पांच साल बाद खुद को कहाँ देखते हो? ऐसे दें जवाब

1302

युवावस्था की सबसे बढ़ी चुनौती होती है एक अच्छी नौकरी के माध्यम से ऊंचा वेतन प्राप्त करना और एक सुविधाजनक जीवनयापन करना। लेकिन कुछ युवा नौकरी ढूँढने के प्रयास में लिखित परीक्षा से अधिक इंटरव्यू के चरण को अधिक कष्टकारी और कठिन मानते हैं। अपने विषय का समुचित ज्ञान होने के बाद भी कुछ युवा इंटरव्यू में पूछे जाने वाले प्रश्नों से भयभीत होकर गलत जवाब देते हैं और नौकरी पाने का स्वर्णिम अवसर गंवा देते हैं। दरअसल इंटरव्यू का उद्देशय आपके सम्पूर्ण व्यक्तित्व का सही आकलन करना होता है। इसी क्रम में जो प्रश्न पूछे जाते हैं उनमें से एक प्रश्न “पांच साल बाद खुद को कहाँ देखते हो”, प्रतियोगियों के लिए विशेष कठिनाई उत्पन्न करता है। इस प्रश्न का जवाब उनके वर्तमान और भविष्य दोनों को प्रभावित कर सकता है। आइये आपकी इस कठिनाई को दूर करने में मदद करें:

इंटरव्यू लेने वाले क्यूँ पूछते हैं यह प्रश्न:

जब आप इंटरव्यू बोर्ड का सामना करते हैं तो आपके व्यक्तिगत और पेशे से जुड़े प्रश्नों के बाद कुछ अलग प्रकार के प्रश्न भी पूछे जाते हैं। इन प्रश्नों के माध्यम से भावी नियोक्ता आपसे निम्न प्रकार की जानकारी लेना चाहते हैं:

  1. आपका अपने कैरियर को लेकर दीर्घकालीन योजना क्या है ?
  2. आपकी मनपसंद और आदर्श नौकरी कौन सी है ?
  3. आप जिंदगी में क्या चाहते हैं ?
  4. आपके लिए सफलता का क्या अर्थ है ?
  5. आपके कैरियर में सबसे महत्वपूर्ण क्या है ?

इन्हीं प्रश्नों का संक्षेप प्रश्न है की “पांच साल बाद खुद को कहाँ देखते हो”? इस प्रश्न का उत्तर देते समय आपको निम्न बातों का ध्यान रखना होगा : 

  1. उत्तर सरल और सामान्य रखें:

इस प्रश्न का उत्तर देते समय सरलता के नियम को याद रखें। याध्यापि बहुत सीधे-सपाट उत्तर आसानी से भुला दिये जाते हैं, इसलिए अपने उत्तर को विशेष शब्दों का इस्तेमाल करते हुए सामान्य ही रखें । 

  1. कंपनी में दीर्घकालीन रुचि :

इंटरव्यू देते समय अपनी कंपनी के साथ दीर्घकालीन संबंध में रुचि का प्रदर्शन करें। ऐसा करने से कंपनी प्रबंधक आपके व्यक्तित्व और शब्दों का विश्वास कर सकेंगे। 

  1. उत्साह प्रदर्शन:

जिस पद के लिए आप इंटरव्यू दे रहे हैं, उसको करने का उत्साह आपके अंदर है, यह भाव आपके भावी नियोक्ता को आपके प्रति सकारात्मक विचार बनाने में मदद करेगा। 

  1. कला-कौशल का योग्य प्रदर्शन:

पद से जुड़ी चुनौतियों और कठिनाइयों का सामना करने के लिए आपके पास किस प्रकार की योग्यता और कला-कौशल है, इसका प्रदर्शन आपको यहाँ करना है। 

  1. अति उत्साही होने से बचें :

उत्साह और अति उत्साह में बहुत कम अंतर होता है। इस अंतर को ध्यान में रखते हुए अपने उत्साह को वास्तविक रूप में प्रदर्शित करें। अतिशयोक्ति आपके लिए हानिकारक हो सकता है। 

  1. सभी निर्णय न बताएं :

आपके भविष्य के सभी निर्णय इस समय बताने आपके लिए घातक हो सकते हैं। इसलिए स्थितीनुसार अपने निर्णयों से कंपनी को अवगत करवाएँ। 

पाँच वर्ष आप अपने आपको किस पद पर देखना चाहेंगे, किस प्रकार का काम करना पसंद करेंगे या कार्य से अवकाश लेकर कुछ और काम करेंगे , यह आपके इसी प्रश्न के उत्तर पर निर्भर करता है।

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.