केंद्रीय आयुष मंत्रालय का स्वास्थ्य रक्षा कार्यक्रम

1521

केंद्रीय आयुष मंत्रालय ने गाँव में स्वास्थ्य और स्वास्थ्य शिक्षा को बढ़ने के लिए ‘स्वास्थ्य रक्षा कार्यक्रम’ की शुरुआत की हैं। वैसे तो इस कार्यक्रम की शुरुआत प्राकृतिक चिकित्सा, योग, आयुर्वेद, यूनानी, सिद्ध और होमियोपेथी चिकित्सा के मंत्रालय ने अक्टूबर 2015 में ही कर दी थी,पर यह 16 दिसम्बर 2016 को चर्चा में आया जब केंद्रीय आयुष मंत्रालय के मंत्री श्रीपद यस्सो नाइक द्धारा लोक सभा में इस प्रोग्राम के बारे में बताया गया। इस प्रोग्राम को आयुर्वेद विज्ञान के अनुसंधान परिषद (CCRAS), होमियोपेथी के अनुसंधान परिषद(CCRH), यूनानी दवाईयों के अनुसंधान परिषद (CCRUM) और सिद्ध के अनुसंधान परिषद (CCRS) के माध्यम से शुरू किया गया है।

स्वास्थ्य रक्षा कार्यक्रम के उद्देश्य और लक्ष्य :-
  • सभी गाँव में स्वास्थ्य परीक्षण शिविर, स्वास्थ्य रक्षण ओपीडी लगाना और स्वास्थ्य और स्वच्छता के बारे में वहां के लोगो को जागरूक करने के लिए विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन करना ताकि लोग स्वछता और स्वास्थ्य के बारे में और इसके महत्व को जान सके।
  • अपने घर के साथ साथ आस-पड़ोस और पर्यावरण को साफ रखने के बारे में भी लोगो को जागरूक करना।
  • विभिन्न गाँवों में चिकित्सा संबंधी सुविधाएं और तत्कालीन सहायता प्रदान करना।
  • जनसँख्या संबंधी जानकारी, स्वच्छता की स्थिति, लोगो की खान-पान संबंधी आदतों, मौसम और जीने के तरीके इत्यादि की जानकारी का दस्तावेज बनाना। इसके अलावा बीमारियों की पूरी जानकारी और इसकी बढ़ोतरी से संबंधित सारे कारणों के बारे में जान कर इसके दस्तावेज बनाना।
    स्वास्थ्य की स्थितियों का पता लगाना और आयुर्वेद के सिद्धांत “पाठ्य –अपाठ्य” और स्वास्थ्य सुरक्षा सेवा का प्रचार करना।
अब तक स्वास्थ्य रक्षा कार्यक्रम द्वारा किये गए कार्य :-
  • लोगों को जानकारी देने की सामग्री जैसे बैनर्स, होर्डिंग्स, पोस्टर्स और हैंडआउट्स को हिंदी,इंग्लिश और बाकी 07 क्षेत्रीय भाषाओं में तैयार किया गया हैं।
  • हर गांव में साप्ताहिक तौर पर विभिन्न बीमारियों के उपचार के लिये स्वास्थ्य रक्षण ओपीडी का प्रवंध किया गया है। इसके अलावा साप्ताहिक तौर पर स्वास्थ्य परीक्षण शिविरों का प्रबंध भी किया जा रहा है।
  • गाँव में प्रचलित रोगों, यानि ऐसे रोग जो वहां अक्सर फैलते रहते हैं, के बारे में जानने के लिए वहां का निरीक्षण किया गया हैं और लोगो की व्यक्तिगत स्वास्थ्य जाँच भी की जा रही है।
  • स्वास्थ्य को सही रखने के तरीकों और स्वास्थ्य के बारे में पूरी जानकारी देने के लिए रैलियां और नुक्कड़ नाटक किये जा रहे हैं, ताकि अधिक से अधिक लोगो को इसके बारे में पता चल सके।

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.