7 Best Hindi Poets That You Must Read

1647
7 best Hindi Poets that you must read

हिंदी साहित्य में कुछ ऐसे कवि हुए हैं, जो अपनी कविताओं की वजह से न केवल अमर हुए हैं, बल्कि अपनी कविताओं के कारण जनमानस के पटल पर अपनी ऐसी अमिट छाप छोड़ दी है, जिसकी वजह से उनकी ख्याति युगों-युगों तक रहेगी। इसलिए हम आपके लिए यहां लेकर आये हैं 7 best Hindi Poets that you must read:

1. रामधारी सिंह दिनकर

वीर रस के सर्वश्रेष्ठ कवि माने जानेवाले रामधारी सिंह दिनकर Must read Hindi Poets में से एक हैं। बिहार के बेगूसराय के सिमरिया में जन्मे दिनकर का कुरुक्षेत्र’ उनकी सर्वश्रेष्ठ रचना मानी जाती है। उर्वशी के लिए उन्हें ज्ञानपीठ पुरस्कार भी मिला है। शहरी जीवन पर कटाक्ष करते हुए दिनकर ने लिखा था, सांप तुम सभ्य तो हुए नहीं, नगर में बसना भी तुम्हें नहीं आया। फिर कहां सीखा यह डसना, यह विष कहां पाया?’ दिनकर की अन्य रचनाएं संस्कृति के चार अध्याय औरपरशुराम की प्रतिक्षा भी काफी लोकप्रिय हैं। पद्मविभूषण से भी सम्मानित दिनकर का निधन 24 अप्रैल, 1947 को हुआ था।

2. संत कबीरदास

अपने काव्य के जरिये समाज सुधार करने वाले संत कबीरदास हिंदी साहित्य जगत में Best Hindi Poets में से एक हैं, जिनके जैसा कोई दूसरा नहीं हो पायेगा। वर्ष 1440 में जन्मे कबीर के दोहे बेहद सरल तरीके से सामाजिक कुरीतियों पर तीखा प्रहार करते हैं। साखी में उन्होंने शिक्षाप्रद बातें बताई हैं। रमैनी में उनके दार्शनिक विचारों के दर्शन होते हैं। शबद में प्रेम रस में डूबी रचनाएं पढ़ने को मिलती हैं। लिखना नहीं जानते हुए भी अपने शिष्यों से लिखवाकर कबीर ने न जाने कितने ही दोहे लिखवा डाले। कबीरदास ने कहा था, राम और रहीम एक ही हैं। साथ ही उन्होंने अपने दोहे गुरु गोविन्द दोऊ खड़े काको लागूं पायं। बलिहारी गुरु आपने जिन गोविन्द दियो बताय’में गुरु की महिमा भी प्रतिपादित की है। करीब 1518 के आसपास कबीरदास की मृत्यु हुई, ऐसा माना जाता है।

3. मैथिलीशरण गुप्त

उत्तर प्रदेश के झांसी में 3 अगस्त, 1886 को जन्मे राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त की रचनाओं ने पराधीन भारत में स्वतंत्रता के लिए संघर्ष कर रहे क्रांतिकारियों में एक नई जान फूंक दी थी। राष्ट्रवाद उनकी कविताओं में मुखर था। भारत-भारती, जयद्रथ वध और यशोधरा जैसी उनकी रचनाओं को पढ़कर रोंगटे खड़े हो जाते हैं। देश की तत्कालीन हालत को लेकर उन्होंने लिखा था, हम कौन थे, क्या हो गये और क्या होंगे अभी। आओ विचारें आज मिलकर ये समस्याएं सभी।‘ अपनी कविताओं में खड़ी बोली का इस्तेमाल गुप्त ने इस तरह से किया कि इसके बाद भी इनकी कविताएं कभी बोझिल नहीं बन पाईं। पद्मविभूषण से भी सम्मानित हो चुके मैथिलीशरण गुप्त का महाकाव्य साकेत’ Best Hindi Poetry work में से एक है। ये राष्ट्रकवि 12 दिसंबर, 1964 को इस दुनिया को अलविदा कर हमेशा के खामोश हो गये।

4. माखनलाल चतुर्वेदी

अपने ओजस्वी कविताओं से पाठकों में जोश भर देने वाले माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल, 1889 को मध्य प्रदेश के होशंगाबाद में हुआ था और कर्मवीर, प्रताप एवं प्रभा जैसी पत्रिकाओं का संपादन करने की वजह से ये पत्रकार के तौर पर भी लोकप्रिय रहे थे। इनकी रचना ‘हिम किरीटनी’  ने इन्हें वर्ष 1943 में उस वक्त का हिंदी साहित्य का सबसे प्रतिष्ठित देव पुरस्कार भी दिलाया था। साथ ही वर्ष 1954 वे पहले साहित्य अकादमी अवार्ड से भी इसी रचना के लिए सम्मानित हुए थे। Must read Hindi Poets में शुमार माखनलाल चतुर्वेदी की इस रचना ने स्वतंत्रता संग्राम में क्रांतिकारियों में खूब जोश भरा था- मुझे तोड़ लेना वनमाली। उस पथ पर देना तुम फेंक। मातृभूमि पर शीश चढ़ाने, जिस पथ जाएं वीर अनेक।‘ चतुर्वेदी का निधन 30 जनवरी, 1968 को हो गया।

5. जयशंकर प्रसाद

उत्तर प्रदेश के वाराणसी में जन्मे जयशंकर प्रसाद, जो कि Best Hindi Poets में से एक माने जाते हैं, उन्हें हिंदी साहित्य का चैथा स्तंभ माना गया है। केवल हिंदी ही नहीं संस्कृत, फारसी और उर्दू भाषाओं पर भी उनकी खासी पकड़ थी। कामायनी उनकी बेहद लोकप्रिय कृति है। प्रसाद की बीती विभावरी जाग री, झरना, तुम्हारी आंखों का बचपन, औरसब जीवन बीता जाता है जैसी कविताएं जरूर पढ़ने लायक हैं। लंबी बीमारी के बाद केवल 48 वर्ष की उम्र में ही उनका निधन 14 जनवरी, 1937 को हो गया था।

6. महादेवी वर्मा

हिंदी साहित्य जगत में छायावाद की सबसे प्रमुख कवियों में गिनी जाने वालीं उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद में वर्ष 1970 में जन्मीं महादेवी वर्मा की नीरजा, दीपशिखा, रश्मि गीत और हिमालय जैसी कविताएं Best Hindi Poetry work में से हैं। महादेवी वर्मा द्वारा लिखी गई यामा के लिए तो उन्हें ज्ञानपीठ पुरस्कार भी हासिल हुआ था। बौद्ध धर्म से बेहद प्रभावित महादेवी वर्मा का निधन 11 सितंबर, 1987 को प्रयागराज (तत्कालीन इलाहाबाद) में हो गया।

7. हरिवंश राय बच्चन

अपनी कविता मधुशाला’ के जरिये आज भी करोड़ों हिंदी प्रेमियों के दिलों पर राज करने वाले और 27 नवंबर, 1907 के इलाहाबाद में जन्मे हरिवंश राय बच्चन का नाम Must read Hindi Poets में जरूर आता है। अपना परिचय देते हुए हरिवंश राय बच्चन बस यही कहते थे, ‘मिट्टी का तन, मस्ती का मण, क्षण पर जीवन, मेरा परिचय।’ पद्मभूषण, साहित्य अकादमी पुरस्कार और सोवियत लैंड नेहरु पुरस्कार आदि से सम्मानित बच्चन ने 18 जनवरी, 2003 को अंतिम सांस ली।

चलते-चलते

7 best Hindi Poets you must read, जिनके बारे में आपने पढ़ा, ये हिंदी साहित्य में अपनी कालजयी रचनाओं के रूप में अपने पाठकों को ऐसा उपहार दे गये हैं, जिनका मूल्य कभी कम नहीं होगा। बताएं, इनमें से आपके सबसे चहेते कवि कौन हैं?

2 COMMENTS

  1. bahut bahut sundartar se likha hai aapne…. matter inke bare me net par bahut hai but ye best writing hai aapki. dil se tarif kar rahi mai.

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.