Narendra Modi Cabinet 2.0: एक क्लिक पर पूरी जानकारी

2236
Union Cabinet formation in India


कैबिनेट के बिना एक लोकतांत्रिक व्यवस्था में चुनी गई सरकार नहीं चल सकती। कैबिनेट कितना महत्वपूर्ण होता है, इसके बारे में हम आपको पिछले आर्टिकल में बता चुके हैं। केंद्र में दोबारा सरकार बनने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने पहले कार्यकाल के 38 मंत्रियों पर भरोसा जताते हुए उन्हें दूसरे कार्यकाल में भी अपने कैबिनेट में शामिल किया। साथ में उन्होंने 20 नए चेहरों को भी इसमें जगह दी है। यहां हम आपको नरेंद्र मोदी केबिनेट 2.0 (Narendra Modi Cabinet 2.0) के सभी कैबिनेट मंत्रियों के बारे में उनके प्रभार के साथ जानकारी उपलब्ध करा रहे हैं।

Modi Cabinet 2.0 Details

नरेंद्र मोदी केबिनेट 2.0 के कैबिनेट मंत्री 
(Union Cabinet Ministers 2019)

अमित शाह, गृह मंत्री- भाजपा के चाणक्य कहे जाने वाले और लोकसभा चुनाव में पार्टी की जीत में अहम भूमिका निभाने वाले अमित शाह को इस बार केंद्रीय कैबिनेट में शामिल करके उन्हें गृह मंत्रालय की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गई।

राजनाथ सिंह- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पहले कार्यकाल में देश के गृह मंत्री राजनाथ सिंह को दूसरे कार्यकाल में कैबिनेट में केंद्रीय रक्षा मंत्री बनाया गया है।

निर्मला सीतारमण- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पिछली सरकार में रक्षा मंत्री की भूमिका निभाने वाली निर्मला सीतारमण को इस सरकार में प्रधानमंत्री ने वित्त मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी है।

एस जयशंकर- सभी को हैरान करते हुए पीएम मोदी ने डिप्लोमेट से राजनेता बने एस जयशंकर को भारत के विदेश मंत्री की जिम्मेदारी सौंपी। इससे पूर्व वे विदेश सचिव हुआ करते थे।

नितिन गडकरी- महाराष्ट्र भाजपा के वरिष्ठ नेता नितिन गडकरी, जो कि पीएम मोदी के साथ पहले कार्यकाल में भी सड़क परिवहन मंत्रालय का कार्यभार संभाल रहे थे, उन्हें एक बार फिर से मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में भी यही जिम्मेदारी सौंपी गई है।

डीवी सदानंद गौड़ा- कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री रह चुके डीवी सदानंद गौड़ा को रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

रविशंकर प्रसाद- भाजपा के वरिष्ठ नेता और प्रखर वक्ता माने जाने वाले रविशंकर प्रसाद को पीएम मोदी के दूसरे कार्यकाल में कानून एवं संचार मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

रामविलास पासवान- लोक जनशक्ति पार्टी के प्रमुख और बिहार के जाने-माने नेता रामविलास पासवान को उपभोक्ता एवं खाद्य मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

नरेंद्र सिंह तोमर- भारतीय जनता पार्टी के प्रमुख नेता नरेंद्र सिंह तोमर पर दोबारा भरोसा जताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल में उन्हें कृषि एवं ग्रामीण विकास मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी है।

हरसिमरत कौर बादल- शिरोमणि अकाली दल की प्रमुख नेता हरसिमरत कौर बादल को दूसरे कार्यकाल में भी पीएम मोदी ने खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी है।

थावरचंद गहलोत- लभाजपा के प्रमुख नेता थावरचंद गहलोत पर विश्वास जताते हुए उन्हें सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

रमेश पोखरियाल निशंक- उत्तराखंड से हरिद्वार सीट से चुनाव जीतने वाले रमेश पोखरियाल निशंक को मानव संसाधन विकास मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली है।

अर्जुन मुंडा- झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एवं वरिष्ठ भाजपा नेता अर्जुन मुंडा को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में अनुसूचित जनजाति कल्याण मंत्री बनाया गया है।

स्मृति ईरानी- अमेठी लोकसभा सीट से कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को हराने वाली स्मृति ईरानी को इस बार महिला बाल विकास एवं कपड़ा मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली है।

डॉ हर्षवर्धन- दिल्ली भाजपा के वरिष्ठ नेता डॉ हर्षवर्धन को केंद्रीय कैबिनेट में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के साथ विज्ञान मंत्रालय की भी जिम्मेदारी सौंपी गई है।

प्रकाश जावेडकर- भाजपा के प्रमुख नेता प्रकाश जावेडकर को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में पर्यावरण के साथ सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी मिली है।

पीयूष गोयल- नरेंद्र मोदी की पिछली सरकार में रेलवे मंत्रालय की जिम्मेदारी संभालने वाले पीयूष गोयल को इस बार भी रेलवे मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली है और साथ में वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय मिला है।

धर्मेंद्र प्रधान- भाजपा के वरिष्ठ नेता धर्मेंद्र प्रधान को पेट्रोलियम एवं नेचुरल गैस मंत्रालय सौंपा गया है। मुख्तार

अब्बास नकवी- वरिष्ठ भाजपा नेता मुख्तार अब्बास नकवी अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री बनाए गए हैं।

प्रहलाद जोशी- भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रहलाद जोशी को संसदीय कार्य, कोयला एवं खनन मंत्री बनाया गया है।

डॉ महेंद्र नाथ पांडे- भाजपा नेता डॉ पांडे को कौशल विकास मंत्रालय की जिम्मेदारी पीएम मोदी ने सौंपी है।

अरविंद सावंत- वरिष्ठ शिवसेना नेता अरविंद सावंत को भारी उद्योग मंत्रालय मिला है। गिरिराज सिंह- बिहार भाजपा के बड़े नेता गिरिराज सिंह को पशुपालन व मत्स्य पालन मंत्री बनाया गया है।

गजेंद्र सिंह शेखावत- राजस्थान भाजपा के बड़े नेता शेखावत को जल शक्ति मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली है।

नरेंद्र मोदी कैबिनेट 2.0 में राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार)

संतोष कुमार गंगवार- मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में पहले वित्त राज्य मंत्री और फिर कपड़ा राज्य मंत्री की जिम्मेवारी संभालने वाले गंगवार को श्रम मंत्री की जिम्मेवारी इस बार मिली है।

राव इंद्रजीत सिंह- दक्षिणी हरियाणा के प्रभावी नेता माने जाने वाले राव इंद्रजीत सिंह को मोदी केबिनेट 2.0 में भी शामिल करते हुए सांख्यिकी मंत्री की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

श्रीपद नाइक- गोवा लोकसभा सीट से चुनाव जीतने वाले और पिछली सरकार में पर्यटन राज्य मंत्री का दायित्व निभाने वाले नाइक को इस बार नवगठित आयुष मंत्री मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार मिला है।

डॉ जितेंद्र सिंह- जम्मू-कश्मीर की उधमपुर लोकसभा सीट से दोबारा सांसद चुनकर आने वाले जितेंद्र सिंह को उत्तर-पूर्व के राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)) की जिम्मेदारी मिली है।

किरन रिजिजू- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पिछले कार्यकाल में गृह राज्य मंत्री रिजिजू को इस बार युवा एवं खेल मंत्री की जिम्मेवारी मिली है।

प्रहलाद पटेल- मध्य प्रदेश के दामोह से चुनाव जीतने वाले और 15 साल पहले नर्मदा यात्रा करने वाले पटेल को संस्कृति मंत्री बनाया गया है।

आर के सिंह- गृह मंत्रालय में संयुक्त सचिव और सचिव रहे एवं पिछली मोदी सरकार में बिजली और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री आर के सिंह को नरेंद्र मोदी कैबिनेट 2.0 में ऊर्जा मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) की जिम्मेवारी दी गयी है।

हरदीप सिंह पुरी- ये भारतीय विदेश सेवा के पूर्व अधिकारी हैं, जिन्हें नागरिक उड्डयन मंत्रालय की जिम्मेवारी मिली है।

मनसुख मांडविया- साइकिल चलाकर संसद आने के लिए जाने जानेवाले मांडविया को इस बार फिर से मोदी कैबिनेट में जहाजरानी मंत्री की जिम्मेवारी मिली है।

राज्य मंत्री (State Ministers) एक नजर में

फग्गन सिंह कुलस्ते- इस्पात मंत्री।
अश्विनी चौबे- स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्री।
अर्जुनराम मेघवाल- संसदीय कार्य मंत्री।
जनरल वीके सिंह – सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री।
कृष्णपाल सिंह गुर्जर- सामाजिक न्याय मंत्री।
राव साहब दानवे- उपभोक्ता मामलों के मंत्री।
जी कृष्ण रेड्डी- गृह मंत्री।
पुरुषोत्तम रुपाला- कृषि मंत्री।
रामदास आठवले- सामाजिक सशक्तिकरण मंत्री।
साध्वी निरंजन ज्योति- ग्रामीण विकास मंत्री।
संजीव बालियान- मत्स्य पालन मंत्री।
बाबुल सुप्रियो- पर्यावरण मंत्री।
संजय शामराव- मानव संसाधन विकास मंत्री।
अनुराग ठाकुर- वित्त मंत्री।
सुरेश अंगाडी- रेल मंत्री।
नित्यानंद राय- गृह मंत्री।
रतनलाल कटारिया- जलशक्ति मंत्री।
वी मुरलीधरन- विदेश मंत्री।
रेणुका सिंह- जनजाति मामलों के मंत्री।
सोम प्रकाश- वाणिज्य व उद्योग मंत्री।
रामेश्वर तेली- खाद्य प्रसंस्करण मंत्री।
प्रताप चंद सारंगी- MSME मंत्री।
कैलाश चौधरी- कृषि व किसान कल्याण मंत्री।
देबश्री चौधरी- महिला एवं बाल विकास मंत्रालय मंत्री।

निष्कर्ष

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने मंत्रियों के कार्यों की समीक्षा लगातार करते रहते हैं। ऐसे में हर मंत्रालय पूरी शिद्दत से अपनी सार्थकता साबित करने में लगा हुआ है। प्रधानमंत्री मोदी के पहले कार्यकाल में श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले मंत्रियों को उनके काम की वजह से ही नरेंद्र मोदी कैबिनेट 2.0 में भी दोबारा जगह मिल पाई है। बताएं, इन कैबिनेट मंत्रियों में से आपके सबसे पसंदीदा मंत्री कौन हैं?

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.