ये महत्वपूर्ण टिप्स आपको दिलाएंगे National Science Olympiad परीक्षा में सफलता

1378
National Science Olympiad

अच्छे करियर का सपना तो हर युवा देखता है, लेकिन एक उज्जवल भविष्य पाना इतना आसान नहीं होता। चाहे अच्छी नौकरी हो या फिर अच्छे संस्थान में एडमिशन, भारत में युवाओं को इनके लिए कई तरह की प्रवेश परीक्षाओं से गुजरना होता है। प्रतियोगिता परीक्षाएं तो भारत में कई सालों से होती आ रही है, लेकिन दिन-ब-दिन इसमें कॉम्पिटीशन बढ़ता ही जा रहा है। ऐसे में देश में अब आए दिन इन परीक्षाओं की तैयारी के लिए कई सारे संस्थान भी खुलने लगे हैं। कई संस्थान तो ऐसे भी हैं, जो काफी छोटे लेवल से ही परीक्षाओं की तैयारी में छात्रों की मदद करते हैं और साथ हे राष्ट्रीय स्तर की परीक्षाएं आयोजित भी करते हैं। उन्हीं में से एक है नेशनल साइंस ओलंपियाड (NSO)।

क्या है नेशनल साइंस ओलंपियाड (What is National Science Olympiad)?

नेशनल साइंस ओलंपियाड, साइंस ओलंपियाड फाउंडेशन की ओर से आयोजित एक प्रतियोगिता परीक्षा है। ये परीक्षा क्लास १ से लेकर उसके उपर की कक्षाओं तक के छात्रों के लिए आयोजित की जाती है। ये परीक्षा नियमित स्कूल परीक्षाओं के अलावा राष्ट्रीय स्तर की योग्यता परीक्षा है। NSO परीक्षा बच्चों में बड़े पैमाने पर प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी का एक बेहतर माध्यम साबित हुई है। इसके जरिए बच्चों में विषयों को और भी ज्यादा गहराई से जानने और समझने की इच्छा होती है। प्रतियोगिता के इस दौर में बच्चे छोटे स्तर से समय प्रबंधन और एकाग्रता की कला सीखते हैं, जो कि किसी भी परीक्षा में सफलता पाने के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। एनएसओ की परीक्षा केवल अंग्रेजी में ही ली जाती है। हर प्रतियोगिता परीक्षाओं की तरह एनएसओ परीक्षा की तैयारी के लिए भी छात्रों को रणनीति बनाने की जरुरत होती है, तो आइए हम आपको बताते हैं इस परीक्षा की तैयारी के लिए कुछ आसान टिप्स।

कैसे करें नेशनल साइंस ओलंपियाड परीक्षा की तैयारी

एनएसओ परीक्षा के पैटर्न को समझें

किसी भी परीक्षा की तैयारी शुरू करने से पहले आपको उस परीक्षा के पैटर्न को समझना जरूरी है। इसलिए अगर आप एनएसओ की परीक्षा की तैयारी करना शुरू करना चाहते हैं या कर रहे हैं तो सबसे पहले उसके परीक्षा पैटन को अच्छी तरह से समझें। आपके लिए ये जानना बहुत ज़रूरी है कि परीक्षा में किस तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं। साथ ही परीक्षा कुल कितने अंकों की और कितने घंटे की होती है। छात्रों का ये जानना भी बेहद ज़रूरी है कि कैसे ये परीक्षा उनकी स्कूल परीक्षा से अलग है। तैयारी हमेशा परीक्षा के पैटर्न के अनुसार हे करें।

समय प्रबंधन पर ध्यान दें

किसी भी परीक्षा की तैयारी के लिए सबसे ज्यादा ज़रूरी होता है समय प्रबंधन। बेहतर समय प्रबंधन करके आप परीक्षा की तैयारी को आसान बना सकते हैं। वैसे भी ओलंपियाड परीक्षा की तैयारी छात्रों को अपने नियमित पढ़ाई के साथ करनी पड़ती है, इसलिए एनएसओ की तैयारी कर रहे छात्रों पर पढ़ाई का ज्यादा बोझ होता है। इसलिए छात्रों को चाहिए कि वो अपना टाइम मैनेजमेंट ऐसा करें कि दोनों ही परीक्षाओं में अच्छे अंक आएं।

सैंपल पेपर से अभ्यास जरूर करें

परीक्षा की तैयारी करते वक्त हमेशा सैंपल प्रश्न पत्रों को हल करने की सलाह दी जाती है। एनएसओ की परीक्षा के साथ भी ऐसा ही है। सैंपल पेपर को हल करने से आपको परीक्षा में पूछे गए प्रश्नों के पैटर्न, प्रकार और समय सीमा की जानकारी होती है। इसलिए जितना ज्यादा हो सके पुराने प्रश्नों पत्रों को हल करें। इससे आपके रैंक में भी सुधार होता है।

उन छात्रों की मदद लें, जिन्होंने ओलंपियाड की परीक्षा दी हो

आपके आसपास या स्कूल में अगर ऐसे बच्चे हैं, जिन्होंने नेशनल साइंस ओलंपियाड की परीक्षा दी है तो उनकी मदद जरूर लें। वे आपको अपने परीक्षा के अनुभव के बारे में बताएंगे, जिससे आपको तैयारी करने में बहुत मदद मिलेगी। चूंकि वो छात्र पहले परीक्षा में बैठ चुका है तो आपको प्रैक्टिकल रुप से सारी बातें डिटेल से बताने में सक्षम होगा।

संदेह को दूर करें

डाउट यानी कि संदेह आपके आत्मविश्वास को कमज़ोर कर सकता है। इसलिए परीक्षा की तैयारी करते वक्त अगर किसी भी प्रकार का संदेह हो तो उसे ज़रूर दूर करें। इसके लिए आप अपने दोस्त, टीचर, पैरेंट्स या ऑनलाइन टूल्स की मदद ले सकते हैं।

तनाव मुक्त रहें

परीक्षा में सबसे ज़रूरी है तनाव मुक्त रहना। क्योंकि अक्सर छात्र परीक्षा की तैयारी के वक्त तनाव में आ जाते हैं। पढ़ाई का बोझ उनपर इतना ज़्यादा हो जाता है कि तनाव उनपर हावी हो जाता है। लेकिन ऐसा बिल्कुल भी ना होने दें। तनाव में रहने से आपके स्वास्थ्य के साथ- साथ आपकी पढ़ाई पर भी इसका असर होगा, इसलिए कोशिश करें कि तनाव मुक्त होकर परीक्षा की तैयारी करें।

रिवीजन जरूर करें

जब भी आप एनएसओ परीक्षा की तैयारी शुरू करते हैं, तो ध्यान रखें कि शुरू से ही सभी विषयों के संक्षिप्त नोट्स ज़रूर बनाएं। ये नोट्स आपको रिवीजन के वक्त बहुत काम आएंगे। इसलिए नोट्स ज़रूर बनाएं और सभी विषयों का रिवीजन भी ज़रूर करें।

निष्कर्ष

NSO की परीक्षा आयोजित करने वाला साइंस ओलंपियाड फाउंडेशन एक शैक्षिक नींव और एक गैर-लाभकारी संगठन है, जिसे १९९६ में स्थापित किया गया था। इसका कार्यालय नई दिल्ली में है, जो विभिन्न ओलंपियाड परीक्षाओं के माध्यम से भारत में स्कूल के बच्चों के बीच विज्ञान, गणित, सामान्य ज्ञान, प्रारंभिक कंप्यूटर शिक्षा और अंग्रेजी भाषा कौशल को बढ़ावा देता है। इस लेख ने हमने आपसे कुछ इम्पोर्टेन्ट टिप्स शेयर किये हैं जो आपको NSO परीक्षा में सफलता दिलाएंगे।

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.