सीखें स्टीव जॉब्स से अनोखे लीडरशिप के सात गुर

40

तकनीकी क्रांति ने कागज और कलम का स्थान कंप्यूटर को दे दिया था। इसके बाद ऑफिसों में रक्खे बड़े कंप्यूटर को आम आदमी के हाथ में लैपटॉप और मोबाइल के रूप में पहुंचाने का श्रेय एक साधारण व्यक्तित्व वाले असाधारण व्यक्ति को जाता है। स्टीव जॉब्स ने कालेज ड्रॉप आउट होते हुए भी दुनिया के हाथों में आईपैड , आईपॉड और आई फोन जैसे आधुनिकतम गैजेट पहुंचा दिये। उनके इसी करिश्मे के कारण स्टीव जॉब्स को बिजनेस गुरु के रूप में जाना जाता है।

स्टीव जॉब का प्रारम्भिक जीवन:

1955 में कैलिफोर्निया में जन्म देने वाले माँ-बाप ने स्टीव को जन्मते ही गोद देने का फैसला किया और पहले बार के अस्वीकार के बाद जिन्होनें इन्हें गोद लिया,उन्होने वास्तविक माता-पिता का फर्ज निभाया। औपचारिक शिक्षा में कोई खास रुचि न होने पर भी 17 वर्ष की उम्र में स्टीव ने वीडियो डेवेलपिंग कंपनी में काम शुरू करके अगले चार वर्ष अपने जीवन के उद्देशय को ढूँढने में व्यतीत किए। 21 वर्ष की उम्र में अपने एक मित्र के साथ पहला पर्सनल कंप्यूटर बना कर ‘एप्पल’ कंपनी की नींव  रखी। यहाँ से स्टीव का व्यावसायिक कॅरियर ऊपर-नीचे का पड़ाव पार करता हुआ एप्पल से निकासी, वापसी, ‘नेक्स्ट’ और ‘पिक्सर’ जैसी सॉफ्टवेयर कंपनियों को शुरू करके उन्हें शीर्ष पर पहुंचा दिया। 2011 में मृत्यु होने तक स्टीव डिजिटल दुनिया का एक स्थापित नाम बन चुके थे।

स्टीव जॉब्स के विशेष लीडरशिप गुण :

वो  क्या गुण थे जिन्होनें स्टीव को एक अनोखा लीडर बना दिया, आइये देखते हैं :

  1. ध्यान केन्द्रित करो :

स्टीव का पहला मूल मंत्र है, एक अच्छे नेता को एक समय में केवल एक ही काम पर अपना ध्यान केन्द्रित करना चाहिए। अगर कोई निर्णय लेना है तो वो सभी अनावश्यक तत्वों पर से ध्यान हटा दें, जिनसे किसी प्रकार का तात्कालिक लाभ नहीं होगा।

  1. सरलता अपनाओ :

लियोनोर्डो दी विंची के कथन “सरलता में ही सुंदरता है” को मूल मंत्र मानकर स्टीव ने अपने सभी उत्पादों के निर्माण में इस कथन को आत्मसात किया है। एक अच्छे नेता को कोई भी निर्णय लेते समय उसके क्रियान्वयन में सरलता का ध्यान रखना चाहिए।

  1. काम में सुंदरता लाओ :

सुंदरता और सरलता के समर्थक स्टीव ने अपने उपभोक्ताओं और उनके द्वारा झेली जाने वाली कठिनाइयों को सरलता और सुंदर रूप में हल करने का प्रयास किया। इस प्रकार एक अच्छे नेता में किसी भी कठिनाई के हल को सरल और सुंदर तरीके से हल करने का हुनर होना चाहिए।

  1. नवीनतम शोध :

स्टीव का मानना था की सफलता केवल नयी शोध में ही नहीं बल्कि पुरानी समस्याओं के नवीन हल को खोजने में भी निहित होती है। इस प्रकार एक सफल नेता को वर्तमान समस्याओं के नवीन हल खोजने आने चाहिए।

  1. अधिकारिता :

‘सपने बेचो उत्पाद नहीं’ इस प्रेरणा के साथ ही स्टीव अपनी टीम को आगे बढ्ने के लिए प्रेरित करते थे। केवल लाभ कमाने का उद्देशय मानवीय भावनाओं की अनदेखी कर सकता है, इस तथ्य का ध्यान प्रत्येक नेता को रखना चाहिए।

  1. दृष्टिकोण :

एक अच्छे नेता का दृष्टिकोण भावी परिस्थितियों का आकलन करने में समर्थ होना चाहिए। अपने समूह की मुश्किलों का पता करने के लिए वार्तालाप जरूरी है, लेकिन उनका हल आपको स्वयं ढूँढना है।

  1. आत्मविश्वास मूलमंत्र:

असंभव को संभव करके सफल होना है स्टीव जॉब की सफलता का मूल मंत्र है। उनका आत्मविश्वास जिसके बूते पर हर समस्या का हल पूरे आत्मविश्वास से निकाला था।

इस प्रकार स्टीव जॉब्स ने असाधारण परिस्थितियों में जीवन व्यतीत करते हुए अत्यंत असाधारण कीर्तिमान स्थापित किए।

Comments