क्या है उबन्टू और कैसे करें इसे अपने सिस्टम में इंस्टॉल

1350
What is Ubuntu

आज के जमाने में कंप्यूटर और लैपटॉप का इस्तेमाल करना तो बहुत ही आम बात है। यही वजह है कि ज्यादातर लोगों को ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में भी जानकारी होती है। एक वक्त था जब दुनियाभर में माइक्रोसॉफ्ट और एप्पल इन दो ऑपरेटिंग सिस्टम का बोलबाला था। लेकिन समय के साथ-साथ आज सॉफ्टवेयर इंडस्ट्री में भी काफी बदलाव आया है और उस बड़े बदलाव की वजह है लिनक्स। लिनक्स एक ऑपरेटिंग सिस्टम है। और अगर दुनिया के सबसे पॉपुलर लिनक्स डिस्ट्रीब्यूशनस की बात की जाए तो उसमें सबसे पहला नाम आता है उबन्टू का।

उबन्टू क्या है (What is Ubuntu) ?

माइक्रोसॉफ्ट विंडोज की ही तरह उबन्टू भी एक ऑपरेटिंग सिस्टम है। उबन्टू (Ubuntu), लिनक्स (Linux) ऑपरेटिंग सिस्टम के सबसे लोकप्रिय रूपों में से एक है। इसका इस्तेमाल बिल्कुल फ्री में किया जा सकता है, क्योंकि ये मुफ्त में उपलब्ध है और यही इसकी सबसे बड़ी खासियत भी है। ये लगभग किसी भी कंप्यूटर पर चल सकता है। यह एक डेबियन लिनक्स पर आधारित ऑपरेटिंग सिस्टम है।

उबन्टू को एक UK based Company Canonical Ltd. द्वारा डिस्ट्रीब्यूट किया गया है। उबन्टू को सबसे पहले साल 2004 में इस कंपनी के द्वारा एक फ्री प्रोजेक्ट के रूप में लांच किया गया था। उस वक्त फ्री में सॉफ्टवेयर की सुविधा दे पाना नामुमकिन वाली बात थी। लेकिन उबन्टू ने मार्केट में धूम मचा दी और सबकुछ बदल कर रख दिया। इसके बाद से मार्केट में बहुत से फ्री लिनक्स बेस्ड ऑपरेटिंग सिस्टम और फ्री सॉफ्टवेयर लांच किये गए। देखते- देखते उबन्टू भी काफी लोकप्रिय होता चला गया।

उबन्टू की तरफ से लगभग हर 6 महीनों यानी कि अप्रैल और अक्टूबर में एक अपडेट आता रहता है। उबन्टू एक ओपन सोर्स भी है, जिसका सोर्स कोड सभी के लिए यानी कि पब्लिकली कमिटेड है। ओपन सोर्स होने की वजह से समय- समय पर इसके नए-नए वर्जन देखने को मिलते रहते हैं। क्योंकि दुनिया भर से डेवलपर्स इसमें इम्प्रूवमेंट्स  करते रहते हैं।

उबन्टू का इस्तेमाल पर्सनल कंप्यूटर, मोबाइल फोन और सर्वर सभी में किया जा सकता है। उबन्टू दुनिया का सबसे लोकप्रिय नेटवर्क सर्वर और क्लाउड सर्वर ओपरेटिंग सिस्टम है।

अगर आप ने भी अब तक उबन्टू लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम को इन्सटॉल नहीं किया है और उसे अपने सिस्टम पर इन्सटॉल करना चाहते है तो आइए हम आपको बताते हैं कि इसके लिए किन- किन चीजों की जरुरत होगी।

  • सिस्टम में कम से कम ७०० Mhz का प्रोसेसर होना चाहिए।
  • कम से कम ५१२ एमबी का रैम होना चाहिए।
  • सिस्टम में कम से कम ५ GB का हार्ड डिस्क स्टोरेज फ्री होना चाहिए।
  • १०२४ *७६८ रेजोल्यूशन का वीजीए केपेबल होना चाहिए।

आइए अब जानते हैं कि उबन्टू लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम कैसे इंस्टॉल करें

  • उबन्टू डाउनलोड करने के लिए आपको सबसे पहले दो सॉफ्टवेयर डाउनलोड करने होंगे। एक उबन्टू ओएस सेटअप और दूसरा बूटेबल सॉफ्टवेयर।
  • आपको अपने पेनड्राइव को बूटेबल बनाना होगा। इसके लिए यूनिवर्सल यूएसबी सॉफ्टवेयर को ओपन करना होगा। जिसके लिए सबसे पहले आप सॉफ्टवेयर को ओपन करें। I Agree पर क्लिक करें। इसके बाद उबन्टू सेलेक्ट करें। ब्राउजर पर क्लिक कर के उबन्टू सेटअप सेलेक्ट करें। इसके बाद पेनड्राइव सेलेक्ट करें। फिर क्रिएट पर क्लिक करें और फिर Yes पर क्लिक करें। इससे उबन्टू पेनड्राइव में बूटेबल बन जाएगा।
  • जैसे ही आपकी पेनड्राइव बूटेबल बन जाए आपको अपने सिस्टम को restart करना होगा। restart होने के बाद F12 प्रेस करें। ऐसा करने से आपका विंडो बूट मूड में चला जाएगा। अब आपको यहां यूएसबी सेलेक्ट करना होगा।
  • ऐसा करने के बाद सेटअप मोड में चला जाएगा। फिर सबसे पहले इंग्लिश भाषा पर क्लिक करें। फिर इनस्टॉल उबन्टू पर क्लिक करें।
  • यहां ट्राई का ऑप्शन भी आता है , जहां क्लिक कर के आप देख सकते हैं कि ये कैसा दिखता है। इसके बाद आपको स्क्रिन पर प्रीपेयरिंग का ऑप्शन दिखेगा। यहां आपको दोनों ऑप्शन को सेलेक्ट करना है और continue पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपको स्क्रिन पर दिखने वाले फर्स्ट ऑप्शन erase disk and install unbuntu को सेलेक्ट करना है और install now पर क्लिक करना है।
  • अब आप फिर से continue पर क्लिक करें।
  • लोकेशन चुनें और continue पर क्लिक करें।
  • अब कीबोर्ड लेआउट में English चुनें और फिर continue पर क्लिक करें।
  • अब यहां अपना User Name और Password भरें और Continue पर क्लिक करें।
  • इसके बाद विंडो install होना शुरू हो जाएगा।
  • इनस्टॉल होने के बाद सिस्टम रीस्टार्ट करें।
  • अब आपके सिस्टम में उबन्टू लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम पूरी तरह से इनस्टॉल हो जाएगा।

उबन्टू के कुछ जरूरी फीचर्स

उबन्टू इस्तेमाल करने में बिल्कुल आसान है। उबन्टू बहुत सारे फीचर्स और प्री-इंस्टॉल सॉफ्टवेयर जैसे LibreOffice, Mozilla Firefox, VLC Media player के साथ आता है। उबन्टू में आप Graphical User Interface का इस्तेमाल भी कर सकते हैं और Terminal का भी जो Beginner और Advanced User दोनों के लिए बहुत ही सुविधाजनक होती है।

निष्कर्ष

आपको बता दें कि फ्री होने की वजह से ज्यादातर हैकर्स इसी ओएस का इस्तेमाल करते हैं हैकिंग करने या फिर हैकिंग सीखने के लिए। उम्मीद है कि उबन्टू से जुड़ी से जानकारी आपको जरूर अच्छी लगी होगी। अगर उबन्टू से जुड़ी कुछ और भी जानकारियां आपके पास है तो आप हमारे साथ जरूर शेयर करें।

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.