अगर आपको आर्ट्स पढ़ना अच्छा लगता है, तो आप चुन सकते हैं ये बेहतरीन करियर विकल्प

829
career in arts

अक्सर आपने लोगों को ये कहते सुना होगा कि बेहतर करियर ऑप्शन तो साइंस और कॉमर्स स्ट्रीम से पढ़ाई करने वालों के पास ही होता है। आर्ट्स में करियर ऑप्शन नहीं होता, लेकिन हम आपको बता दें कि ये एक गलत सोच है। क्योंकि आर्ट्स में भी भविष्य निश्चित रुप से अच्छा है। आर्ट्स स्ट्रीम में भी करियर के बहुत सारे बेहतरीन विकल्प मौजूद हैं। जहां आप अपना अच्छा करियर और मोटी कमाई कर सकते हैं। बारहवीं के बाद आर्ट्स वाले ज्यादातर स्टूडेंट्स परेशान होते है, कि वो कौन से फील्ड में अपना करियर बनाएं। तो ऐसे में आपको सबसे पहले तो अपने स्किल को पहचनना चाहिए और फिर करियर ऑप्शन की तलाश करनी चाहिए। चलिए आर्ट्स वाले स्टूडेंट्स की कुछ परेशानी हम कम कर देते हैं और आपको बताते हैं बारहवीं के बाद क्या हैं आर्ट्स में बेहतर करियर विकल्प।

बैचलर ऑफ आर्ट्स (B.A.)–  बारहवीं के बाद आर्ट्स के छात्रों के लिए ये सबसे पहला विकल्प है। आर्ट्स में पॉलिटिक्ल साइंस, सोशल साइंस, हिस्ट्री, जियोग्राफी जैसे बहुत से विषय हैं, जिनका गहन अध्ययन किया जा सकता है। इसके बाद इन विषयों में महारथ हासिल करने के लिए बीए के बाद आगे की पढ़ाई जारी रखी जा सकती है। इसके बाद आपके पास भारतीय सिविल सेवा प्रवेश परीक्षा, डिफेंस और अन्य क्षेत्र की प्रवेश परीक्षा और नौकरी के लिए आवेदन करने के विकल्प मौजूद होते हैं|

बीए एलएलबी (BA L.L.B.)- बैचलर ऑफ आर्ट्स एंड बैचलर ऑफ लॉज एक बहुत ही बेहतरीन करियर विकल्प है। एक सफल अधिवक्ता यानी वकील होना खुद में भी बहुत गरिमापूर्ण वाली बात होती है। बीए एलएलबी एक लॉ कोर्स है। जिसके लिए उम्मीदवारों को बारहवीं पास होना जरूरी होता है। इसके बाद बीए एलएलबी का कोर्स ५ साल का होता है। इस कोर्स को करने के लिए एंट्रेंस एग्जाम क्लीयर करना पड़ता है।

ऑर्कीऑलजिस्ट– अगर आपको भारत की सभ्यता- संस्कृति और इसके इतिहास, भूगोल को जानने और पढ़ने में रुचि है तो आप अपनी आगे की पढ़ाई ऑर्कीऑलजिस्ट के लिए जारी रख सकते हैं। हमारे यहां भौतिक पुरातत्व की धरोहरों आदि को सुरक्षित रखने लिए अच्छे ऑर्कीऑलजिस्ट की जरुरत है। बहुत सी यूनिवर्सिटी ऑर्कीऑलजिस्ट के कोर्स को करवाती है। इसके बाद अच्छे करियर ऑप्शन के लिए आप इसमें आगे की पढ़ाई भी कर सकते हैं।

लेक्चरर– आर्ट्स के अंदर बहुत सारे विषय सम्मिलित होते हैं। आप अपनी रुचि के अनुसार उनमें से किसी भी एक सब्जेक्ट को लेकर आगे की एजुकेशन प्राप्त कर सकते हैं। जिसके बाद TET जैसे एंट्रेंस एग्जाम देकर किसी भी अच्छे यूनिवर्सिटी और कॉलेज में लेक्चरर के तौर पर अपना करियर बना सकते हैं।

बीए इन मास कम्यूनिकेशन (BA MASS COMM.)- आजकल मास कम्यूनिकेशन के फील्ड में करियर ऑप्शन की भरमार है। रेडियो, टीवी, सोशल मीडिया और प्रिंट मीडिया सभी में जर्नलिज्म के स्टूडेंट की डिमांड है। इसलिए इसमें डिग्री हासिल करना भी एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है। इसमें डिप्लोममा कोर्सेस भी करवाए जाते हैं।

ट्रांसलेटर– अगर आप आर्ट्स के स्टूडेंट हैं और हिंदी, अंग्रेजी या किसी और भाषा में आपकी अच्छी पकड़ है, तो आपके पास ये भी एक अच्छी स्किल है। आप अपने इस स्किल का इस्तेमाल कर के एक ट्रांसलेटर के रुप में भी अपना करियर बना सकते हैं। इसमें डिग्री और डिप्लोमा दोनों कोर्सेज करवाए जाते हैं।

ज्वैलरी डिजाइनिंग– आर्ट्स से बारहवीं पास किए छात्र ज्वैलरी डिजाइनिंग में भी अपना करियर बना सकते हैं। भारत में ज्वैलरी को लेकर क्रेज बहुत ज्यादा है। हमारे देश में बहुत सारे ऐसे कॉलेज हैं जहां इससे संबंधित कोर्स करवाए जाते हैं। इसमें सैलरी भी अच्छी खासी मिलती है।

इवेंट मैनेजमेंट– आर्ट्स से पढ़ाई करने वाले स्टूडेंट इवेंट मैनेजमेंट में भी अपना करियर संवार सकते हैं। ये फील्ड विश्वस्तर पर काफी तेजी से फैल रहा है। आप इसमें भी डिग्री और डिप्लोमा दोनो कोर्सेज कर सकते है।

इन सब के अलावे भी आर्ट्स में रूचि रखने वाले छात्रों के पास बहुत सारे ऐसे करियर ऑप्शन हैं, जिसमें वो अपनी जिंदगी संवार सकते हैं।

  • बैचलर ऑफ आर्किटेक्चर (Arch)
  • बैचलर ऑफ फिजिकल एजुकेशन (B.P.ED)
  • बैचलर ऑफ एलीमेंट्री एजुकेशन (B.L.ED)
  • डिप्लोमा इन एलीमेंट्री एजुकेशन (D.L.ED)
  • बैचलर ऑफ रिटेल मैनेजमेंट (B.R.M)
  • डिप्लोमा इन एयर होस्टेज (D.A.H.)
  • बैचलर ऑफ बिज़नेस स्टडीज (B.B.S)
  • बैचलर ऑफ फाइन आर्ट्स (B.F.A)

निष्कर्ष

इतना ही नहीं आर्ट्स से पढ़ाई करने वाले छात्रों के पास और भी कई करियर ऑप्शन मौजूद हैं। ये छात्र कई सरकारी नौकरियों के लिए भी आवेदन कर सकते हैं। देश सेवा, राज्य सेवाओं से जुड़ी कई भर्तियां समय- समय पर निकलती रहती है। इससे संबंधित किसी भी तरह की जानकारी सांझा करने के लिए कमेंट बॉक्स में कमेंट करें।

 

Leave a Reply !!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.