हिंदी की सबसे ज्यादा हिट फिल्में

860

हिन्दी सिनेमा में हिट फिल्म उसे माना जाता है जो दर्शकों को इतनी अधिक पसंद आती है की वो उसे बार-बार देखना पसंद करते हैं। कुछ समय पहले हिट फिल्मों को सिल्वर जुबली , गोल्डन जुबली और डायमंड जुबली की श्रेणी में बांटा जाता था। 25, 50 और 75 हफ्तों तक सिनेमाघरों में अपना जलवा बिखेरने वाली ये फिल्में किसी न किसी कारण से अन्य फिल्मों से अलग होती हैं और यही कारण इन्हें दर्शकों की पहली पसंद बनाने में मदद करता है। भारतीय सिने जगत की पहली फिल्म जो लुमियर ब्र्दर्स ने 7 जुलाई 1886 में बंबई के वाटसन होटल में दिखाई थी पहली फिल्म और हिट फिल्म मानी जाती है। उसके बाद शुरू हुआ मूक फिल्मों का दौर जो आगे चलकर सवाक और फिर श्वेत-श्याम से रंगीन फिल्मों तक का सफर चलता रहा जो आज भी जारी है। इसी सफर में अनेक फिल्में लोगों ने इतनी पसंद करीं की उनके नाम से अनेक रिकॉर्ड भी बन गए।

सिनेमा के शुरुआती दौर में फिल्मी कथानक धार्मिक, पौराणिक और देश प्रेम से प्रेरित होते थे। इसके अलावा देश उस समय अनेक सामाजिक परिवर्तन के दौर से गुजर रहा था। साहित्य समाज का दर्पण होता है इसी कथन के आधार पर हिन्दी फिल्में भी इन समस्याओं को प्रदर्शित करते हुए हिट हो गईं। आइये हिट फिल्मों के सफर का जायजा लेते हैं:

  1. राजा हरिश्चंद्र :

1930 में दादा साहब फाल्के द्वारा बनाई सबसे पहली फिल्म थी। मूक फिल्म होने पर भी लोगों के मनोरंजन के कारण इसे बहुत पसंद किया गया।

  1. आलम आरा :

1931 में आर्देशर ईरानी की बनाई पहली सवाक फिल्म जो पहली सवाक हिट फिल्म भी थी।

  1. दो बीघा जमीन :

भारतीय किसान की दुर्दशा को बलराज साहनी ने पर्दे पर जीवंत कर दिया था।

  1. आवारा:

एक बच्चे के व्यक्तित्व विकास में माता-पिता के साथ ही वातावरण का भी प्रभाव होता है, इसका चित्रण राजकपुर ने बखूबी किया था।

  1. मदर इंडिया :

राज कुमार और नर्गिस की यह फिल्म आज भी दर्शकों के आँसू लाने में सफल होती है। क्रूर जमींदार के हाथों से कैसे एक माँ अपने परिवार को पालती है इसका नर्गिस ने बखूबी चित्रण किया था।

  1. प्यासा :

एक फिल्म डायरेकर और अभिनेत्री के रोमांस को गुरुदत्त और वहीदा रेहमान ने मानो असलियत का जामा पहना दिया था।

  1. मुगलेआजम:

एक राजकुमार की प्रेम कहानी का दुखद अंत और तकनीकी दृष्टि से अद्भुत यह फिल्म आज भी दर्शकों की पहली पसंद है।

  1. शोले :

सदी के महानायक अमिताभ बच्चन और अन्य कलाकारों के अभिनय से सजी मुंबई के सिनेमा घरों में वर्षों तक दर्शकों का मन बहलाने का रिकॉर्ड अपने नाम रखती है।

  1. जागते रहो :

राजकपूर के अभिनय से सजी सामाजिक एकता की बेहतरीन मिसाल बनी यह फिल्म आज तक बेजोड़ है।

  1. आनंद :

किसी भी परिस्थिति में मुसकुरा के जीवन जीने की कला सिखाने में यह फिल्म आज भी अपना अलग ही स्थान रखती है।

  1. मैंने प्यार किया :

युवा प्यार को सलमान खान और भाग्यश्री ने इस प्रकार जिया की हर उम्र के दर्शकों की पहली पसंद बन गयी।

  1. रंग दे बसंती :

आधुनिक युवा भी देश प्रेम से अछूता नहीं है यह संदेश इस फिल्म ने बहुत खूबसूरती से दिया।

  1. तारे ज़मीन पर :

हर बच्चा अपने आप में अलग और मासूम होता है, उसकी जरूरत को समझना माता-पिता ही नहीं अध्यापक वर्ग की ज़िम्मेदारी है, इस संदेश को इस फिल्म से ही सीखा गया

  1. 3 इडियट्स :

शिक्षा प्राप्त करने के लिए केवल किताबी ज्ञान ही नहीं व्यावहारिक गईं और समझ भी होना जरूरी है, यही इस फिल्म का संदेश था जिसे दर्शकों ने खूब पसंद किया

यह सूची सभी हिट फिल्मों को शामिल करने में असमर्थ है।

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.