria

नेशनल स्टार्टअप अवार्ड्स 2021 के लिए आवेदन करने हेतु स्टार्टअप, इनक्यूबेटर और एक्सेलेरेटर को निम्न मापदंडों को पूर्ण करना चाहिए।

स्टार्टअप

  1. स्टार्टअप्स एंटिटी डीपीआईआईटी द्वारा मान्यता प्राप्त स्टार्टअप होना चाहिए. इकाई को उसके निगमन का प्रमाणपत्र या पार्टनरशिप डीड जमा करना होगा।
  2. स्टार्टअप के पास बाज़ार में मौजूद हार्डवेयर या सॉफ्टवेयर प्रोडक्ट या प्रोसेस सॉल्यूशन होना चाहिए
  3. एंटिटी में सभी लागू ट्रेड ट्रेड-विशिष्ट रजिस्ट्रेशन होना चाहिए (उदाहरण: सीई, एफएसएसएआई, एमएसएमई, जीएसटी रजिस्ट्रेशन आदि)।
  4. पिछले तीन वर्षों (FY17-18, 18-19, 19-20) में एंटिटी या उसके किसी भी प्रमोटर या उनके किसी भी समूह एंटिटी से डिफॉल्ट नहीं होना चाहिए।
  5. एंटिटी को पिछले तीन वित्तीय वर्षों (FY 2017-18, 18-19, 19-20) के लिए ऑडिटेड फाइनेंशियल स्टेटमेंट (बैलेंस शीट, प्रॉफिट और लॉस अकाउंट) जमा करना होगा. FY 2019-20 के लिए ऑडिटेड फाइनेंशियल स्टेटमेंट की अनुपलब्धता के मामले में, संस्था चार्टर्ड अकाउंटेंट से जारी FY 2019-20 के लिए अनंतिम फाइनेंशियल स्टेटमेंट जमा कर सकती है। 

इनक्यूबेटर

  1. इनक्यूबेटर को एक स्वतंत्र इकाई के रूप में संरचित किया जाना चाहिए-एक खंड 8 कंपनी, एक सार्वजनिक ट्रस्ट, या एक सोसायटी.
  2. इन्क्यूबेटर 01 जनवरी 2021 तक कम से कम दो साल के लिए चालू होना चाहिए.
  3. इनक्यूबेटर ने कम से कम 15 स्टार्टअप को सफलतापूर्वक स्नातक किया होगा.

एक्सेलेटर्स

  1. एक्सेलेरेटर को एक स्वतंत्र इकाई के रूप में संरचित किया जाना चाहिए- एक सार्वजनिक ट्रस्ट, या एक सोसायटी.
  2. एक्सेलेरेटर 1 जनवरी 2021 तक कम से कम दो साल के लिए चालू होना चाहिए.
  3. एक्सेलेरेटर ने न्यूनतम 10 स्टार्टअप को सफलतापूर्वक स्नातक किया होगा. 

आइये जानते हैं नेशनल स्टार्टअप पुरस्कार स्वरूप क्या मिलता है?

स्टार्टअप

  • प्रत्येक उपक्षेत्र में एक विजेता स्टार्टअप को ₹5 लाख का नकद पुरस्कार दिया जाएगा
  • विजेताओं और रनर्स को डीपीआईआईटी द्वारा प्रायोजित विभिन्न राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्टार्टअप कार्यक्रमों में भाग लेने के लिए प्राथमिकता दी जाएगी

इनक्यूबेटर

  • एक विजेता इनक्यूबेटर को 15 लाख रुपये का नकद पुरस्कार दिया जाएगा।

एक्सेलेरेटर

  • एक विजेता एक्सेलेरेटर को 15 लाख रुपये का नकद पुरस्कार दिया जाएगा। 

स्टार्टअप के लिए पुरस्कार की श्रेणियां

1-कृषि, 2-पशुपालन, 3-पेयजल, 4- शिक्षा और कौशल विकास,  5-ऊर्जा, 6-एंटरप्राइज सिस्टम, 7-वातावरण,

8-फिनटेक, 9- खाद्य प्रसंस्करण,  10- स्वास्थ्य एवं कल्याण,  11- इंडस्ट्री, 12- सुरक्षा,  13-स्पेस, 14-ट्रांसपोर्ट,

15-यात्रा 

राष्ट्रीय स्टार्टअप पुरस्कार के लिए अप्लाई कैसे करे?  | How to apply for National start-up awards?

  1. स्टार्टअप अवार्ड्स के लिए अप्लाई करने के लिए आपकी उपरोक्त दिए गए पात्रता सम्बंधित मापदंडों को फुल-फील करना होगा।
  2. अगले स्टेप में आपको अपने बिज़नेस या स्टार्टअप को उद्योग संवर्धन और आंतरिक व्यापार विभाग (DPIIT) में रेजिस्टर्ड करना होगा। यदि आप इसमें पहले से रेजिस्टर्ड हो तो आप आगे के स्टेप पर जायेगे।
  3. अब आपको स्टार्टअप इंडिया की वेबसाइट https://www.startupindia.gov.in पर जाना है और अवार्ड वाले सेक्शन में जाकर अप्लाई फॉर्म को भरे।
  4. आपको इस बात का ध्यान रखना होगा, की स्टार्टअप अवार्ड के लिए फॉर्म साल की शुरुआत में ही उपलब्ध रहते हैं, अतः आपको समय समय पर इसकी साइट चेक करने की जरुरत होगी।

क्या है DPIIT? | What is DPIIT

यह केंद्र सरकार का औद्योगिक एवं व्यापार सम्बन्धी मामलों का विभाग है। इसे उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्द्धन विभाग’ (Department for Promotion of Industry and Internal Trade-DPIIT) नाम से जाना जाता है। इसका कार्य आंतरिक व्यापार को बढ़ावा देना , व्यापारियों और उनके कर्मचारियों का कल्याण, ईज़ ऑफ डूइंग बिज़नेस की सुविधा से संबंधित मामले तथा स्टार्ट-अप से संबंधित मामलों की देखरेख करना है। किसी भी नए स्टार्टअप बिज़नेस को यहाँ पर रजिस्टर्ड कराकर ही सरकारी योजनाओं का लाभ लिया जा सकता है।

सारसंक्षेप

भारत वैश्विक स्तर पर स्टार्टअप के लिए तीसरे सबसे बड़े पारिस्थितिकी तंत्र के रूप में अपनी मौजूदगी दर्ज करा चुका है। 10 जनवरी 2022 तक देश के 636 जिलों में 61,400 से अधिक डीपीआईआईटी-मान्यता प्राप्त स्टार्टअप स्थापित किये जा चुके हैं।  भारत वैज्ञानिक प्रकाशनों की गुणवत्ता और मध्य-आय वाले अर्थव्यवस्थाओं के बीच अपने विश्वविद्यालयों की गुणवत्ता में शीर्ष स्थान के साथ नवाचार गुणवत्ता में दूसरे स्थान पर है। हमने  56 विविध औद्योगिक क्षेत्रों में समस्याओं को हल करने वाले स्टार्टअप को मान्यता दी है, जिसमे 13% आईटी सेवाओं,  9%  स्वास्थ्य और जीवन विज्ञान,  7% शिक्षा, 4% पेशेवर और वाणिज्यिक सेवाओं 4% कृषि और 4% खाद्य से सम्बंधित हैं।

उद्यमियता क्षेत्र में भारत का वैश्विक स्तर पर आकार बढ़ता जा रहा है। देश में नए -नए उद्यमियों की संख्या बढ़ रही है, देश में नए स्टार्टअप उद्यमियता की वास्तविक तस्वीर देखने के लिए हम आपको ‘शार्क टैंक इंडिया’ देखने की सिफारिश करते हैं, यहाँ से  स्टार्टअप को उड़ान भरने का मौका मिलता है तथा बहुत सी बातें सीखने को मिलती हैं। इसी के जानकारी के साथ हम आज का अपना यह लेख यही समाप्त करते हैं। धन्यवाद !

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.