मास्टर डिग्री या फिर नौकरी ग्रेजुएशन के बाद क्या करना है जरूरी

1226

ग्रेजुएशन के दौरान या फिर इसकी पढ़ाई पूरी होने के बाद ज्यादातर छात्रों में इस बात की टेंशन होती है कि अब आगे क्या करें। ग्रेजुएशन के बाद स्टूडेंट के दिमाग में ऐसे सवाल उठना लाजमी है, क्योंकि गेजुएशन पढ़ाई का वो पड़ाव होता है जो आपके करियर की दिशा तय करता है। बहुत से छात्र ग्रेजुएशन के बाद मास्टर डिग्री, डिप्लोमा डिग्री या फिर जॉब को लेकर कंफ्यूजन में रहते हैं। लेकिन ये ऐसा वक्त होता है जब आपको टेंशन लेने के बजाय सोच- समझकर फैसला लेना चाहिए। जिससे आप भविष्य में आने वाले दिक्कतों से अपना बचाव कर सकते हैं और एक बेहतर करियर भी बना सकते हैं। ऐसे में इस पड़ाव पर सबसे पहले आपको इस बात का पता लगाना जरूरी होगा कि आपकी रूचि यानी आपका इंटरेस्ट किस तरफ है। यानी कि आप आगे की पढ़ाई करना चाहते हैं या फिर नौकरी। तो आइए आपको बताते हैं कुछ ऐसे टिप्स जिससे कि आपका फैसला लेना आसान हो जाए।

  1. अपने इंटरेस्ट को समझें
    करियर बनाने के लिए सबसे जरूरी चीज होती है रूचि। आपका इंटरेस्ट जिस चीज में हो उसमें करियर बनाना ज्यादा आसान होता है। कुछ ऐसी ही बात ग्रेजुएशन के बाद भी आपके साथ होती है। ग्रेजुएशन के बाद सबसे ज्यादा जरूरी होता है अपने इंटरेस्ट को समझना। अगर आपको हाई एजुकेशन लेने की इच्छा हो तो आप मास्टर डिग्री जरूर लें या फिर अगर आप पैसे कमाना चाहता हैं तो अपने इंटरेस्ट की नौकरी का चयन करें।
  2. रिसर्च जरूर करें
    ग्रेजुएशन के बाद रिसर्च करना भी बहुत ही जरूरी होता है। आपकी रूचि के अनुसार आपके लिए मास्टर डिग्री बेहतर होगा या फिर जॉब इसके लिए खूब रिसर्च करें। बहुत से फील्ड में नौकरी पाने के लिए मास्टर डिग्री हासिल करना बहुत जरूरी होती है, ऐसे में आगे की पढ़ाई का चयन करना चाहिए। वहीं बहुत से फील्ड ऐसे होते हैं, जहां पढ़ाई से ज्यादा प्रैक्टिकल नॉलेज होना जरूरी होता है, तो फिर अच्छी नौकरी की तलाश करें।
  3. इंटर्नशिप
    ग्रेजुएशन के दौरान इंटर्नशिप करना बहुत अहम होता है क्योंकि इससे आपको जमीनी स्तर पर सीखने को मिलता है। आपका जिस भी फील्ड में इंटरेस्ट हो, ग्रेजुएशन के दौरान उसकी इंटर्नशिप जरूर करें। इससे आपको आगे फैसला लेना आसान हो जाएगा, कि आपको आगे की पढ़ाई करनी चाहिए या फिर नौकरी।
  4. प्रोफेशनल से बात करें
    ग्रेजुएशन के बाद आप जिस फील्ड के साथ भी आगे बढ़ना चाहते हैं, उस फील्ड के प्रोफेशनल से जरूर बाते करने की कोशिश करें। चूंकि प्रोफेशनल उस फील्ड में तत्काल काम कर रहे होते हैं. वैसे में वो आपको ज्यादा अच्छी राय देंगे। वो आपको इंडस्ट्री से जुड़ी परेशानियों और सुविधाओं के बारे में ज्यादा अच्छे से बता सकेंगे। ग्रेजुएशन के बाद आपको मास्टर डिग्री हासिल करनी है या फिर नौकरी, इस बात का अंदाजा भी उनको ज्यादा अच्छे से होता है।

इन बातों का ध्यान रखने से आपको निर्णय लेने में आसानी होगी कि ग्रेजुएशन के बाद आपको मास्टर डिग्री हासिल करनी है या फिर नौकरी। वैसे आप अपने चुने हुए फील्ड के अनुसार निर्णय लें, तो आपके करियर के लिए ज्यादा बेहतर होगा। बहुत से फील्ड ऐसे होते हैं, जिसके लिए आपको मास्टर या फिर डिप्लोमा डिग्री हासिल करनी ही होती है। बिना डिग्री हासिल किए मार्केट में आपको अच्छी सैलरी नहीं मिलती। वहीं बहुत से ऐसे फील्ड भी होते हैं, जहां अनुभव ज्यादा मायने रखते हैं।

 

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.