Know Your Constitution (अपने संविधान को जानो) अभियान

1152
Know Your Constitution अभियान


हमारा आज का लेख पूरी तरह से Know Your Constitution  अर्थात् अपने संविधान को जानो अभियान पर आधारित होने वाला है जिसमें हम, आपको इस अभियान की पूरी जानकारी विस्तार से प्रदान करेंगे ताकि प्रत्येक भारतवासी इस अभियान से खुद को जोड़ सकें और अभियान को सफल बना सकें।

प्रत्येक देश कि, एक दैनिक शासन व्यवस्था होती है जिसके अनुसार देश की तमाम आन्तरिक, बाह्य, सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और विदेशी क्रिया-कलापों आदि गतिविधियों को नीतिगत ढंग से संचालित किया जाता हैं जिसका पूरा विस्तृत वर्णन उस विशेष देश के सम्मानित संविधान मे, दर्ज होता है।

हमारे देश का भी एक संविधान है जिसमें अनुसार हम, अपना दैनिक जीवन-यापन करते हैं और हमारी सरकार अपने तमाम अनिवार्य कार्यो का निर्वहन करती हैं ताकि देश की उन्नति नियोजित ढंग से और कल्याणकारी रुप को अख्तियार करते हुए हो सकें लेकिन पिछले कुछ समय से हमारे भारतीय संविधान को लेकर एक नकारात्मक माहौल का सृजन किया जा रहा है जिसका कोई आधार नहीं है लेकिन इसका नकारात्मक प्रभाव हमारे नागरिको व विशेषकर विद्यार्थियो पर ना पडे इसके लिए भारत सरकार ने, विशेष तौर पर Know Your Constitution (अपने संविधान को जानो) अभियान को देश-व्यापी स्तर पर चलाने का निर्णय लिया हैं ताकि देश मे, भारतीय संविधान को लेकर एक आम सहमति बनाई जा सकें और साथ संविधान के अनुसार देश की प्रगति को तय किया जा सकें।

संविधान किसे कहते हैं?

  1. संविधान आधुनिक लोकतांत्रिक देशो में, शासन-विभाजन का आधार होता है। प्रत्येक देश अपनी राष्ट्रीय जरुरतो के पूर्तिनुरुप संविधान बनाने का प्रयास करता है और इसी संविधान बनाने वाली सभा को ’’ संविधान सभा ’’ के नाम से जाना जाता है।
  2. आधुनिक काल में, पहली संविधान सभा ’’ अमेरिका का फिलाडेल्फिया सम्मेलन ’’ था जिसने 1787 में, जाकर अमेरिकी संविधान का निर्माण किया और इसी प्रकार भारतीयो का संविधान भी भारतीयो द्धारा निर्मित एक संविधान सभा बनाया गया।
  3. संविधान उस विस्तृत दस्तावेज को कहा जाता है जिसमें किसी भी देश की पूरी संचालन प्रक्रिया का ब्यौरा चरणबद्ध तरीके से दर्ज होता है और इन्हीं नियमो, कानूनो और व्यवस्थाओ का पालन करते हुए देश के दिशा को तय किया जाता हैं ताकि देश का विकास नियोजित और विस्तृत ढंग से हो सकें अर्थात् जिस भी दस्तावेज में, देश की शासन व्यवस्था की संचालन प्रक्रिया की पूरी जानकारी दर्ज होती हैं उसे ही हम, संविधान कहते हैं।

भारत संविधान – एक नजर

हमारे इस लेख का मौलिक विषय अपने पाठको को Know Your Constitution  अर्थात् अपने संविधान को जानो अभियान की  जानकारी प्रदान करना हैं लेकिन हम, इससे पहले चाहते हैं कि, आपको भारतीय संविधान के उज्जवल झलक प्रदान की जाये जिसके लिए हम, कुछ बिंदुओ का सहारा लेंगे जो कि, इस प्रकार से हैं

  • विश्व का सबसे लम्बा, लिखित और विस्तृत संविधान

भारत के संविधान को विश्व के अन्य संविधानो में, सर्वोच्च माना जाता हैं क्योंकि भारतीय संविधान को ही विश्व में, सर्वाधिक लम्बा, लिखित और विस्तृत संविधान होने का गौरव प्राप्त हैं जिसके तहत वर्तमान समय में, कुल 465 अनुच्छेद, 12 अनुसूचियाँ तथा 22 भाग हैं।

भारतीय संविधान की विशालता के कारण ही कुछ लोग भारतीय संविधान को ’’ वकीलो का स्वर्ग ’’ कहते हैं।

  • उधार का थैला है भारतीय संविधान

यह एक सच्चाई है कि, हमारा भारतीय संविधान कोई मौलिक नहीं बल्कि दूसरो देशो के संविधानो से उधार लिये गये प्रावधानो का थैला है क्योंकि हमने अपने संविधान में, भारत शासन अधिनियम 1935 की अधिकांश धाराओ को ज्यों का त्यों अपना लिया है, अमेरिका, रुप, ब्रिटेन, फ्रांस व कनाडा आदि देशो से अनेको व्यवस्थायें उधार लेकर हमने अपने संविधान को समृद्ध बनाया हैं इस प्रकार हम, कह सकते हैं कि, भारतीय संविधान एक मौलिक नहीं बल्कि उधार का थैला है।

  • पंथनिरपेक्ष राज्य को प्राथमिकता

भारत का अर्थात् भारतीय संविधान पंथनिरपेक्ष है इसलिए ये किसी धर्म विशेष को भारत के धर्म के तौर पर मान्यता नहीं देता है जिससे भारत एक बहु-धर्मी व बहु-सांस्कृतिक राष्ट्र बनकर उभरा है। आदि।

  • भारतीय संविधान के अन्य कुछ मूलभुत विशेषताओ की सूची –
  • भारतीय संविधान – कठोरता व लचीलेपन का समन्वय,
  • एकात्मकता की और झुकाव के साथ संधीय व्यवस्था,
  • संसदीय व्यवस्था व न्यायिक सर्वोच्चता में, समन्वय,
  • मौलिक अधिकारो व मूल कर्तव्यो की व्यवस्था,
  • राज्य के मार्ग दर्शन के लिए नीति-निर्देशक तत्वो की व्यवस्था,
  • स्वतंत्र न्यायपालिका,
  • सार्वभौमिक व्यस्क मताधिकार की व्यवस्था,
  • एकल नागरिकता,
  • आपातकालीन प्रावधान आदि।

उपरोक्त सभी मौलिक बिंदुओ की मदद से हमने अपने  पाठको को भारतीय संविधान की एक गौरवमयी झलक प्रदान करने की कोशिश की हैं।

Know Your Constitution (अपने संविधान को जानो) अभियान के जनक कौन है?

यदि आप विद्यार्थी है तो अवश्य ही जानते होंगे कि, भारतीय संसद के निचले सदन अर्थात् लोकप्रिय सदन ’’ लोकसभा ’’ के प्रतिष्ठित अध्यक्ष श्री. ओम बिरला जी ने, एक अधिकारीक सूचना जारी करते हुए बताया है कि, जल्द ही देश में, Know Your Constitution  अर्थात् अपने संविधान को जानो अभियान का संचालन देशव्यापी स्तर पर किया जायेगा ताकि देश के विद्यार्थियो के साथ-साथ हर आमो-खास को भारतीय संविधान से परिचित करवाया जा सकें।

इस प्रकार हम कह सकते हैं कि, Know Your Constitution  अर्थात् अपने संविधान को जानो अभियान के वास्तविक जनक लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला है।

Know Your Constitution (अपने संविधान को जानो) अभियान के मूल बिंदु

हम, अपने सभी विद्यार्थियो व देशवासियो को हाल मे, लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला द्धारा जारी अभियान अर्थात् Know Your Constitution (अपने संविधान को जानो) अभियान के बारे में सभी उपलब्ध मूल बिंदुओ की सूची प्रस्तुत करना चाहते हैं जो कि, इस प्रकार से है-

  1. भारतवर्ष के सभी स्कूलो, कॉलेजो और विश्वविघालयो में, Know Your Constitution (अपने संविधान को जानो) अभियान का संचालन किया जायेगा ताकि देश के विद्यार्थियो को उनके संविधान की जानकारी प्रदान की जा सकें,
  2. लोकसभा अध्यक्ष द्धारा इस कल्याणकारी व राष्ट्र-हितैषी अभियान का शुभारम्भ उत्तराखंड राज्य के पंचायती राज विभाग द्धारा प्रायोजित एक कार्यक्रम के दौरान किया गया जिसका मूल विषय या थीम ’’ पंचायती राज व्यवस्था – सशक्तिकरण लोकतंत्र । ’’ रखा गया था।
  3. सरकार ने, पहले ही बना ली इस अभियान की रुपरेखा

हम, आपको बता दे कि, Know Your Constitution (अपने संविधान को जानो) अभियान की पूरी रुपरेखा सरकार द्धारा पहले ही बना कर तैयार कर ली गई थी लेकिन कोरोना संक्रमण के कारण इसका संचालन नहीं हो पाया लेकिन अब सरकार इस अभियान को नये सिरे से संचालित करने जा रही हैं ताकि देश मे भारतीय संविधान के प्रति एक आम और हितकारी सहमति बनाई जा सकें आदि।

प्रधानमंत्री की KYC मुहिम क्या है?

देश के लोक व जन नेता अर्थात् भारतीय प्रधानमंत्री श्री. मोदी ने, देश भर में, संविधान को लेकर एक सफल अभियान संचालित करने के लिए KYC मुहिम पर अर्थात् Know Your Constitution (अपने संविधान को जानो) अभियान पर जोर दिया है ताकि इस अभियान की मदद से सम्पूर्ण भारत में, भारतीय संविधान को लेकर आभार व्यक्त की जा सकें और साथ ही साथ भारतीय संविधान के प्रति फैलाई जा रही असहिष्णुता को समाप्त कर एक संविधान हितैषी माहौल का सृजन किया जा सकें।

हम, आपको प्रधानमंत्री कि, KYC मुहिम को लेकर कुछ बाते बताना चाहते हैं जैसे कि, केवडिया, गुजरात में, मोदी ने, जारी कि, KYC मुहिम अर्थात् केवडिया, गुजरात में, प्रधानमंत्री श्री. मोदी ने, 80वें अखिल भारतीय सम्मेलन के समापन सत्र के अन्तिम चरण में, कहा कि, ’’ के.वाई.सी – नो योर कस्टमर ’’ डिजिटल सुरक्षा की कुंजी है उसी तरह ’’ के.वाई.सी – नो योर कॉस्टिट्यूशन ’’ संवैधानिक सुरक्षा की बडी गारंटी हो सकता है।’’

साथ ही मोदी जी ने,  ये भी कहा कि, ’’ हमारे कानूनो की भाषा बहुत ही सरल और आम जन को समझ में, आने वाली होनी चाहिए ताकि वे हर कानून को ठीक से समझ पायें। ’’ मोदी ने, ये भी कहा कि, हमें, त्वरित गति से पुराने और अप्रसांगिक कानूनो को जल्द से जल्द निष्क्रिय करना होगा ताकि नये कल्याणकारी कानूनो को बनाया और लागू किया जा सकें।

Know Your Constitution की क्या जरुरत है?

हमारे कई विद्यार्थियो व पाठको का ये आम सवाल बनता जा रहा है कि, Know Your Constitution की जरुरत क्या है तो हम, उन्हें इसकी जरुरत व प्रांसगिकता के बारे में, सूचित करने के लिए कुछ बिंदुओ की मदद लेंगे जो कि, इस प्रकार से है-

  • भारतीय संविधान को लेकर एक आम सहमित बनाने के लिए

पिछले कुछ समय से देश में, असहिष्णुता और अंसवेदनशीलता की हवा चारो तरफ देखी जा रही है जिसकी मदद से कुछ आसामाजिक तत्वो द्धारा भारतीय संविधान के प्रति एक भ्रमपूर्ण तस्वीर प्रस्तुत करके संविधान को गलत साबित करने की कोशिशे हो रही हैं व इन कोशिशो को समाप्त करने के लिए भारत सरकार ने, पूरे देश मे, Know Your Constitution अभियान को चलाने का फैसला किया है ताकि देश में, संविधान को लेकर एक आम सहमति बनाई जा सकें।

  • विश्वविघालयो के विद्यार्थियो को जागरुक व सर्तक बनाने के लिए

जवाहर लाल नेहरु विश्वविघालय, जाधवपुर विश्वविघालय और अलीगढ मुस्लिम विश्वविघालय आदि कुछ ऐसे विश्वविघालय हैं जहां पर तेजी से असंवैधानिक गतिविधियों का संचालन किया जा रहा है और विद्यार्थियो को भारतीय संविधान की एक गलत तस्वीर प्रस्तुत की जा रही हैं जो कि, बेहद नकारात्मक खबर है।

भारत सरकार ने, अपने सभी स्कूलो, कॉलेजो व विश्वविघालयो में व इनके विद्यार्थियो में, भारतीय संविधान की एक संतुलित, वास्तविक और प्रासंगिक तस्वीर को प्रस्तुत करने के लिए Know Your Constitution अभियान चलाने फैसला लिया हैं ताकि देश की तमाम शिक्षण संस्थाओ के विद्यार्थियो को भारतीय संविधान के प्रति जागरुक और सर्तक किया जा सकें ताकि व भारतीय संविधान के खिलाफ फैलाई जा रही नकारात्मक सूचनाओ को ग्रहण ना करते हुए उनका विरोध कर सकें।

उपरोक्त बिंदुओ की मदद से हमने आपको Know Your Constitution की मौलिक जरुरत के बारे में, बताया ताकि हमारे सभी विद्यार्थी, शिक्षक, शिक्षण संस्थान व आम नागरिक इस अभियान से जुड सकें और अभियान को सफल बनाकर देश मे, भारतीय संविधान के प्रति एक सकारात्मक माहौल का सृजन कर सकें।

Know Your Constitution – आपके सवाल और हमारे जबाव

सवाल 1– भारतीय संविधान कब बना और कब लागू हुआ?

जबाव – भारतीय संविधान 26 नवम्बर, 1949 को अंगीकृत किया गया और 26 जनवरी, 1950 को लागू किया गया।

सवाल 2– भारतीय संविधान का निर्माण किस समिति ने, किया व इसके अध्यक्ष कौन थे?

जबाव – भारतीय संविधान का निर्माण प्रारुप समिति ने, किया जिसके अध्यक्ष डॉ. बी.आर. अम्बेडक थे।

सवाल 3- Know Your Constitution अभियान के जनक कौन हैं?

जबाव – वर्तमान लोक सभा अध्यक्ष श्री. ओम बिरला।

सवाल 4- Know Your Constitution (अपने संविधान को जानो) अभियान का लक्ष्य क्या है?

जबाव – देश मे, भारतीय संविधान के खिलाफ में, चलाई जा रही नकारात्मक विचारधारा को समाप्त करके भारतीय संविधान के प्रति आदर भाव रखते हुए एक सरकारात्मक माहौल का सृजन करना।

सवाल 5 – Know Your Constitution का मुख्य लक्ष्य क्या है?

जबाव- देश के सभी स्कूलो, कॉलेजो व विश्वविघालयो के विद्यार्थियो को भारतीय संविधान के प्रति जागरुक बनाना ताकि वे इसके खिलाफ फैलाई जा रही नकारात्मक विचारधारा का विरोध कर सकें।

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.