गिग अर्थव्यवस्था का उत्थान (The Rise of Gig Economy)

111
gig economy

रोजाना 8 घंटे की थकावटी व उदासीन नौकरी करके भी आप, अपनी जरुरतो की पूर्ति लायक आमदनी नहीं कर पाते हैं तो आपको अनिवार्य तौर पर इस ’’ विश्व प्रचलित अर्थव्यवस्था अर्थात् गिग अर्थव्यवस्था ’’ की पूरी जानकारी प्राप्त कर लेनी चाहिए क्योंकि गिग अर्थव्यवस्था आपको आपकी शर्तो के मुताबिक नौकरी करने और मोटी आमदनी करने की पूरी छूट देती है इसलिए यदि 8 घंटे की थकावटी नौकरी करके आप भी परेशान और हताश हो चुके हैं तो आपको घबराने की जरुरत नहीं है बस आपको गिग अर्थव्यवस्था पर आधारित हमारा आज का लेख पढना होगा जिसके बाद आप, अपनी सभी समस्याओ का समाधान प्राप्त कर पायेगे।

गिग अर्थव्यवस्था – इन प्राथमिक बिंदुओ पर होगी हमारी नजर

  1. गिग अर्थव्यवस्था क्या है?
  2. युवाओ के लिए क्या महत्व हैं गिग अर्थव्यवस्था का?
  3. गिग अर्थव्यवस्था में, मिलने वाली नौकरियां व उनके वेतन क्या हैं?
  4. गिग अर्थव्यवस्था से तात्पर्य क्या हैं?
  5. गिग अर्थव्यवस्था के लाभ व हानि कौन-कौन से हैं?
  6. गिग अर्थव्यवस्था की कौन-कौन सी चुनौतियां हैं?

गिग अर्थव्यवस्था क्या है?

जैसा कि, हम, सभी जानते हैं कि, आज का दौर और आने वाला दौर इन्टरनेट का है और हमारा आज का जीवन भी काफी हद तक इन्टरनेट पर ही आधारित हैं और इसी से सीधे तौर पर जुड़ी हैं गिग अर्थव्यवस्था।। गिग अर्थव्यवस्था को यदि हम, सरल शब्दो में, परिभाषित करें तो कुछ इस प्रकार से होगा – गिग अर्थव्यवस्था अर्थात् एक खुला मंच जो कि, इन्टरनेट पर आधारित होता है जहां हम, सीधे तौर पर खुले रुप से अपना लेन-देन कर सकते है अर्थात् किसी तरह के बंदिश का सामना नहीं करना पड़ता हैं।

गिग अर्थव्यवस्था को आप इस प्रकार समझ सकते है कि, आप जहां कहीं भी नौकरी करते है वहां पर आपको कुछ निश्चित नियमो का पालन करना होता है और साथ ही साथ अपने उच्चाधिकारीओ के प्रति आपकी जबावदेही होती है लेकिन जब हम, गिग अर्थव्यवस्था की बात करते हैं तो पाते हैं कि, इस अर्थव्यवस्था में, आप खुले तौर पर अपनी शर्तो के मुताबिक काम कर पाते है और एक मोटी आमदनी कमा पाते हैं अर्थात् आप खुद अपने मालिक होते है।

गिग अर्थव्यवस्था में, किसी भी काम अर्थात् प्रोजेक्ट को करने से पहले ही उसकी कीमत तय कर लेते है ताकि आगे चलकर कोई समस्या ना हो इसलिए गिग अर्थव्यवस्था के तहत आप अपनी सुविधानुसार काम ले पाते है और अपने मुताबिक शर्तो पर काम करके मोटी कमाई कर पाते है इसलिए हम, कह सकते हैं कि, भविष्य की अर्थव्यवस्था के रुप में,  गिग अर्थव्यवस्था को परिभाषित कर सकते हैं।

युवाओ के लिए क्या महत्व है गिग अर्थव्यवस्था का?

हमारे युवाओ की सबसे बडी समस्या हैं बेरोजगारी और यदि किसी तरह नौकरी मिलती भी है तो वेतन कम होता है, काम करने के घंटे ज्यादा होते हैं, लंच के लिए समय कम मिलता है और किसी भी समय नौकरी जाने का डर बना रहता है और यही सब कारण गिग अर्थव्यवस्था को हमारे युवाओ के सुहनरे भविष्य के लिए एक वरदान के तौर पर स्थापित करते है।

गिग अर्थव्यवस्था का महत्व हमारे युवाओ के लिए बेहद कल्याणकारी व लाभकारी है क्योंकि गिर अर्थव्यवस्था में, आप ऑनलाइन जाकर अपनी इच्छित नौकरी कर सकते है, अपने मुताबिक व अपनी क्षमता के अनुसार काम उठा सकते है और काम देने वाले से सीधे-सीधे काम की पूरी कीमत को पहले ही तय कर सकते है व अपनी सुविधानुसार काम करके अर्थात् फ्रीलांसर के तौर पर काम करके मोटी कमाई कर सकते है इसलिए हम, कह सकते हैं कि, गिग अर्थव्यवस्था हमारे युवाओ व विशेषकर बेरोजगार युवाओ के लिए अति लाभकारी व कल्याणकारी है।

गिग अर्थव्यवस्था में, मिलने वाली नौकरियां व उनके वेतन क्या हैं?

गिग अर्थव्यवस्था की विशेषता है कि, इसमें आप किसी एक ही संगठन के साथ जुडकर काम करने के लिए बाध्य नहीं होते बल्कि आप अपनी इच्छानुसार व क्षमतानुसार अनेको संगठनो के साथ काम कर सकते है और किसी बंधी-बंधाई नौकरी से अधिक कमा सकते है।

गिग अर्थव्यवस्था में, इस समय सबसे अधिक वेतन देने वाली नौकरियों में, हम ब्लॉकचेन, सिचर्स, एथिकल हैकिंग, डाटा विश्लेषक व रोबोटिक्स आदि शामिल हैं जो कि, आपको  प्रति घंटे की दर से 80 से लेकर 120 डॉलर तक का भुगतान करती है इसलिए हमारे युवा इस व बेरोजगार लोग, गिग अर्थव्यवस्था की तरफ कदम बढा सकते है व अपनी शर्तो पर काम करके मोटी कमाई कर सकते है।

गिग अर्थव्यवस्था से तात्पर्य क्या है?

अभी तक तो आप गिग अर्थव्यवस्था के बारे में, एक मौलिक विचार स्थापित कर चुके होंगे लेकिन यदि आप अभी भी गिग अर्थव्यवस्था के बारे में, पूरी तरह से नहीं समझ पाये है तो हम, गिग अर्थव्यवस्था की पूरी जानकारी सरल शब्दो में, प्रदान करने के लिए कुछ बिंदुओ की मदद लेंगे जो कि, इस प्रकार से हैं –

  1. गिग अर्थव्यवस्था, इन्टरनेट पर खुली अर्थव्यवस्था है जहां पर सभी पारम्परिक प्रतिबंधो को तोड दिया जाता है अर्थात् व्यापार के दोनो पक्ष अपनी-अपनी शर्तो पर सहमत होकर काम कर पाते हैं अर्थात् यह एक मुक्त बाजार अर्थव्यवस्था है जहां पर आप अपनी शर्तो के मुताबिक अपना काम कर पाते है,
  2. गिग अर्थव्यवस्था के तहत अलग-अलग संगठन अपनी छोटी से लेकर बडी जरुरतो के अनुसार फ्रीलांस के तौर पर लोगो को काम दे पाते है और साथ ही साथ तमाम बेरोजगार लोग भी फ्रीलांसर के तहत कार्य करके अच्छी आमदनी कर सकते है,
  3. गिग अर्थव्यवस्था में, आप पूरी आजादी के साथ एक फ्रीलांसर के तौर पर काम कर सकते है, दीर्धकालीन कामो का ठेका ले सकते है व साथ ही साथ आप एक से अधिक संगठनो के लिए काम करके मोटी कमाई कर सकते है,
  4. इस अर्थव्यवस्था में, आपको प्रतिबंधो अर्थात् समझौतो से मुक्ति मिल जाती है जिसके तहत आप एक प्रोजेक्ट को पूरा करने के बाद अपनी इच्छानुसार किसी भी दूसरे संगठन के लिए व दूसरे प्रोजेक्ट पर काम कर सकते है,
  5. इस अर्थव्यवस्था का पूरी दुनिया मे, तेजी से प्रचार-प्रसार हो रहा है और हम, युवाओ के लिए इस अर्थव्यवस्था को एक खास अवसर के रुप देख सकते है जहां पर हमारे युवा व सभी लोग अपनी शर्तो पर, अपनी कीमतो पर और अपनी रुचि पर काम ले पाते है और अपने उज्जवल भविष्य का निर्माण कर पाते है आदि।

उपरोक्त बिंदुओ की मदद से हमने आपको गिग अर्थव्यवस्था के सभी तात्पर्यो के बारे में, समझाने की कोशिश की ताकि आप इस उभरते हुई नई अर्थव्यवस्था को समझ पाये और इसका लाभ प्राप्त कर सकें।

गिग अर्थव्यवस्था के लाभ व हानि कौन-कौन से हैं?

जिस चीज़ के लाभ होते है उस चीज़ की हानियां भी होती है और ये प्रकृति का एक शाश्वत नियम है। इसी कसौटी पर हम, गिग अर्थव्यवस्था को भी लेते हैं क्योंकि इसके अनेको लाभ भी हैं और हानियां भी हैं जो कि, इस प्रकार से हैं –

गिग अर्थव्यवस्था – लाभ

  1. गिग अर्थव्यवस्था का विश्व में, तेजी से प्रचार-प्रसार हो रहा है और विश्व इस तरफ तेजी से अपने कदम बढा रहा हैं जो कि, एक सकारात्मक तथ्य है,
  2. गिग अर्थव्यवस्था में, हमें असीमित मानव संसाधन देखने को मिलता है क्योंकि इस अर्थव्यवस्था का विस्तार केवल एक कम्पनी, राज्य, देश या नीति तक ही सीमित नहीं है बल्कि इस अर्थव्यवस्था के तहत आप किसी भी देश से किसी भी देश में, मौजूद कम्पनी के लिए काम कर सकते है और कोई भी कम्पनी अपने काम के लिए किसी भी देश के व्यक्ति को नियुक्त कर सकती है इस प्रकार गिग अर्थव्यवस्था में, मानव संसाधन की कोई कमी नहीं होती हैं जिसका सीधा सा अर्थ हैं कि, अनवरत गति से काम चलता रहता है और दोनो पक्षो का विकास होता रहता है,
  3. कई बार हमारे कुछ ऐसे कार्य होते है जिन्हें करने के लिए हमें, विशेष प्रतिभाशाली लोगो की जरुरत होती है जो कि, आसानी से नहीं मिलते हैं लेकिन गिग अर्थव्यवस्था में आपको आपके किसी भी दुर्लभ कार्य के लिए लोग मिल जायेगे अर्थात् आपका काम रुकेगा नहीं,
  4.  इस अर्थव्यवस्था में, कम्पनी अपने छोटे-से-छोटे व बडे-से-बडे कार्यो के लिए अपनी अलग-अलग लागतो पर अंशकालिक व दीर्धकालिक काम दे सकती हैं और इसी प्रकार हमारे नौकरी खोजने वाले लोग इन कामो को करके आमदनी कर सकते है,
  5. नौकरी की खोज मे, मारे-मारे फिरने वाले हमारे लोग समझौते के तहत किसी एक ही पक्ष के साथ नहीं बल्कि अपनी सुविधानुसार अलग-अलग संगठनो के लिए काम करके अधिक मुनाफा कमा सकते हैं आदि।

गिग अर्थव्यवस्था – हानि

  1. किसी भी अन्य क्षेत्र की तरह गिग अर्थव्यवस्था में, भी आपको गला-काट प्रतिस्पर्धा देखने को मिलेगी,
  2. इस अर्थव्यवस्था मे, आपको किसी भी एक कार्य में, उन्नत अर्थात् प्रोफेशनल बनना पडेगा,
  3. गिग इकोनॉमी से पैसा कमाने के लिए आपके भीतर मल्टी-टास्किंग का गुण होना चाहिए,
  4. इस अर्थव्यवस्था में, काम का दबाव व तनाव दो बहुत ज्यादा होते है और किसी भी सूरत मे, निर्धारित कार्य को निर्धारित समय पर उपलब्ध करवाना होता है,
  5. इस क्षेत्र में, आपको मोटी कमाई के विकल्प भी मिलते है तो कभी आपको कम से कम वेतन पर भी कान नहीं मिलता है,
  6. इस अर्थव्यवस्था में, हमारे श्रमिको अर्थात् काम करने वाले लोगो को सामाजिक सुरक्षा व श्रमिक अधिकारो से मिलने वाले लाभो से वंचित होना पडता हैं जैसे कि, निर्धारित समय पर काम पूरा करने के लिए हमें, तबीयत खराब होने पर भी काम करना पडता हैं अर्थात् हमें, छुट्टी नही की सुविधा नहीं मिलती है,
  7. इस क्षेत्र में, नौकरी की गारंटी नहीं होती है अर्थात् आपको कभी भी हटाया जा सकता है जिससे आपको दुबारा बेरोजगारी की समस्या का सामना करना पड सकता है,
  8. इस क्षेत्र में, काम करने से हमारे भीतर अकेलापन घर कर जाता हैं क्योंकि हम, घर पर बैठे-बैठे काम करते हैं जिससे हमारे भीतर समूह बनाकर काम करने का गुण विकसित नहीं हो पाता है जिसकी वजह से हम, अपने कार्यात्मक व्यक्तित्व को पूरी तरह से निखार नहीं पाते है आदि।

उपरोक्त कारणो के आधार पर अपने सभी पाठको व युवाओ को गिग अर्थव्यवस्था के लाभ व हानि की सूची प्रदान की जिसके आधार पर वे इस अर्थव्यवस्था को लेकर अपने विचारो का निर्माण कर सकते है और अपने अनुसार इसका आंकलन करके इसका लाभ प्राप्त कर सकते है।

दो-शब्द

विश्व तेजी से बदल रहा है और इसके सभी प्रतिमानो में, भी तेजी से बदलाव आ रहे है इसलिए हमें, भी समय के साथ बदलना होगा अर्थात् बदलाव को स्वीकार करना होगा लेकिन इसका अर्थ ये नहीं है कि, हम, अपने विवेक का प्रयोग ना करें। गिग अर्थव्यवस्था की पूरी जानकारी हमने आपको प्रदान की जिसके बाद आप अपने विवेक का प्रयोग करके इस अर्थव्यवस्था से खुद को लाभान्वित कर सकते है और इसकी हानियो से खुद को बचाकर अपना सतत विकास कर सकते है और यही हमारा लक्ष्य हैं।

गिग अर्थव्यवस्था का उत्थान को लेकर आपके सवाल और हमारे जबाव

सवाल 1– गिग अर्थव्यवस्था क्या हैं?

जबाव 1– ये एक खुली ऑनलाइन अर्थव्यवस्था है जिसकी मदद से आप एक साथ अपने कम्पनियों से काम प्राप्त  करके फ्रींलासर की  तरह काम करको मोटी कमाई कर सकते है।

सवाल 2– गिग अर्थव्यवस्था का क्या भविष्य है?

जबाव 2– गिग अर्थव्यवस्था का भविष्य बेहद उज्जवल है क्योंकि इसका आधार इन्टरनेट है जिस पर हमारा आज औऱ आने वाला कल आधारित होगा इसलिए हम, कह सकते हैं कि,  गिग अर्थव्यवस्था का भविष्य बेहद उज्जवल है।

सवाल 3– गिग अर्थव्यवस्था की विशेषता क्या है?

जबाव 3– इसकी विशेषता ये है कि, यहां पर आपको स्वतंत्रतापूर्वक फ्रीलांसर की तरह कार्य करने का मौका मिलता हैं जिसके तहत आप अपने प्रोजेक्ट की राशि को पहले ही तय कर लेते है और काम को अपनी शर्तो पर कर पाते है।

सवाल 4– इस अर्थव्यवस्था का नकारात्मक पहलू क्या है?

जबाव 4– इसमें आपको सामाजिक सुरक्षा, श्रमिक अधिकार और नौकरी को लेकर सुरक्षा जैसी सुविधायें प्राप्त नहीं होती हैं जिसकी वजह से आप पर सदा काम समय पर करने का व नौकरी चले जाने का दबाव व तनाव बना रहता है।

सवाल 5– गिग अर्थव्यवस्था के लिए क्या जरुरी है?

जबाव 5– आप किसी एक क्षेत्र मे, माहिर होने चाहिए साथ ही साथ आपके भीतर मल्टी टास्किंग का गुण भी होना चाहिए क्योंकि गला काट प्रतिस्पर्धा का सिद्धान्त कार्य करता हैं इसलिए आपका हर तरह से तैयार होना लाजमी है।

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.