कैसे करें असिस्टेंट कमांडेंट परीक्षा की तैयारी

56

चयन प्रक्रिया: 
असिस्टेंट कमांडेंट परीक्षा दो भाग में होती है, पहले लिखित परीक्षा होती है जिसमें दो पेपर होते हैं । पहले जनरल एबिलिटी व इंटेलिजेंस का ऑब्जेक्टिव टाइप पेपर होता है| दूसरा पेपर कॉम्प्रिहेंशन (हिंदी व अंग्रेजी दोनों में), निबंध, और  जनरल स्टडीज का होता है | जो लिखित परीक्षा पास कर लेते हैं उनका का मेडिकल स्टैंडर्ड टेस्ट और  फिजिकल एफिशिएंसी टेस्ट होता है । इस परीक्षा में जो उम्मीदवार क्वालिफाई करते हैं , उन्हें इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है ।

प्रथम पेपर :

यह जनरल एबिलिटी और इंटेलीजेंस का होता है। यह दो घंटे का ऑब्जेक्टिव प्रकार का पेपर है। इसमें कुल 250 अंकों के प्रश्न पूछे जाते हैं | यह पेपर हिदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में होगा। छात्र अपनी सहूलियत से भाषा का चयन कर सकते हैं। इसमें सामान्य ज्ञान, गणित और रीजनिग के प्रश्न पूछे जाते हैं।

दूसरा पेपर :

यह पारंपरिक तरह का पेपर है, जिसमें दीर्घ उत्तरीय प्रश्न पूछे जाते हैं। पेपर में निबंध, प्रेसिस राइटिग और कॉम्प्रीहेंशन आते हैं। यह पेपर कुल 200 अंकों और तीन घंटे का होता है। इसमें पूछा जाने वाला एस्से हिदी या अंग्रेजी किसी भी भाषा में लिखा जा सकता है। जबकि अन्य पूछी जानेवाली चीजें सिर्फ इंगलिश में दी जाती हैं। 300 शब्दों के चार निबंध लिखने के लिए भी आ सकते हैं। इसके अलावा दो प्रेसिस, दो पैसेज, दो रिपोर्ट लिखनी होती है। इनसे अलग व्याकरण के 30 प्रश्न और भी पूछे जाते हैं।

कैसे करें तैयारी :

यूपीएससी द्बारा आयोजित सीएपीएफ असिस्टेंट कमांडेंट परीक्षा की बेहतर तैयारी के लिए अभ्यर्थियों को चाहिए कि वे आइएएस और सीडीएस के पेपरों की मदद लें। इसमें पूछे जानेवाले करेंट अफेयर्स, भूगोल, इतिहास आदि के प्रश्न सीएपीएफ असिस्टेंट कमांडेंट की परीक्षा में भी पूछे जाते हैं।
-इस परीक्षा में इंगलिश सेक्शन बहुत महत्वपूर्ण होता है। खासतौर से दीर्घउत्तर वाले प्रश्नपत्र में इंगलिश के चार एस्से लिखने होते हैं। सारे एस्से करेंट टॉपिक से संबंधित होते हैं। इसलिए तैयारी के लिए अच्छी भाषा के साथ ही विषयों का गहरा ज्ञान भी जरूरी है। इसकी तैयारी के लिए छात्रों को ऑब्जेक्टिव इंगलिश, डिस्कि्रपटिव इंगलिश की बेहतरीन किताब से मदद लेनी चाहिए। अच्छी किताब से निबंध लिखने के प्रारूप को सीखें। इसके साथ ही लिखने की रफ्तार को बेहतर करने पर ज्यादा जोर देना चाहिए।

 

Comments