फार्मेसी में करियर: कोर्सेज, विकल्प और प्रमुख संस्थान

832
Pharmacy careers

मेडिकल के क्षेत्र में फार्मेसी का हमेशा से बहुत योगदान रहा है। किसी भी बिमारी के इलाज के लिए दवाईयां सबसे जरूरी चीज है। ऐसे में मेडिकल क्षेत्र के युवाओं के लिए फार्मेसी में करियर बनाना एक बेहतर सोच साबित हो सकता है। मार्केट में करियर के तौर पर फार्मेसी की डिमांड हमेशा से रही है। ये एक ऐसा सेक्टर है जहां मंदी के दौरान भी जॉब में कमी देखने को नहीं मिलती। करियर के लिहाज से फार्मेसी एक शानदार सेक्टर है। वास्तव में यह दवाओं की मैन्यूफैक्चर, स्टोरेज और एक डाक्टर के पर्चे के अनुसार दवाओं के डिस्ट्रीब्यूशन का सेक्टर है।  आजकल मेडिकल में हर दिन नई- नई खोज हो रही है, जिसमें फार्मेसी की अहम भूमिका होती है। अगर बात की जाए इसमें रोजगार की तो वैज्ञानिकों, तकनीशियनों और साइंस फील्ड के लोगों के लिए इसमें रोजगार की असीम संभावनाएं हैं।

क्या है फार्मेसी

फार्मेसी का क्षेत्र दवाईयों से जुड़ा होता है। यह दवाओं की तैयारी और वितरण की विज्ञान और तकनीक है। यह एक स्वास्थ्य व्यवसाय है जो स्वास्थ्य विज्ञान से रसायन शास्त्रों को जोड़ता है और दवाइयों के सुरक्षित और प्रभावी उपयोग को सुनिश्चित करने का लक्ष्य रखता है।

फार्मेसी से जुड़े कोर्सेज

  • डिप्लोमा इन फार्मा (डी फार्मा)
  • बैचलर इन फार्मा (बी फार्मा)
  • मास्टर इन फार्मा (एम फार्मा)

 

फार्मेसी की पढ़ाई करने के लिए छात्रों का विज्ञान से 12वीं पास होना जरूरी होता है। 12वीं के बाद छात्र फार्मेसी को अपने करियर के रुप में चुन सकते हैं। इसके बाद आप दो साल का डी फार्मा या चार साल का बी फार्मा कोर्स कर  सकते हैं। इनके अलावे फार्मा में पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स भी उपलब्ध हैं। एम.फार्मा दो साल का कोर्स होता है। इसमें छात्र किसी भी विषय से  स्पेशलाइजेशन कर सकते हैं। एम फार्मा में फार्माकोग्नॉसी, फार्मास्युटिकल इंजीनियरिंग, बायो केमेस्टी, एमबीए जैसे स्पेशलाइजेशन मौजूद हैं। यहां छात्र पीजी डिप्लोमा इन फार्मास्युटिकल एवं हेल्थ केयर मार्केटिंग, डिप्लोमा इन फार्मा मार्केटिंग, एडवांस डिप्लोमा इन फार्मा मार्केटिंग एवं पीजी डिप्लोमा इन फार्मा मार्केटिंग जैसे कोर्स कर सकते हैं।

फार्मेसी का कोर्स कराने वाले देश के प्रमुख संस्थान

  • नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ फार्मास्यूटिकल एजुकेशन एंड रिसर्च, मोहाली
  • कॉलेज ऑफ फॉर्मेसी, दिल्ली विश्वविद्यालय
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मास्युटिकल एजुकेशन एंड रिसर्च, चंडीगढ़
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, वाराणसी
  • पूना कॉलेज ऑफ फार्मेसी, पुणे
  • कॉलेज ऑफ फार्मास्युटिकल साइंसेज, विशाखापट्टनम
  • इंस्टिट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी, मुम्बई

 

फार्मेसी में करियर के विकल्प

फार्मेसी का कोर्स करने के बाद युवाओं के सामने बेहतर करियर के कई रास्ते खुल जाते हैं। अगर पद के तौर पर फार्मेसी में करियर की बात की जाए तो इन प्रमुख पदों पर आप अपना करियर बना सकते हैं।

  • फार्मासिस्ट
  • मेडिकल रिप्रजेंटेटिव
  • मार्केट रिसर्च एनालिस्ट
  • एनालिस्ट केमिस्ट
  • ड्रग इंस्पेक्टर
  • मेडिकल राइटर
  • क्लिनिकल रिसर्च
  • रिसर्च एंड डेवलपमेंट
  • ड्रग कंट्रोलर
  • रिसर्चर
  • मार्केटिंग मैनेजर

 

यहां हैं फार्मेसी में करियर के विकल्प

अगर फार्मेसी में करियर को क्षेत्र के हिसाब से देखें तो ये चार प्रमुख ऑप्शन आपके सामने होते हैं।

  • सरकारी क्षेत्र
  • प्राइवेट क्षेत्र
  • निजी व्यवसाय
  • रिसर्च क्षेत्र
  • शिक्षण क्षेत्र

सरकारी क्षेत्र- यहां राज्य और केंद्र सरकार अस्पतालों, स्वास्थ्य व परिवार कल्याण विभागों और सार्वजनिक दवा उत्पादन कंपनियों के लिए फर्मासिस्ट से जुड़े कई पदों पर नियुक्ति करती है। इसके लिए सरकार की ओर से आवेदन जारी किए जाते हैं।

प्राइवेट क्षेत्र- दवाईयां बनाने वाली कई बड़ी- बड़ी कंपनियां इन्हें बेचने और इनके प्रचार के लिए मेडिकल रिप्रजेंटेटिव यानी एमआर की बड़े पैमाने पर नियुक्तियां करती हैं। इसके लिए वे फार्मेसी में डिप्लोमा या डिग्री किए युवाओं को चुनती हैं।

निजी व्यवसाय- बाजार में आपको हर जगह दवाई की दुकानें देखने को मिल जाती है। ऐसे में आप भी फार्मेसी की डिग्री हासिल कर अपना निजी व्यवसाय कर सकते हैं।

अनुसंधान क्षेत्र- कई सरकारी और निजी कंपनियां नई दवाओं की खोज में लगी रहती है। ऐसे में फार्मेसी से पीएचडी और एम फार्मा किए लोगों को संगठनों द्वारा चुना जाता है।

शिक्षण क्षेत्र- अगर आपने फार्मेसी का कोर्स किया है और पढ़ाने की कला आपमें मौजूद है, तो आप फार्मेसी के शिक्षक के तौर पर काम कर सकते हैं। देश में कई बड़े- बड़े फार्मेसी शिक्षण संस्थान हैं, जहां ये कोर्स करवाए जाते हैं। आप चाहे तो इन संस्थानों में शिक्षक के पद के लिए आवेदन कर सकते हैं।

निष्कर्ष

फार्मेसी एक ऐसा फील्ड है जहां आपको नौकरी के साथ- साथ लोगों की सेवा करने का भी मौका मिलता है। जी हां, आज भारत क्लीनिकल रिसर्च आउटसोर्सिग के क्षेत्र में भी ग्लोबल हब बन कर उभर रहा है। अगर आपकी भी  दिलचस्पी मेडिकल और सेहत से जुड़ी है तो आप फार्मेसी के क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं। फार्मेसी से जुड़ा हमारा ये आर्टिकल आपको कैसा लगा , नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताएं।

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.